मुश्किलों का सामना करना सिखाता है सुदामा चरित्र: दीक्षित - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Saturday, December 19, 2020

मुश्किलों का सामना करना सिखाता है सुदामा चरित्र: दीक्षित

श्रीमद् भागवत कथा का हुआ समापन

चित्रकूट, सुखेन्द्र अग्रहरि। कर्वी तहसील क्षेत्र अंतर्गत ग्राम पंचायत बिहारा में चल रही श्रीमद् भागवत कथा के अंतिम दिन शनिवार को कथा वाचक नवलेश दीक्षित ने सुदामा चरित्र व सुखदेव विदाई का वर्णन किया। उन्होंने कहा कि मित्रता में गरीबी और अमीरी नहीं देखनी चाहिए। मित्र एक दूसरे का पूरक होता है। भगवान कृष्ण ने अपने बचपन के मित्र सुदामा की गरीबी को देखकर रोते हुए अपने राज सिंहासन पर बैठाया और उन्हें उलाहना दिया कि जब गरीबी में रह रहे थे तो अपने मित्र के पास तो आ सकते थे, लेकिन सुदामा ने मित्रता को सर्वोपरि मानते हुए श्रीकृष्ण से कुछ नहीं मांगा।

भागवताचार्य नवलेश दीक्षित।

भागवताचार्य श्री दीक्षित ने बताया कि सुदामा चरित्र जीवन में आई कठिनाइयों का सामना करने की सीख देता है। सुदामा ने भगवान के पास होते हुए अपने लिए कुछ नहीं मांगा। अर्थात निस्वार्थ समर्पण ही असली मित्रता है। कथा के दौरान परीक्षित मोक्ष व भगवान सुखदेव की विदाई का वर्णन किया गया। कथा के बीच-बीच में भजनों पर श्रद्धालुओं ने नृत्य भी किया। इस दौरान बड़ी संख्या में महिला पुरुष श्रोता मौजूद थे। कथा वाचक भागवत रत्न आचार्य नवलेश दीक्षित ने बताया कि भागवत कथा का श्रवण से मन आत्मा को परम सुख की प्राप्ति होती है। भागवत में बताए उपदेशों उच्च आदर्शों को जीवन में ढालने से मानव जीवन जीने का उद्देश्य सफल हो जाता है। सुदामा चरित्र के प्रसंग में कहा कि अपने मित्र का विपरीत परिस्थितियों में साथ निभाना ही मित्रता का सच्चा धर्म है! मित्र वह है जो अपने मित्र को सही दिशा प्रदान करे,जो कि मित्र की गलती पर उसे रोके और सही राह पर उसका सहयोग दे। कथा के मुख्य यजमान श्याम लाल मिश्रा उर्फ लक्ष्मण श्रीमद् भागवत कथा के साथ-साथ रात्रि को रामलीला का भी आयोजन करा रहे हैं। रामलीला में धनुष यज्ञ का मंचन किया गया। इस अवसर पर आचार्य नवलेश दीक्षित, बंसी बिहारी चैबे, बांके बिहारी चैबे, अशोक मिश्रा, राम स्वयंवर मिश्रा, उदयभान दुबे, रजनीश तिवारी, प्रदीप मिश्रा आदि मौजूद रहे।


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages