रासायनिक खाद का किसान न करें इस्तेमाल: लाखन - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Friday, December 25, 2020

रासायनिक खाद का किसान न करें इस्तेमाल: लाखन

कृषि विश्वविद्यालय में आयोजित हुई किसान गोष्ठी 

प्रधानमंत्री के किसान संवाद के बाद बोले राज्यमंत्री 

वानिकी महाविद्यालय में लगाई गई प्रदर्शनी को भी राज्यमंत्री ने देखा 

बांदा, के एस दुबे । बांदा कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय में आयोजित किसान गोष्ठी को सम्बोधित करते हुए राज्यमंत्री कृषि, कृषि शिक्षा एवं अनुसंधान लाखन सिंह राजपूत ने कहा कि किसान गौ आधारित प्राकृतिक खेती को अपनाएं, इससे कम लागत में अधिक उत्पादन प्राप्त कर सकते हैं। इसके साथ ही जैविक खेती से प्राप्त खाद्यान्न से हम विभिन्न बीमारियों से भी बच सकते हैं। उन्होंने कहा कि धरती मां की गरिमा को बनाये रखने के लिए किसान रासायनिक खादों व कीटनाशकों का कम से कम प्रयोग करें। देशी केचुओं को बढ़ावा दें, क्योंकि इससे खेती की उर्वरा शक्ति बढती है।

कृषि राज्यमंत्री राजपूत ने किसानों की जीवामृत तथा बर्मी कम्पोस्ट बनाने की विधि के सम्बन्ध में भी जानकारी दी। उन्होंने कहा कि आज का दिन बहुत सौभाग्यशाली है क्योंकि आज हम पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी जी की जयन्ती सुशासन दिवस के रूप में मना रहे हैं। श्री राजपूत ने बांदा कृषि विश्वविद्यालय के वानिकी महा विद्यालय में लगायी गयी प्रदर्शनी का भी अवलोकन किया। कुलपति यूएस गौतम ने कहा कि प्रधानमंत्री का यह सपना है कि किसानों की आमदनी दोगुनी हो। इसलिए हमने विश्वविद्यालय में किसानों की आमदनी दोगुनी करने के लिए माॅडल विकसित किया है, जिसे अब हम किसानों के खेतों में लगाएंगे। उन्होंने कहा कि किसान जैविक खेती को अपनाकर अपनी आमदनी बढ़ा सकते हैं। आयुक्त चित्रकूटधाम मण्डल गौरव दयाल ने अपने संबोधन में कहा कि किसनों की देश के निर्माण में बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका है तथा किसान अन्नदाता हैं। उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय द्वारा कृषि के विकास के लिए महत्वपूर्ण कार्य किया जा रहा है। आयुक्त ने कहा कि किसानों की समस्याओं को निस्तारण सम्बन्धी अधिकारी प्राथमिकता पर करें।

कार्यक्रम के दौरान राज्यमंत्री कृषि और कुलपति डा0 यूएस गौतम

जिलाधिकारी आनन्द कुमार सिंह ने कहा कि आज का दिन ऐसे महानुभाव से संबंधित हैं जो न केवल देश के प्रधानमंत्री रहे बल्कि बहुमुखी प्रतिभा के धनी थे। उन्होंने देश के विकास के लिए महत्वपूर्ण कार्य किया। श्री सिंह ने कहा कि किसान विश्वविद्यालय की नई कृषि तकनीक को अपनायें जिससे उनकी आमदनी बढ़ सके। अधिष्ठाता डा. वीके सिंह ने इस अवसर पर गीता जयंती के संबंध में जानकारी देते हुए कहा कि भगवान श्रीकृष्ण के उपदेश आज भी व्यवहारिक हैं तथा हमें अन्याय से लड़ने की प्रेरणा देते हैं। कार्यक्रम का शुभारंभ कृषि राज्यमंत्री लाखन सिंह राजपूत ने दीप प्रज्वलित कर किया। उन्होंने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी तथा योगेश्वर भगवान श्री कृष्ण के चित्र पर माल्यार्पण किया। कुलपति गौतम ने मंत्री को स्मृति चिन्ह प्रदान कर सम्मानित किया। इस अवसर पर विश्वविद्यालय के कुल सचिव वीएस पवार, डिप्टी कलेक्टर महेन्द्र प्रताप, उप निदेशक सूचना भूपेन्द्र सिंह यादव, उप निदेशक कृषि प्रसार रामकुमार माथुर, जिला कृषि अधिकारी डा0 प्रमोद कुमार तथा कृषि विश्वविद्यालय के वैज्ञानिक व बड़ी संख्या में वैज्ञानिक उपस्थित रहे। कार्यक्रम का संचालन डा0 नरेन्द्र सिंह ने किया। 


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages