नकली खाद फैक्ट्री का भंडाफोड़, लाखों का माल बरामद - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Wednesday, December 9, 2020

नकली खाद फैक्ट्री का भंडाफोड़, लाखों का माल बरामद

पुलिस व कृषि विभाग की संयुक्त टीम ने उर्वरक विक्रेता के गोदाम में की छापेमारी

अभियुक्तों के खिलाफ गैंगेस्टर व कुर्की की होगी कार्रवाई: एसपी 

फतेहपुर, शमशाद खान । शहर क्षेत्र के राधानगर इलाके मंे पिछले काफी समय से उर्वरक विक्रेता के गोदाम मंे चल रही नकली खाद फैक्ट्री का एसओजी, कोतवाली पुलिस व जिला कृषि विभाग की संयुक्त टीम ने छापेमारी करके भंडाफोड़ कर दिया। मौके से पुलिस ने फैक्ट्री चलाने वाले उर्वरक विक्रेता समेत उसके पुत्र को हिरासत में लेकर भारी मात्रा में बनी नकली खाद, बोरियां व नकली खाद बनाने का सामान बरामद किया है। जिसकी कीमत कई लाख रूपये है। इतना ही नहीं अब तक एक हजार बोरी माल बेंचा भी जा चुका है। जिसकी कीमत लगभग बारह लाख रूपये है। पुलिस अधीक्षक ने इस बड़ी कामयाबी पर टीम की जमकर प्रशंसा की। 

पत्रकारों से बातचीत करते एसपी सतपाल अंतिल व टीम के साथ पीछे खड़े अभियुक्त।

बुधवार को पुलिस लाइन के सभागार में पत्रकारों से बातचीत करते हुए पुलिस अधीक्षक सतपाल अंतिल ने बताया कि अपराध एवं अपराधियों के विरूद्ध चलाये जा रहे अभियान के तहत अपर पुलिस अधीक्षक व पुलिस उपाधीक्षक नगर के कुशल नेतृत्व में कोतवाली पुलिस व क्राइम ब्रांच प्रभारी के साथ-साथ कृषि विभाग ने बांदा सागर रोड राधानगर स्थित थोक उर्वरक विक्रेता मे0 अमित एजेन्सी के गोदाम में छापेमारी की। टीम को सूचना मिली थी कि गोदाम से नकली खाद निर्माण करके बंेची जा रही है। टीम ने मौके से फर्म के प्रोपराइटर सोहनलाल पुत्र श्रीचन्द्र पाल व उसके पुत्र अतुल सिंह निवासीगण राधानगर को हिरासत में ले लिया। मौके से चार गोदाम से काफी मात्रा में उर्वरक एवं गेहूं बीज उपलब्ध पाया गया। निरीक्षण के समय उपरोक्त व्यक्त्यिों द्वारा गोदाम में उपलब्ध जिप्सम की बोरियों को प्रचलित ब्रांड इफ्को डीएपी, उत्तम डीएपी की बोरियों में पलट कर सिलाई मशीन से सिलाई की जा रही थी। पुलिस अधीक्ष्ज्ञक ने बताया कि गोदाम में क्रभको, इफको उत्तम एवं आईपीएल जैसे प्रसिद्ध कम्पनी की डीएपी की खाली बोरियां व पैकिंग हेतु सिलाई मशीन एवं धागे की रील एवं लच्छी भी उपलब्ध पायी गयी। जिसमें जिप्सम की पैकिंग डीएपी के रूप में की जानी थी। टीम ने गोदाम से खुशबू ब्राण्ड जिप्सम की 500 बोरियां अनुमानित कीमत तीन लाख रूपये, नकली डीएपी की 263 बोरियां अनुमानित कीमत 315600 रूपये, एक हजार बोरी माल बेचा जा चुका है जिसकी अनुमानित कीमत 12 लाख रूपये उपलब्ध पायी गयी। इसके अलावा विभिन्न कम्पनियों की 596 बोरी सिंगल सुपर फास्फेट, सल्फर, पोटास, माईक्रो न्यूट्रियन्ट्स एवं जिंक आदि विभिन्न उत्पाद कीमत लगभग 15 लाख रूपये है। एसपी ने बताया कि जिला कृषि अधिकारी द्वारा उपलब्ध उर्सरक स्टाक से 11 नमूने एवं 8 बीज के नमूने ग्रहीत किये गये हैं। जिन्हें विश्लेषण के लिए प्रयोगशाला भेजा जायेगा। पूछताछ में अभियुक्तों ने बताया कि नकली डीएपी आदि की सप्लाई जनपद के साथ-साथ आस-पास के जनपदों में थोक एवं फुटकर की जाती थी। जिसके सम्बन्ध में अन्य जानकारी भी हासिल की जा रही है। खुलासा करने वाली टीम में पुलिस उपाधीक्षक नगर संजय कुमार सिंह, कोतवाली प्रभारी रवीन्द्र श्रीवास्तव, उपनिरीक्षक प्रभुनाथ यादव, कांस्टेबल विष्णुदेव सिंह, अभिजीत यादव, महिला कांस्टेबल वर्षा उपाध्याय, बृजेश कुमार यादव, एसओजी प्रभारी विनोद मिश्रा, उपनिरीक्षक विपिन यादव, हेड कांस्टेबल राजेश सिंह, कांस्टेबल पंकज सिंह, अतुल त्रिपाठी, अजय पटेल, अमित दुबे के अलावा जिला कृषि अधिकारी बृजेश सिंह, वरिष्ठ सहायक कृषि अमजद जाफरी व रमेश चन्द्र शामिल रहे। 


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages