गीता जयंती 25 दिसंबर - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Wednesday, December 23, 2020

गीता जयंती 25 दिसंबर

मार्गशीर्ष मास शुक्ल पक्ष एकादशी को मोक्षदा एकादशी व्रत किया जाता है इस व्रत को करने से मोक्ष की प्राप्ति होती है और पितरों को मोक्ष प्राप्त होता है। इसी दिन कुरूक्षेत्र की रणभूमि में भगवान श्री कृष्ण ने कर्म से विमुख अर्जुन को गीता का उपदेश दिया था। इसी दिन गीता जयंती मनायी जाती है इस साल गीता जयंती 25 दिसंबर को है, इस साल गीता जंयती की 5157वीं जंयती मनाई जाएगीै इस दिन गीता पढ़ना और सुनना अत्यंत ही शुभ माना जाता है। अन्य ग्रन्थ किसी मनुष्य द्धारा लिखे या संकलित किये गये है जबकि गीता का जन्म स्वयं योगेश्वर श्री भगवान कृष्ण के श्री मुख से हुआ है श्रीमद भागवत गीता को विश्व के श्रेष्ठ ग्रन्थों में माना जाता है।

 


  जीवनदायनी गीता में 18 अध्याय हैे पहले 6 अध्यायों में कर्मयोग, फिर अगले 6 अध्यायों में ज्ञानयोग और अंतिम 6 अध्यायों में भक्तियोग का उपदेश दिया गया है। गीता के उपदेश हमें जीवन जीने की कला सिखाते है, निष्काम भाव से कर्म करना , धर्म के मार्ग में चलना बताते है श्री कृष्ण हमारे भीतर आत्मविश्वास जगाते है वे कहते है कि मैं सभी में व्याप्त हूँ। गीता को हिंदू धर्म के अनुसार सबसे पवित्र ग्रंथ माना जाता है। गीता अज्ञान, दुख, मोह, क्रोध, काम और लोभ जैसी कुरितियों से मुक्ति का मार्ग बताती है। हमें अपने जीवन में गीता का अध्ययन अवश्य करना चाहिए इसके अध्ययन, श्रवण, मनन-चिंतन से जीवन में श्रेष्ठता का भाव आता है। जिससे मनुष्य सतकर्म करने के लिए प्ररित होता है।


- ज्योतिषाचार्य-एस.एस.नागपाल, स्वास्तिक ज्योतिष केन्द्र, अलीगंज, लखनऊ

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages