जीवन में मूल्यों का उपयोग............. - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Monday, December 21, 2020

जीवन में मूल्यों का उपयोग.............

देवेश प्रताप सिंह राठौर ....

(वरिष्ठ पत्रकार)

........नैतिकता और मूल्यों में अर्थ क्या होता है उस पर हर इंसान को जानने की जरूरत है,जब हम शिक्षा की बात करते हैं तो सामान्य अर्थो में यह समझा जाता है कि इसमें हमें वस्तुगत ज्ञान प्राप्त होता है तथा जिसके बल पर कोई रोजगार प्राप्त किया जा सकता है । ऐसी शिक्षा से व्यक्ति समाज में आदरणीय बनता है ।समाज और देश के लिए इस ज्ञान का महत्व भी है क्योंकि शिक्षित राष्ट्र ही अपने भविष्य को सँवारने में सक्षम हो सकता है । आज कोई भी राष्ट्र विज्ञान और तकनीक की महत्ता को अस्वीकार नहीं कर सकता, जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में इसका उपयोग है । वैज्ञानिक विधि का प्रयोग कृषि और पशुपालन के क्षेत्र में करके ही हमारे देश में हरित क्रांति और श्वेत क्रांति लाई जा सकी है ।अत: वस्तुपरक शिक्षा हर क्षेत्र में उपयोगी है ।परंतु जीवन में केवल पदार्थ ही महत्वपूर्ण नहीं हैं । पदार्थो का अध्ययन आवश्यक है, राष्ट्र की भौतिक दशा सुधारने के लिए तो जीवन मूल्यों का उपयोग कर हम उन्नति की सही राह चुन सकते हैं । हम जानते हैं कि भारत में लोगों के बीच फैला भ्रष्टाचार किस तरह से विकास की धार को भोथरा किए हुए है ।हम देखते हैं कि मूल्यों में ह्रास होने से समाज में हर प्रकार के अपराध बढ़ रहे हैं । हम यह भी देखते हें कि मूल्यविहीन समाज में असंतोष फैल रहा है । बेकारी के बढ़ने से युवक असंतोष जैसी कई प्रकार की चुनौतियाँ खड़ी दिखाई देती हैं । छोटे से बड़े नौकरशाह निकम्मेपन और भ्रष्टाचार के अंधकूप में डुबकियाँ लगा रहे हैं, उन्हें समाज या राष्ट्र की कोई परवाह नहीं है ।इन परिस्थितियों में आत्ममंथन अनिवार्य हो जाता है । क्या हमारी शिक्षा प्रणाली दोषपूर्ण है  यदि शिक्षा व्यवस्था त्रुटिहीन है तो निश्चित ही व्यक्तियों में दोष है ? आखिर कहीं ना कहीं तो शीर्षासन चल ही रहा है जो गलत को सही और सही को गलत ठहरने पर आमादा है ।यदि शिक्षा प्रणाली पर गहराई से दृष्टिपात करें तो सरकारी तौर पर ही इसकी कमियाँ परिलक्षित हो जाएँगी । हमारे देश के आधे से अधिक शिक्षित व्यक्तियों के सामने कोई लक्ष्य नहीं है, उनके सामने अँधेरा ही अंधेरा है ।जिसने अपने जीवन के पंद्रह बेशकीमती वर्ष शिक्षा में लगा दिए, जिसने इतना समय किसी कार्य के प्रति समर्पित कर दिया, उसके दो हाथों को कोई काम नहीं है । पंद्रह वर्षो के श्रम का कोई प्रतिफल नहीं तो ऐसी शिक्षा बेकार है । ठीक है कि कुछ नौजवान सफल हो गए, उनके भाग्य ने साथ दे दिया लेकिन बाकी लोगों का क्या होगा जिन्हें बचपन से सिखाया गया था कि पढ़ोगे तो शेष जीवन सुखी हो जाएगा । इससे तो कहीं अच्छा था कि वह पाँचवी पास कर चटाई बुनना सीख लेता, घड़े बनाना सीख लेता, कृषि की बारीकियाँ समझ लेता अथवा ऐसा कोई गुण सीख लेता जिससे जीवन-यापन में उसे सुविधा होती ।यदि कोई खेल ही खेलता, भरतनाट्‌यम ही सीख लेता, वायलिन बजाना सीख लेता तो भी कुछ सार्थकता होती, इन क्षेत्रों में भी बड़ा सम्मान और धन है ।तो कहा जा सकता है कि यदि दुनियावी दृष्टिकोण से ही देखा जाय, यदि पूर्णतया भौतिकवादी बनकर ही सोचा जाए तो हमारी शिक्षा प्रणाली की बुनियाद ही गलत है ।इसमें कोई संदेह नहीं कि अक्षर ज्ञान जरूरी है, चौदह वर्ष तक की शिक्षा जरूरी है ताकि बालक जीवन के हर क्षेत्र की मोटी-मोटी बातों को समझ सके । परंतु कॉलेज की डिग्री उतने ही लोगों को दी जानी चाहिए जितने लोग डिग्री लेकर आसानी से रोजगार प्राप्त कर सकें ।केवल थोड़े से मेधावी लोगों को ऊँची शिक्षा दी जानी चाहिए तथा अन्य


छात्रों को रोजगारपरक शिक्षा दी जाए तो बेकारी की समस्या हमारे देश से कुछ वर्षो में ही विदा हो जाएगी । गुरुदेव रवींद्रनाथ जैसे विचारकों ने हमारी शिक्षा प्रणाली की खामियों को समझकर इन्हीं कारणों से एक अलग ढंग की शिक्षा की वकालत की थी ।यदि शिक्षा व्यवस्था में सचमुच सुधार लाना हो तो शिक्षा में नैतिक मूल्यों का समावेश जरूरी है क्योंकि कोई कार्य यदि सुस्पष्ट नीति के बिना किया जाए तो वह सफल नहीं हो सकता । नीति से ही नैतिक शब्द बना है जिसका अर्थ है सोच-समझकर बनाए गए नियम या सिद्‌घांत । लेकिन आज की शिक्षा में नैतिक मूल्यों का कोई समावेश नहीं है क्योंकि वह दिशाहीन है ।आज की शिक्षा का मुख्य उद्‌देश्य है – पढ़-लिखकर धन कमाना । चाहे धन कैसे भी आता हो, इसकी परवाह न की जाए । यही कारण है कि शिक्षित वर्ग भ्रष्टाचार को बढ़ावा देने में सबसे आगे हैं ।शिक्षा प्राप्ति की एक सुविचारित नीति होनी चाहिए । छात्रों की शुरू से ही यह जानकारी देनी चाहिए कि जीवन में आगे चलकर तुम्हें किन समस्याओं से जूझना होगा । छात्रों को पता होना चाहिए कि जीने के मार्ग अनेक हैं तथा उस मार्ग को ही चुनना श्रेयस्कर है जो व्यक्ति विशेष के स्वभाव के अनुकूल हो ।नैतिक शिक्षा की बातों में सत्य, क्षमा, दया, ईमानदारी, अहिंसा आदि बताने से कुछ खास हासिल नहीं होता यदि हम इन ऊँची-ऊँची बातों को जीवन में उतारने का बालकों को अवसर न प्रदान करें । बालकों की सहज बुदधि में प्रयोगात्मक सचाइयाँ अधिक सहजता से प्रवेश करती हैं । कोरे उपदेश उन्हें प्रभावित कर सकते तो आज समाज में इतनी बेईमानी और इतना भ्रष्टाचार न फैला होता ।शिक्षा के साथ नैतिक मूल्यों को संबद्‌ध करने का अर्थ यह नहीं है कि बालकों के निरंतर भारी होते हुए बस्ते में एक और किताब का बोझ डाल दिया जाए । इससे उनके जीवन में कोई गुणात्मक परिवर्तन नहीं आ सकता क्योंकि बच्चे समझते हैं कि यह भी एक विषय है जिसमें अच्छे अंक लाने होंगे ।इसका अलग से कोई मतलब नहीं है । इसके बदले यदि हम उन्हें अच्छे माहौल में, विद्‌यालय परिसर को जीवन की एक प्रयोगशाला बनाकर शिक्षा को किसी उद्‌देश्य से संयुक्त कर दें तो उनके लिए बहुत हितकारी होगा ।खेल-खेल में दी गई शिक्षा, ज्ञान को मनोरंजक बनाकर दी गई शिक्षा अधिक प्रभावी होती है । साथ-साथ यदि विद्‌यालय स्तर से ही प्रत्येक बच्चे के अंदर निहित क्षमता को पहचान कर उसे एक सुनिश्चित दिशा दे दी जाए तो निश्चित ही शिक्षा प्राप्ति का उद्‌देश्य सिद्‌ध हो जाएगा ।वर्तमान समय में हमारे नैतिक मूल्य भी बदल रहे हैं क्योंकि नगरीकरण, आधुनिक सभ्यता, वैज्ञानिक दृष्टिकोण आदि के कारण नई पीढ़ी के लोग सभी पुरातनपंथी विचारधारा से चिपके नहीं रहना चाहते हैं ।अत: शिक्षा में ऐसे नैतिक मूल्यों को जोड़ने का असफल प्रयास नहीं करना चाहिए जो युगानुरूप नहीं रह गए हैं । इसमें धार्मिक कट्‌टरता, किसी एक धर्म के प्रति आग्रह जैसा भाव नहीं होना चाहिए क्योंकि इससे शिक्षा बोझिल हो जाती है । सदाचार की वैसी बातें जो सभी धर्मों व सभी संप्रदायों को मान्य है, समाहित कर हम नए, प्रगतिशील समाज की रचना कर सकते हैं ।विश्वास एक अधिक अस्थायी अवधारणा है जिसके लिए व्यक्ति को किसी व्यक्ति को चयनित समय सीमा के लिए विश्वास रखने की आवश्यकता होती है। विश्वास यह भी मानने के लिए संदर्भित कर सकता है कि कुछ सत्य है या कोई सत्य है। विश्वास वह भावना है जो किसी व्यक्ति को यह स्वीकार करने की आवश्यकता होगी कि एक व्यक्ति एक अच्छा व्यक्ति है जो सच्चाई बताता है। विश्वास एक भावना है जो किसी व्यक्ति को किसी या कुछ में विश्वास करने की अनुमति देता है। उदाहरण के लिए: एक व्यक्ति का मानना ​​है कि वह आगामी परीक्षा पास कर सकता है। इससे यह विश्वास हो रहा है कि व्यक्ति परीक्षा पास कर सकेगा। हालांकि, इस बात की थोड़ी सी संभावना है कि व्यक्ति परीक्षा में असफल हो सकता है। 'विश्वास' शब्द में एक विचार या एक सुझाव को स्वीकार करना शामिल है। परिस्थितियों के आधार पर विश्वास भी बदल सकते हैं, इसलिए इसे एक अस्थायी अवधारणा माना जाता है। उपरोक्त उदाहरण का उपयोग करते हुए, व्यक्ति यह मान सकता है ।सत्य को बनाए रखने की जरुरत नहीं होती

दरअसल, असत्य एक विशेष योग्यता है। अगर आपको झूठ का जाल बुनना है, तो आपको बहुत कुछ करना पड़ता है। सत्य वह है, जिसे कोई निपट मूर्ख भी कर सकता है, क्योंकि इसमें कुछ भी करने की जरूरत नहीं होती। यह तो है ही, इसके लिए करना क्या है? सत्य को बनाए रखने की जरूरत नहीं होती, जबकि असत्य की काफी देखभाल करनी पड़ती है। इसके लिए आपके पास काबिलियत होनी ही चाहिए।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages