किसानों की लगभग 30 बीघे की फसल जलमग्न - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Sunday, December 6, 2020

किसानों की लगभग 30 बीघे की फसल जलमग्न

ग्रामीणों ने सिंचाई विभाग पर लापरवाही का लगाया आरोप

चित्रकूट, सुखेन्द्र अग्रहरि। एक ओर तिरहार क्षेत्र का किसान लम्बे अर्से से दैवीय आपदाओं व अन्ना गौवंशों से पूरी तरह टूट चुका है, वहीं सिंचाई विभाग की घोर लापरवाही के चलते चिल्ली राकस पम्प कैनाल के पश्चिमी शाखा माइनर में लगभग 30 बीघा किसानों की बोई हुई रबी की फसल पूरी तरह जलमग्न हो गई है। 

ग्राम पंचायत भटरी व ग्राम पंचायत महुआ गाँव के दर्जनों किसानों के बोए हुए गेहूँ की फसल नहर विभाग के अधिकारियों व कर्मचारियों की लापरवाही से जलमग्न हो गई है। भटरी किसान राजेन्द्र प्रसाद शुक्ला, महुआ गाँव के प्रधान सुयश सिंह ने बताया कि 70 के दशक में चिल्ली राकस पम्प कैनाल राजापुर का निर्माण हुआ था। तब से आज

जलमग्न खेत।

तक बीतने के बावजूद कुसेली माइनर की सफाई व मरम्मत न कराए जाने से नहरें जर्जर अवस्था में ज्यों का त्यों हैं। इस माइनर में उत्तमपुर के पहले सड़क में दूसरी ओर पटरी न होने के कारण नहर का पूरा पानी किसानों के बोए हुए गेहूँ की फसल में पूरी तरह भर गया है। जिससे क्षेत्र के किसानों की लाखों रुपए की खाद, बीज व जुताई का नुकसान हो गया है। नहरें जगह-जगह से टूटकर किसानों की बोई हुई फसलों को बरबाद करने का काम अधिकारी करते हैं और नहरों की मरम्मत व सफाई के नाम पर करोड़ों रुपए का बन्दरबाँट कर लेते हैं। पीड़ित किसानों ने जिलाधिकारी से माँग किया है कि माइनर का स्थलीय निरीक्षण कर क्षतिपूर्ति दिलाई जाए।


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages