कश्मीर गुपकार महागठबंधन देश हित में सही नहीं ............... - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Monday, November 23, 2020

कश्मीर गुपकार महागठबंधन देश हित में सही नहीं ...............

देवेश प्रताप सिंह राठौर 

(वरिष्ठ पत्रकार)

....श्रीनगर: जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री व नेशनल कांफ्रेंस के नेता फारूक अब्दुल्ला ने अनुच्छेद 370 को लेकर विवादित बयान देते हुए कहा कि इसकी बहाली में चीन से मदद मिल सकती है. इसके अलावा उन्होंने मोदी सरकार के इस कदम का समर्थन करने वालों को गद्दार बताया है. फारूक अब्दुल्ला ने रविवार को कहा कि एलएसी पर जो भी तनाव के हालात बने हैं, उसका जिम्मेदार केंद्र का वो फैसला है जिसमें जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 को खत्म किया गया था. एवं आर्टिकल ए सीमा पर गतिरोध के बीच एलएसी पर रडार स्थापित कर रहा चीन, पैनी नजर बनाए हुए है चीन ने कभी भी अनुच्छेद 370 खत्म करने के फैसले का समर्थन नहीं किया है और हमें उम्मीद है कि इसे (आर्टिकल 370) को फिर से चीन की ही मदद से बहाल कराया जा सकेगा."चीन कौन होता है जो भारत के अंदर जो भारत सरकार कर रही है उसमें हस्तक्षेप करने के लिए चीन की क्या औकात है और चीन सिर्फ फारूक अब्दुल्लाह मदद मांग रहे हैं यह देश के गद्दार है उनको तुरंत देश से काला मुंह करके उनको यहां से भगाने की जरूरत है। गुपकार गैंग धारा370 एवं 35a आर्टिकल को हटाने की बात कह रही है मैं फारूक अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती सही से बताना चाहता हूं दिन में सपने देखना छोड़ दें और जॉन का गुंडाराज 65 साल से चल रहा था आतंकवादियों को बढ़ावा देने के लिए अब भारत में उनकी दाल नहीं गलेगी मेरी राय है कश्मीर से पीओके बहुत पास में ही है वहां जाकर धारा 370 आर्टिकल 35 ए लगाने का कार्य करें यह आपकी पार्टी वह आपके लिए हितकर होगा क्योंकि भारत की जनता अब धारा 370 आर्टिकल 35 ए अगर कश्मीर में लगा तो हाहाकार मच जाएगा महबूबा मुफ्ती सईद से लेकर फारूक अब्दुल्ला तक दिखाई नहीं देंगे इनकी नस्लें भारत में एक इतिहास बन कर रह जाएंगी। और यह सोचने को मजबूर होना पड़ेगा इनकी  नस्ले कभी इस देश में रही है।फारूक अब्दुल्ला ने कहा कि 5 अगस्त 2019 को 370 को हटाने का जो फैसला लिया गया, उसे कभी स्वीकार नहीं किया जा सकता. Also चीन भारत से चीन में भेजी मछली के पैकेट्स पर मिला कोरोना वायर फारूक अब्दुल्ला ने कहा कि मैंने कई मंचों पर अपने राष्ट्र का बचाव किया है. मैं मैं कहता हूं फारूक अब्दुल्ला महबूबा मुफ्ती और इनके साथ और इनके द्वारा बनाया गया संगठन में घुसे लोग यह सब देशद्रोही है धारा 370 आर्टिकल अगर कांग्रेश फारूक अब्दुल्ला महबूबा मुफ्ती यह सभी पार्टियां जो मां गठबंधन के रूप में तैयार हुई है यह अपने चुनाव में घोषित करें कि हम अपने कार्यक्रम में चुनाव का जो एजेंडा होता है उसमें धारा 370एवम आर्टिकल 35A में अंकित करें कि मेरी सरकार आई  या फारूक अब्दुल्ला  गुमगार महागठबंधन घोषित करे। राष्ट्र में और राज्य में अगर उपकार संगठन की सरकार आई धारा 370 एवम् 35a आर्टिकल हटवाने की बात अपने चुनाव एजेंडे में से शामिल करके जनता के सामने ले जाने की हिम्मत रखें की मुफ्ती मोहम्मद सईद की बेटी महबूबा मुफ्ती की तो हम यह


धारा 370 आर्टिकल 35 ए हटाएंगे अगर उनमें हिम्मत हो तो यह जो 28 नवंबर को चुनाव हो रहे हैं उन चुनाव में इसको लिखित रूप से चुनावी एजेंडे में शामिल कर घोषित करके दिखाएं देश की जनता उनको बता देगी कि भारत आज आर्टिकल 35 ए हटाए जाने कि जो भी पार्टी गुमकार गठबंधन का साथ देगा उसका विनाश पार्टी का निश्चित होना है ।और देश उस पार्टी को गुमकार को आतंकवादी संगठन घोषित करने की सूचित करेगी और पार्टी समाप्त हो जाएगी मैं यह मेरा पूर्ण रुप से विश्वास है।फारूक अब्दुल्ला ने एक राष्ट्रीय पत्रिका में अपने विवादित बयान दिया है जम्मू कश्मीर के संबंध में है बहुत ही स्पष्ट तौर पर दिखाई दिया कि यह ग्रुप कार संगठन एक राष्ट्र विरोधी संगठन के रूप में एकत्रित होकर देश की एकता अखंडता के लिए बहुत बड़ा खतरा बनने जा रहे हैं फारूक अब्दुल्ला ने दी प्रतिक्रियाअब्दुल्ला ने कहा- जो बीजेपी में नहीं है, वो राष्ट्र विरोधी है।मेरे ख्याल से फारूक अब्दुल्ला की यह बात कही गई बिल्कुल गलत है फारूक अब्दुल्ला की सोच बहुत ही गंदी है जहां पर राष्ट्रीय की बात आती है वहां अलग झंडा लेकर टहलते हैं यह राष्ट्र विरोधी गतिविधियां नहीं है तो और क्या है देश एक झंडा एक अगर उस झंडे के नीचे तिरंगे के नीचे रहना है तो आओ वरना   की सीमा कश्मीर से लगी हुई है धीरे से पाकिस्तान चले जाओ और वहां जाकर अपनी दुकान जो जम्मू कश्मीर में आर्टिकल 370 एवम् 35 ए हटने से पहले चला रहे थे ,अब वह दुकान पाकिस्तान में जाकर चलाओ और पाकिस्तान आपको रख लेगा पहचानता है सफेद पोसी के रूप में हमारे जम्मू कश्मीर में दो पार्टियां आतंकवादी संगठन के तौर पर चल रही है।उसने विश्व के सारे आतंकवादियों को पाकिस्तान में शरण मिली है जैसे ओसामा बिन लादेन, दाऊद इब्राहिम, अजर महमूद सलालुद्दीन,एवम् ओर बहुत से विश्व स्तर के लगभग सभी देशों के आतंकवाद को शरण पाकिस्तान देता चलाया है।आतंकवादियों का गढ़ आई एस आई इराक सीरिया लिबिया तुर्की जैसे देशों के  आतंकवादी भी पाकिस्तान के यहां शरण प्राप्त हो जाती है और वह विश्व के बहुत से देशों में फैल कर आतंकवाद कि गतिविधियां देते रहते हैं। भारत देश के तेजस्वी माननीय गृहमंत्री अमित शाह ने गुपकार समूह को गुपकार गैंग कहा था गृह मंत्री अमित शाह की ओर से गुपकार एलायंस को गुपकार गैंग करार देने वाले बयान पर जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला की प्रतिक्रिया आई है। बातचीत में फारूक अब्दुल्ला ने कहा कि गृह मंत्री का ये कहना, बहुत दुखद और दुर्भाग्यपूर्ण है,जिसे यह दुर्भाग्यपूर्ण बता रहे हैं उस इतिहास को जानने का प्रयास फारूक अब्दुल्ला एंड कंपनी एवं महबूबा मुफ्ती एंड कंपनी और अलगाववादी एंड कंपनी मुझे नहीं लगता है की फारूक अब्दुल्ला के इतिहास को पढ़ा है.। सर काश्मीर के पूरे इतिहास को पढ़ा होगा तो इस तरह की झंडे की हरकत नहीं करते और ना ही अपनी बपौती समझते लेकिन मैंने पढ़ा है फारूक अब्दुल्ला का इतिहास, इतिहास में फारूक अब्दुल्ला कभी भी काश्मीर के इनका दूर-दूर से कोई भी परिवार का या इनकी जाति का  कश्मीर कोई राजा नहीं रहे हैं। उनका कोई भी परिवार का सदस्य कश्मीर का राजा ना हुआ है और ना पहले था।हमेशा ही  हिंदू राजा रहा है ।इसलिए फारूक अब्दुल्ला को मैं बताना चाहता हूं वह महबूबा मुफ्ती सईद को भी बताना चाहता हूं गुपकार के नाम से जो महागठबंधन तैयार किया गया है, जिसका उद्देश्य धारा 370 आर्टिकल 35a कश्मीर से हटाया जाना है उसे लगाने के लिए आप लोगों ने गूपकार महागठबंधन जो तैयार किया है वह गठबंधन ताश के पत्तों की तरह बिखर जाएगा और आपको देश के कानून देश की सुरक्षा एवं देश की सरकार इन्हें तत्काल देशद्रोही आतंकवादी की श्रेणी में डालकर ने जेल में बंद करें। क्योंकि इन्होंने जो चीन से मदद मांगने की बात कही है यह बड़ा गंभीर विषय है। इससे स्पष्ट हो जाता है आज दसको दसको को से जो आतंकवाद में कश्मीर में जो अपने पैर जमाए हैं उसका मुख्य सरगना हाफिज सईद, जलालुद्दीन, अजहर महमूद से भी  सबसे बड़े आतंकवादी फारूक अब्दुल्ला उमर अब्दुल्ला महबूबा मुफ्ती और अलगाववादी नेता कश्मीर के यह भारत के अंदर बैठे हुए सबसे बड़े आतंकवादी संगठन को हर सुविधा मुहैया कराने वाले लोग जो घर में बैठे हैं पहले इन पर सख्त कार्रवाई करने की जरूरत है नहीं आतंकवाद इनके संरक्षण में कश्मीर में फलता फूलता रहेगा जो संगठन बनाकर आतंकवादियों को संरक्षण देने का काम करने वाली यह फारूक अब्दुल्लाह महबूबा मुफ्ती का ओंकार संगठन यह आतंकवादी संगठन घोषित होना चाहिए। आज कश्मीर में जब से 6 साल से भाजपाई है पत्थरबाज जो कश्मीर में भारतीय सेनाओं पर मरते थे वह हम नहीं दिखाई दे रहे हैं 6 साल में जितने आतंकवादी मारे गए हैं आतंकवादी गतिविधियां जब से कश्मीर में शुरू हुई है अभी तक कितने आतंकवादी कभी मारे नहीं गए हैं जितने 6 वर्षों में आतंकवादी कश्मीर में मारे गए हैं यह एक बहुत बड़ा कामयाबी है भारत सरकार की और मैं तो पुणे फारूक अब्दुल्ला जी से महबूबा मुफ्ती सईद से यही कहूंगा अब आप की खिचड़ी भारत देश में पकने वाली नहीं है आर्य बीरबल की खिचड़ी है जो कभी नहीं पड़ेगी आपकी इसलिए मौका अच्छा है कश्मीर से पीओके बहुत पास में है वहां से धीरे से पाकिस्तान निकल जाओ और वहां जाकर धारा 370 और आर्टिकल 35 ए लगाओ फिर भारत देश आपका यहां की जनता आपको हाथों हाथ रखेगी यह मैं आपको विश्वास दिलाता हूं। अब जम्मू कश्मीर में धारा 370 आर्टिकल 35a चाहे चीन आ जाए चाहे पाकिस्तान आ जाए आप जिससे भी भीख मांगो जाकर किसी की औकात नहीं है भारत के अंतरिम मामलों में दखलअंदाजी भारत सरकार बर्दाश्त नहीं करेगी और सही बात चीन की इस तरह गीदड़ को धमकी देता है उससे आज का  भारत डरने वाला नहीं है।जब  भारत ने लद्दाख की गलवान वैली पर अपना दावा मज़बूत करते हुए भारत ने चीन से कहा है कि बढ़ा-चढ़ाकर और बेबुनियाद दावे करना 6 जून को सैन्य कमांडरों के बीच हुई वार्ता में बनी सहमति के ख़िलाफ़ है.भारत ने चीन से कहा है कि सीमा पर प्रबंधन के प्रति भारत का रवैया ज़िम्मेदार है और भारत की सभी गतिविधियां लाइन ऑफ़ एक्चुअल कंट्रोल के भारतीय क्षेत्र में ही हैं।.भारत ने चीन से कहा है कि हम उम्मीद करते हैं कि चीन अपनी गतिविधियों को लाइन ऑफ़ एक्चुअल कंट्रोल के अपनी ओर तक ही सीमित रखेगा. वार्ता के उद्देश्य भारतीय सेना गई थी परंतु चीन के गद्दार सैनिक एवम् चीन की धोका परस्त सरकार भारत केभारतीय सेना के 20 जवान शहीद हुए थे, भारत के वीर सैनिकों ने उन्हीं के किलो वाली सरिया को चीनी सैनिकों से छीन कर   45 चीन सैनिकों को मार गिराया था। हमारे वीर सैनिक निहत्ते  वार्ता करने गए थे ,उन्हीं की सरिया लोहे की छड़ी छीन चीन के 45 सैनिकों को मौत के घाट उतार दिया था यह भारतीय सेना का बल है इस वल को कोई तोड़ नहीं सकता है जब नेहत्ते उन्हें मौत के घाट उतार सकता है भारत की सेना जब हथियार लेकर जाएगी तब क्या स्थित होगी चीन दूर-दूर तक दिखाई नहीं देगा। यह चीन वाली बहुत ही जानता है भारत 1962 का नहीं है भारत 20,=20 का है। इस मजबूत है भूल जाओ कश्मीर में धारा 370 आर्टिकल 35a इसी में आपकी भलाई है और नहीं देशद्रोही आतंकवादी घोषित होने में भारत सरकार को सोचना पड़ेगा क्योंकि आज स्पष्ट तौर पर आतंकवादियों की गतिविधियों से यह साबित हो गया है कश्मीर में आतंकवाद पनपता था इसका मुख्य कारण फारूक अब्दुल्लाह महबूबा मुफ्ती सहित और वहां के अलगाववादी लोग रहे है। धारा 370 आर्टिकल 35a हटने के बाद कश्मीर के क्षेत्रीय दल फारूक अब्दुल्ला महबूबा मुफ्ती सईद की हकीकत आज स्पष्ट तौर पर सामने दिखाई देने लगी है अब भारत सरकार को सचेत हो जाना चाहिए जिन आतंकवादियों को 40 वर्ष से भारत लड़ रहा है वह आतंकवादी आज स्पष्ट तौर पर सहयोग देने वाले कौन हैं वह आज धारा 370 हटाने के बाद दिखाई देने लगे हैं यह पूरे देश को समझने की जरूरत है देश बचाना है तो कश्मीर से इन गद्दारों को हर हाल में हटाना है और कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी तक भारत रंग से रंगा होगा यह मेरा पूर्ण विश्वास है। इसे किसी की माई के लाल की देश के अंदर हो या देश के बाहर के गद्दार देश हिम्मत नहीं कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी तक भारत एक है एक रहेगा सपने देखना बंद करो महबूबा मुफ्ती फारूक अब्दुल्लाह नहीं जो बनी हुई साख पूर्व पार्टियों के तलवे चाटते चाटते आज इतने मजबूत हो गए कि अपना झंडा अलग लेकर चलने लगे अब झंडे की जगह उन लोगों को गोलिया ठंडा मिलेगा यह देश की देख रहा है समझ रहा है और जब चुनाव आएगा यह महागठबं संगठन महागठबंधन गूमकार महागठबंधन उड़ जाएगा पाकिस्तान जाकर शरण लेगा यह समय की मांग है। फारूक अब्दुल्ला महबूबा मुफ्ती वक्त है संभल जाओ और पाकिस्तान चले जाओ नहीं भारत की जनता भारत की सरकार आप को ऐसा सबक सिखाएंगी कि जो आपने कभी भविष्य में सोचा नहीं होगा क्योंकि भारत तिरंगे में रहना पसंद करता है और कोई झंडा स्वीकार नहीं है। आज का नया भारत है आधुनिक भारत है और सही हाथों में भारत भारत है। देश की जनता जान चुकी है कि देश सुरक्षित कहां पर है आप कोई भी चाल चल नहीं सकते क्योंकि हकीकत सामने आ चुकी है आप सभी लोगों की कश्मीर के गद्दारों की जो उनके मुखड़े से लटकाए हुए झंडा लिए बैठे हुए हैं यह उनकी खिसियानी बिल्ली खंबा नोचे, की तरह है जबकि अंदर से गु्मकार संगठन यह सब टूट चुके हैं। मैं कभी भी लिखने से नहीं डरता मैंने बहुत पहले जब मनमोहन सिंह की सरकार थी तब फारूक अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती के सन्दर्भ में  कई बार लिखा कि सबसे बड़े आतंकवादी यह लोग हैं जब तक इनको शक्ति बलपूर्वक इन्हें और इनके संगठन को बेन नहीं लगाया जाएगा इनकी पार्टी  तब तक यह देश हित के लिए ठीक नहीं है। भारत आतंकवाद से मुक्त नहीं हो पाएगा। आज उस तरह के माहौल माननीय नरेंद्र मोदी जी के कार्यकाल में बना है जिसमें धारा 370 और आर्टिकल 35 ए से हटाकर यह दरसा दिया गया है कि भारत मैंसाव जगह तिरंगा दिखाई देगा इनको अब समझ में आ जाना चाहिए। मैंने जब एक लेख लिखा था जब मनमोहन जी की सरकार थी तो उसमें मुझे कुछ लोगों ने धमकियां दी थी कि आप इस तरह के  मत लिखा करें ,मैंने बोला मैं जेल जाने से नहीं डरता हूं और मौत से भी नहीं डरता हूं क्योंकि जो हमारे वीर शहीद कश्मीर में आतंकवादियों को मारते हुए शहीद हो जाते हैं तो हम पत्रकार इस देश की रक्षा व एकता अखंडता को मजबूत करने के लिए अपनी लेखनी से जनमानस तक सच्चाई पहुंचाने के लिए लिखने में नहीं चूकते हैं और ना ही डरते हैं डरते वह लोग हैं जिनको जेल जाने से डर लगता है जिनको मौत से डर लगता है ।देवेश प्रताप सिंह ना डरा न डरेगा और गद्दारों के प्रति हमेशा लिखता रहूंगा यह मेरा उन गद्दारों के लिए यह चेतावनी है कि कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी तक भारत में तिरंगा उन झंडा दिखाई देगा जिसको तिरंगा कहते हैं अगर मैं उस तिरंगे में लिपट कर मेरी जान भी जाती है अपने को महसूस करूंगा मुझे गर्व होगा।लेकिन मेरी लेखनी आतंकवादियों और उन संगठन जो देश के अंदर क्षेत्रीय पार्टियां  संरक्षण देती हैं उनके लिए मेरी हमेशा मेरी कलम आग उगलती रहेगी यह मैं आपको देशवासियों को विश्वास दिलाता हूं कि इस देश में आतंकवाद नरेंद्र मोदी जी के संरक्षण में अवश्य खत्म होगा यह मेरा विश्वास है और आप लोगों को भी विश्वास बनाना पड़ेगा ,क्योंकि आज देश बहुत से स्तरों में मजबूत हुआ है कुछ बेरोजगारी की समस्याएं आई है वह भी धीरे-धीरे दूर होती जाएंगी लेकिन क्या पहले बेरोजगारी नहीं थी आज ही बेरोजगारी है पहले भी थी आज भी है जो लोग जानकार टैलेंट हैं आज भी नौकरी मिल रही है कल भी मिल रही थी सब कुछ हो रहा है

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages