मकान में लगी आग, मां और तीन बच्चे जिन्दा जले - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Saturday, December 26, 2020

मकान में लगी आग, मां और तीन बच्चे जिन्दा जले

मरका थाने के दुबे का पुरवा में हुई दर्दनाक घटना 

मलबा हटाने पर मिले मां और बच्चों के शव 

बांदा, के एस दुबे । शुक्रवार की रात को मकान में आग लग जाने के कारण मां और तीन बच्चों की जिन्दा जलकर मौत हो गई। तड़के लोगों ने मकान से धुआं उठता हुआ देखा तो चीख पड़े और किसी तरह पुलिस को सूचना दी। मौके पर पहुंची दमकल और पुलिस ने आग पर काबू पाया, लेकिन तब तक सब कुछ खाक हो चुका था। मलबा हटाया गया तो मां और तीनो बच्चों के क्षत-विक्षत शव बरामद हुए। इलाके में कोहराम मचा हुआ है। खबर पाकर जिलाधिकारी आनंद कुमार सिंह, पुलिस अधीक्षक सिद्धार्थ शंकर मीणा और एसडीएम मौके पर पहुंचे और मौका मुआयना किया। 

आग से खाक हुआ आशियाना

मरका थाना क्षेत्र के मऊ गांव के मजरा दुबे का पुरवा निवासी कल्लू जयपुर (राजस्थान) में मजदूरी करता है। जबकि पत्नी संगीता (35) अपने तीन बच्चों अंजली (8), आशीष (6) और बिट्टी (2) घर पर थे। शुक्रवार रात संगीता ने ठंड से बचाव के लिए आग जलाई थी। इसके बाद मां और बच्चों ने खाना खाया और फिर आग को जलता हुआ छोड़कर सो गए। गहरी नींद में सो जाने के बाद आग ने मकान को आगोश में ले लिया और संगीता व उसके बच्चों को पता नहीं चला। आग ने मकान को आगोश में ले लिया और बच्चों के साथ सो रही मां की आग से जिंदा जलकर
घटनास्थल के समीप खड़ी दमकल और मौजूद ग्रामीण

मौत हो गई। शनिवार को भोर में जब ग्रामीणों ने मकान को जलता देखा तो पुलिस को सूचना दी। मौके पर पहुंचे मर्का थाना प्रभारी ने दमकल कर्मियों के साथ आग पर काबू पाया। अंदर जली हुई गृहस्थी को हटाया गया और वहां से मां व बड़ी बेटी अंजली का शव मिला। इसके बाद मलबा हटाया गया तो दो बच्चों के जले हुए अस्थि पंजर मिलें। डीएम आनंद कुमार सिंह, एसपी सिद्धार्थ शंकर मीणा के साथ अपर एसपी महेंद्र सिंह चैहान तथा एसडीएम सौरभ शुक्ला ने गांव पहुंचकर घटनास्थल का निरीक्षण किया। 


बिलख उठा कल्लू, परिवार में कोहराम 

पत्नी और बच्चों के जिन्दा जल जाने के बाद बदहवास है कल्लू 

मरका थाने के दुबे का पुरवा में चारों ओर सिर्फ मातम 

बांदा। मरका थाने के मऊ गांव के मजरा दुबे का पुरवा में हुए भीषण अग्निकांड में पत्नी और तीन बच्चों को खो देने के बाद कल्लू बदहवास हालत में है। परिवार में कोहराम मचा हुआ है। परिवार के लोग कभी मां और बच्चों के शव देखते हैं तो कभी खाक हुआ आशियाना। मौके पर पहुंचे डीएम, एसपी और आला अधिकारियों ने किसी तरह से परिवार को ढांढस बंधाया। शव कब्जे में लेकर पंचनामा के बाद पोस्टमार्टम के लिए भेजे गए हैं। दुबे का पुरवा में मातम ही मातम नजर आ रहा है। 

घटनास्थल पर खड़े ग्रामीण

गौरतलब हो कि दुबे का पुरवा निवासी कल्लू अभी चंद दिनों पहले ही राजस्थान के जयपुर में मजदूरी करने के लिए गया था। शुक्रवार की शाम को कल्लू की पत्नी संगीता संगीता (35) अपने तीन बच्चों अंजली (8), आशीष (6) और बिट्टी (2) के साथ घर में थे। सभी लोगों ने एक साथ खाना खाया। ठंड से बचाव के लिए आग जलाई। काफी देर तक आग से बदन सेंकने के बाद सभी लोग घर के कमरे में जाकर सो गए और जलाई गई आग की चिंगारी ने कब आशियाने को अपनी आगोश में ले लिया, यह किसी को पता नहीं चला। आग से धू-धूकर मकान जल उठा और
घटनास्थल पर मौजूद पुलिस अधिकारी

संगीता व उसके बच्चे मकान के अंदर सोते रह गए। सोते समय जलता हुआ कोई भारी लकड़ी या फिर छप्पर गिर जाने के कारण मां और बच्चों की जिन्दा जलकर मौत हो गई। छोटे बच्चों के शव तो अपनी जगह पर मिले लेकिन मां और बड़ी बेटी का शव उनके स्थल से कुछ दूरी पर मिले। दर्दनाक हादसे की जानकारी होने पर आला अधिकारी मौके पर पहुंचे। मलबे को हटाया गया तो एक के बाद एक शव मिले और मौके पर मौजूद रहे लोग फफक कर रो पड़े। दर्दनाक हादसे से दुबे का पुरवा मातम में डूबा हुआ है। 


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages