कोरोनाकाल के बीच परम्परागत ढंग से मनाया गया धनतेरस महापर्व - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Thursday, November 12, 2020

कोरोनाकाल के बीच परम्परागत ढंग से मनाया गया धनतेरस महापर्व

देर रात तक गुलजार रहीं बाजारें

सोने-चांदी के आभूषण सहित अन्य सामानों की जमकर हुई खरीदारी

फतेहपुर, शमशाद खान । वर्तमान समय में चल रहे कोरोनाकाल के बीच गंगा एवं यमुना के द्वोआबा में बसे जनपद में भी धनवंतरि (धनतेरस) महापर्व आज धूमधाम से मनाया गया। परम्परागत ढंग से लोगों ने विभिन्न धातुओं से निर्मित वस्तुयें खरींदी। खासकर आभूषणों और बर्तनों की दुकानों में ज्यादा भीड़ रही। जनपद मुख्यालय की मुख्य बाजार चैक में अर्द्धरात्रि के बाद भी खरीददारों की खासी भीड़ जमा थी और लोग दुकानों में अपनी-अपनी पसंद का सामान खरीदने के लिए पहंुचे। धनतेरस का पर्व अपने आप में एक परम्परा का अंग है जो दीपावली के दो दिन पूर्व मनाया जाता है। धन के देवता कुबेर एवं मृत्यु देवता यमराज की सनातन धर्म के अनुयायियों ने पूजा-अर्चना कर गृहस्थी में धन सम्पदा अर्जित करने के लिए सोने-चांदी के जेवरात, सिक्के एवं गृहस्थी के सामानों की खूब जमकर खरीदारी कर धार्मिक त्योहार की परम्पराओं का निर्वहन किया। 

धनतेरस पर्व पर ज्वैलर्स शाप में खरीददारी करतीं महिलाएं व बाजार में उमड़ी भीड़ का दृश्य।

धनतेरस के अवसर पर चैक बाजार की व्यस्तता एक बार फिर शीर्षता को स्पर्श कर रही थी। धातु बाजार में तो जैसे तिल भर की भी जगह नहीं बची थी। यही नहीं बाजार के दूसरी ओर लइया, गट्टा, पट्टी, खिलौने आदि की दुकानों में दोपहर से जो सघन खरीददारी का दौर शुरू हुआ वह देर रात तक जारी रहा। वैसे भी व्यस्त जीवन से शाम को निजात पाने वाले नौकरी पेशा लोग अपने परिवारों के साथ अमूमन सूर्यास्त के बाद ही यहां खरीददारी को निकलते हैं। इस बार भी कुछ ऐसा ही हुआ। शाम ढलते ही सोने चांदी की दुकानों में सहसा रौनक बढ़ गयी और दोपहर तक मायूस दिख रही बर्तन मण्डी में भी भीड़ ने जैसे कदम रखा बर्तन बाजार के संचालकों का उत्साह बढ़ गया। धनतेरस का पर्व पूरे जनपद में परम्परागत ढंग से हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। लोगों ने धातु और खानपान के सामानों के साथ गणेश लक्ष्मी की मूर्तियां खासकर जो मिट्टी और पीओपी से निर्मित थी उनकी खरीददारी की। बच्चों का खिंचाव तो खिलौने के साथ-साथ पटाखों की ओर था। इन दुकानों में भी जमकर खरीददारी हुई। यही नहीं इलेक्ट्रानिक दुकानों में दोपहर से ही भीड़ लगी थी। शहर की लगभग सभी इलेक्ट्रानिक दुकानों में दीवाली धमाका और बम्पर धमाका आफर पेश किया गया। चार पहिया से लेकर मोटर साइकिल, टीवी, फ्रिज, वाशिंग मशीन आदि इलेक्ट्रानिक सामानों की जमकर खरीददारी हुई। वैसे भी धनतेरस के दिन इन सामानों की खरीददारी का खास महत्व होता है। ऐसे में महीनों से इस दिन का इंतजार कर रहे लोगों ने जीभर कर सामान खरीदे। इस बार कोरोनाकाल की वजह से चल रही आर्थिक मंदी का असर भी बाजार में देखने को मिला। जो व्यक्ति पहले पर्वों में अधिक धन खर्च करता था वह इस बार हाथ सिकोड़ कर खर्च करता हुआ दिखाई दिया। जिससे यह साफ कहा जा सकता है कि कोरोनाकाल में आर्थिक मंदी हावी रही लेकिन पर्व के चलते लोगों ने खरीददारी भी की। क्योंकि भारत देश में परम्परा व पर्वों का विशेष महत्व है। 


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages