भारत बंद का नहीं दिखा असर, विपक्षी दलों ने किया हो-हल्ला - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Tuesday, December 8, 2020

भारत बंद का नहीं दिखा असर, विपक्षी दलों ने किया हो-हल्ला

सपाईयों ने कलेक्ट्रेट में की तालाबंदी, कार्य से विरत रहे अधिवक्ता, आप ने दी गिरफ्तारी

डीएम-एसपी समेत अधीनस्थों ने बाजार का भ्रमण कर लिया जायजा

फतेहपुर, शमशाद खान । केन्द्र सरकार द्वारा लाये गये तीन कृषि कानूनों का विरोध करते हुए किसानों द्वारा किये जा रहे आन्दोलन एवं प्रदर्शन का समर्थन करते हुए विपक्षी दलों द्वारा मंगलवार को भारत बंद का ऐलान किया गया था लेकिन इस ऐलान का असर नहीं दिखाई दिया। बाजार पूरी तरह से खुले रहे। उधर विपक्षी दलों ने जगह-जगह हो-हल्ला किया। जिससे निपटने के लिए पुलिस प्रशासन द्वारा पहले ही तैयारियां कर ली गयी थी। कुछ सपाईयों को पहले ही पुलिस द्वारा नजरबंद कर दिया गया था। वहीं कुछ सपाईयों ने कलेक्ट्रेट पहुंचकर तालाबंदी कर विरोध जताया। उधर जिला व शहर कांग्रेस कमेटी के पदाधिकारियों ने गांधी मैदान में शांतिपूर्ण धरना-प्रदर्शन कर कृषि कानूनों का विरोध जताया। वहीं आम आदमी पार्टी के पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता जुलूस निकालकर कलेक्ट्रेट जाते समय पटेलनगर चैराहे पर पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। भारत बंद का जायजा लेने के लिए जिलाधिकारी संजीव सिंह, पुलिस अधीक्षक सतपाल अंतिल ने अधीनस्थों संग बाजार का भ्रमण किया और दुकानदारों का आहवान किया कि वह अपने प्रतिष्ठान बंद न करें। 

कलेक्ट्रेट में तालाबंदी करते सपाई, गांधी मैदान में नारेबाजी करते कांग्रेसी, लोहिया वाहिनी जिलाध्यक्ष को नजरबंद किये कोतवाल, गिरफ्तारी देते आप कार्यकर्ता, बंद के बावजूद खुली बाजार का दृश्य, बाजार का भ्रमण करते डीएम-एसपी।

जिले में भारत बंद को विफल बनाने के लिए जिला एवं पुलिस प्रशासन द्वारा एक दिन पहले ही व्यापारी नेताओं के साथ बैठक कर आहवान किया गया था कि अपने प्रतिष्ठानों को बंद न करें। यदि कोई राजनीतिक दल दुकानों को जबरियन बंद करवाता है तो उसके खिलाफ कठोर कार्रवाई की जायेगी। पुलिस अधीक्षक सतपाल अंतिल के दिशा निर्देशन में मंगलवार की सुबह से ही कुछ सपाईयों को उनके आवास पर नजरबंद कर दिया गया था। इसके बावजूद सपा जिलाध्यक्ष विपिन सिंह यादव के नेतृत्व में कुछ सपाई पुलिस प्रशासन को चकमा देकर मध्यान्ह बारह बजे कलेक्ट्रेट पहुंच गये और मुख्य द्वार पर तालाबंदी करते हुए नारेबाजी के बीच प्रदर्शन किया। तत्पश्चात सपाईयों ने डीएम पोर्टिको पहुंचकर तालाबंदी करते हुए घण्टों केन्द्र व प्रदेश सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुए प्रदर्शन किया। सपाईयों का कहना रहा कि कृषि कानून के नाम पर पूंजीपतियों को लाभ पहुंचाने के लिए केन्द्र सरकार कृषि विधेयक लेकर आयी है। जिसे किसी भी सूरत में बर्दाश्त नहीं किया जायेगा। देश के अन्नदाता किसानों की लड़ाई सभी की है। उनको समाजवादी पार्टी अपना पूरा समर्थन दे रही है। सपा के आन्दोलन का अधिवक्ताओं ने पूर्ण समर्थन करते हुए कार्य बहिष्कार किया। प्रदर्शन के दौरान बड़ी संख्या में अधिवक्ता भी शामिल रहे। प्रदर्शन करने वालों में नगर अध्यक्ष मो0 साबिर एडवोकेट, अरूणेश पाण्डेय, चैधरी मंजर यार, वरिष्ठ अधिवक्ता बलिराज उमराव, जंग बहादुर सिंह मखलू, रवीन्द्र यादव, तनवीर हैदर, बृजेश सोनी, फैजान अहमद मून, वीरेन्द्र यादव, जिया उद्दीन राजू, मो0 आजम खान, शकील अकबर, नफीस सिद्दीकी, बेटू यादव आदि रहे। वहीं लोहिया वाहिनी के जिलाध्यक्ष मो0 आजम खान को उनके आवास पर सुबह से ही कोतवाली प्रभारी निरीक्षक रवीन्द्र श्रीवास्तव ने उन्हें नजरबंद कर रखा था। इसी तरह शहर अध्यक्ष मो0 मोहसिन खान के नेतृत्व में पार्टी कार्यालय से एक दर्जन से अधिक कार्यकर्ता जुलूस निकालकर कलेक्ट्रेट स्थित गांधी मैदान पहुंचे। जहां मोदी, योगी की नीतियों के विरोध में नारेबाजी करते हुए विरोध दर्ज कराया। इस मौके पर पंकज गौतम, संतोष कुमारी शुक्ला, वीरेन्द्र सिंह चैहान, अनुराग नारायण उर्फ पुत्तन मिश्रा, मनीष पटेल, राजीव लोचन निषाद, चन्द्र प्रकाश, उदित अवस्थी, अभिषेक कश्यप आदि रहे। वहीं कृषि कानूनों के विरोध में आम आदमी पार्टी के जिलाध्यक्ष श्रीराम पटेल के नेतृत्व में कार्यकर्ताओं ने मार्ग पर जुलूस निकाला। पटेलनगर पहुंचते ही शहर कोतवाल ने उन्हें रोक लिया और तत्काल सभी को हिरासत में लेते हुए प्राइवेट वाहन से पुलिस लाइन भेज दिया। इस दौरान मो0 शाहनवाज, रंजीत कुमार मौर्या, प्रेमचन्द्र, अनूप सचान, मनोज कुमार सिंह, राम किशोर विश्वकर्मा, गोविन्द तिवारी, राजेश कुमार साहू आदि शामिल रहे। विपक्षी दलों द्वारा किये गये हो-हल्ले के बीच जिले का बाजार प्रतिदिन की भांति खुला रहा। भारत बंद का असर किसी भी तहसील क्षेत्र में दिखाई नहीं दिया। सदर विधानसभा के साथ-साथ बिन्दकी, जहानाबाद, अयाह-शाह, खागा व हुसैनगंज विधानसभा क्षेत्रों के अन्तर्गत आने वाले शहर, कस्बा व देहात क्षेत्र में बाजार पूर्णतः खुले रहे। उधर बाजार बंद के आहवान को लेकर जिला प्रशासन भी बेहद सतर्क दिखाई दिया। जिलाधिकारी संजीव सिंह, पुलिस अधीक्षक सतपाल अंतिल के अलावा अधीनस्थ अधिकारियों ने बाजार का भ्रमण कर व्यापारियों का आहवान किया कि वह अपने प्रतिष्ठानों को बंद न करें। यदि कोई व्यक्ति बाजार बंद कराने आये तो उसकी शिकायत दर्ज करायें। तत्काल ऐसे लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई अमल में लायी जायेगी। जिला एवं पुलिस प्रशासन की सक्रियता के चलते बाजार बंद बेअसर हो गया। 


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages