धाता को तहसील बनाकर कौशाम्बी में विलय कराने की मांग - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Friday, December 18, 2020

धाता को तहसील बनाकर कौशाम्बी में विलय कराने की मांग

सर्व समाज कल्याण समिति ने डीएम को सौंपा ज्ञापन

फतेहपुर, शमशाद खान । धाता विकास खण्ड को तहसील का दर्जा देकर कौशाम्बी जनपद में विलय कराये जाने की मांग को लेकर सर्व समाज कल्याण समिति के पदाधिकारियों ने कलेक्ट्रेट पहुंचकर जिलाधिकारी को सम्बोधित ज्ञापन सौंपा। 

जिलाधिकारी को दिये गये ज्ञापन में बताया कि तहसील मुख्यालय खागा विकास खण्ड धाता के सुदूरवर्ती गांव किशनपुर से 52 किलोमीटर एवं जनपद मुख्यालय किशनपुर से 87 किलोमीटर दूर है जबकि कौशाम्बी का मुख्यालय मंझनपुर धाता से मात्र 14 किलोमीटर की दूरी पर है। विकास क्षेत्र के किसी भी ग्राम में 25 से 30 किलोमीटर से दूर नहीं है। जनपद कौशाम्बी की पूरी पश्चिमी सीमा धाता विकास खण्ड से जुड़ी हुयी है। विकास क्षेत्र धाता के अधिकांश लोगों की शिक्षा, दवा सम्बन्धी कार्यों के लिए इलाहाबाद तथा कृषि मण्डी सम्बन्धित कार्यों के लिए जिला कैशाम्बी (अझुआ) आना-जाना पड़ता है। यदि जनपद से तहसील व जिले के कार्यों को निकाल दिया

डीएम को ज्ञापन देने जाते सर्व समाज कल्याण समिति के पदाधिकारी।

जाये तो भूलकर भी विकास क्षेत्र धाता का कोई औचित्य ही नहीं बनता। भौगोलिक तथा सांस्कृतिक दृष्टि से विकास क्षेत्र धाता का विलय कौशाम्बी जनपद में होना आवश्यक है। क्यांेकि यमुना नदी के किनारे ग्राम कोट से लेकर रक्षपालपुर-बिछियावां रोड होते हुए कनवार रेलवे स्टेशन तक लोग जनपद कौशाम्बी में विलय के लिए तैयार है। अधिकांश ग्राम प्रधानों के सहमति पत्र साथ में संलग्न किये गये। ज्ञापन में यह भी बताया गया कि तहसील व जिला मुख्यालय के कुछ लाल लोग जनता को बेवकूफ बनाकर धन ऐंठने का प्रयास करते हैं और लोगों को ठगने का काम करते हैं वहीं तहसील से धाता को अलग करने का विरोध जताते हैं। मांग की गयी कि धाता को तहसील का दर्जा देकर कौशाम्बी जनपद में विलय कराया जाये। इस मौके पर चंदन सिंह, रामजी सिंह, अनुपम सिंह, मनोज सिंह, विवेक सिंह, बाबूलाल गुप्ता, मानिक चन्द्र केशरवानी, इमरान आदि मौजूद रहे। 


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages