ईट भट्ठा मजदूरों को योजनाओं से लाभान्वित कराया जाये-सीडीओ - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Wednesday, December 30, 2020

ईट भट्ठा मजदूरों को योजनाओं से लाभान्वित कराया जाये-सीडीओ

फतेहपुर, शमशाद खान । बुधवार को कलेक्ट्रेट स्थित महात्मा गांधी सभागार में जिला श्रम बन्धु, जिला टास्क फोर्स एवं बाल श्रम उन्मूलन की बैठक मुख्य विकास अधिकारी सत्य प्रकाश की अध्यक्षता में संपन्न हुई। जिसमें कई बिन्दुओ पर दिशा निर्देश दिये गये। 

मुख्य विकास अधिकारी सत्य प्रकाश ने बैठक को सम्बोधित करते हुये कहा कि ईंट भट्ठों में काम करने काले श्रमिको का शत प्रतिशत पंजीकरण कराकर श्रम विभाग में केन्द्र व प्रदेश सरकार की चल रही योजनाओं से लाभान्वित कराया जाय। क्योकि श्रमिको व उनके बच्चों का पंजीकरण होने पर जन्म से लेकर, शिक्षा, विवाह तक योजनाएं है जिसका लाभ मिल सके। उन्होंने कहा कि काम के दौरान मजदूर की मृत्यु होने की दशा में रूपये 5 लाख एवं कार्य क्षेत्र के बाहर सामान्य मृत्यु की दशा में रूपये 2 लाख की धनराशि मृतक के आश्रित को दी जाएगी और बाल विद्या श्रमिक योजना के तहत माता-पिता की मृत्यु पर एवं दिव्यांगता व असाध्य रोग हो ऐसे पंजीकृत

श्रम बन्धु की बैठक लेते सीडीओ सत्य प्रकाश।

श्रमिको के बच्चों को एक हजार बालक को बारह सौ रूपये बालिका को प्रत्ति माह की दर से भुगतान किया जाएगा। उन्होंने सहायक श्रमायुक्त अधिकारी को निर्देश दिए कि पंजीकृत श्रमिकों की सूची एलडीएम को उपलब्ध कराये ताकि उनका खाता खोला जा सके। उन्होंने कहा कि विभाग में श्रमिको से संबंधित योजनायें चल रही है उनकी वाल पेंटिंग, पम्पलेट आदि के माध्यम से प्रचार-प्रसार किया जाए ताकि श्रमिको को लाभ मिल सके। सहायक श्रमायुक्त ने बताया कि मातृत्व शिशु एवं बालिका मदद योजना के तहत पंजीकरण महिला, पुरुष श्रमिकों को पंजीकरण के उपरांत 2 वर्षों तक तथा महिला श्रमिकों 3 माह के न्यूनतम मजदूरी के बराबर तथा पुरुष कामगार की पत्नियों को छः हजार रूपये की आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी। अंत्येष्टि सहायता योजना अंतर्गत मृत्यु के सभी प्रकरणों चाहे वह कार्यस्थल पर घटित दुर्घटना के कारण कार्य हुई हो या फिर किसी अन्य प्रकार से कार्य हुई हो उन्हे समान रूप से मृतक पंजीकृत निर्माण श्रमिक के आश्रितों को पचीस हजार रूपये की सहायता दी जाएगी। महात्मा गांधी पेंशन योजना अंतर्गत पंजीकृत महिला व पुरुष श्रमिकों के 60 वर्ष की उम्र पूर्ण करने एवं 10 वर्ष तक बोर्ड का निरंतर सदस्य रहने की स्थिति में एक हजार रूपये प्रति माह पेंशन सहायता प्रदान की जाएगी। निर्माण कामगार पुत्री विवाह योजना अंतर्गत पंजीकृत महिला व पुरुष श्रमिकों के पुत्रियों के विवाह हेतु 18 वर्ष की आयु पूर्ण होने पर पचपन हजार रूपये की आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी जबकि अंतर जाति विवाह की दशा में हितलाभ एकसठ हजार रूपये एवं सामूहिक विवाह की दशा में पैसठ हजार रूपये प्रदान की जाएगी बशर्ते कि पंजीकृत श्रमिक पंजीयन के उपरांत 100 दिन की बोर्ड की सदस्यता अवधि पूर्ण कर चुका हो। अक्षमता पेंशन योजना अंतर्गत पंजीकृत महिला व पुरुष श्रमिकों के दुर्घटना बीमारी के कारण पूर्ण एवं स्थाई रूप से अक्षम होने पर नियमित एक हजार रूपये प्रति माह बतौर पेंशन आर्थिक सहायता संपूर्ण जीवन प्रदान की जाएगी। आवास सहायता योजना अंतर्गत पंजीकृत श्रमिकों को उसकी जमीन पर आवास बनाने हेतु रुपया एक लाख की धनराशि दो किस्तों में दी जाएगी प्रथम किस्त रुपया पचास हजार आवेदन करने पर तथा द्वितीय किस्त 50 हजार इस आशय का प्रमाण पत्र प्रस्तुत करने पर कि निर्माण कार्य 50ः पूर्ण करा लिया गया है। पंजीकृत श्रमिक पंजीयन से 5 वर्ष की अवधि पूर्ण कर लिया हो तथा आवेदक की उम्र 55 वर्ष से कम हो पात्र होगा। इस अवसर पर जिला कार्यक्रम अधिकारी जया त्रिपाठी, एलडीएम, यूपी नेडा, प्रभारी सीएमओ डॉ0 जौहरी, सीओ, ईओ नगर पालिका सहायक श्रमायुक्त सहित ईंट भट्ठों के मालिक उपस्थित रहे।


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages