किसानों की समस्याओं को लेकर भाकियू ने की बैठक - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Advt.

Tuesday, November 17, 2020

किसानों की समस्याओं को लेकर भाकियू ने की बैठक

किसानों का धान नहीं तौले जाने पर जताई गई नाराजगी

बिन्दकी-फतेहपुर, शमशाद खान । किसानों की तमाम समस्याओं को लेकर भारतीय किसान यूनियन टिकैत गुट की एक आवश्यक बैठक की गई। बैठक में सरकारी धान केंद्रों में किसानों का धान नहीं तो ले जाने पर गहरी नाराजगी जताई गई और चेतावनी दी गई कि यदि किसानों का धान नहीं तौला गया तो किसान चुप बैठने वाले नहीं है। अनिश्चितकालीन आंदोलन शुरू कर दिया जाएगा।

बैठक को सम्बोधित करते किसान नेता।

मंगलवार को तहसील परिसर में भारतीय किसान यूनियन टिकैत गुट की एक बैठक हुई। बैठक में प्रमुख रूप से सरकारी धान केंद्रों में किसानों का धान नहीं तो ले जाने पर नाराजगी जाहिर की गई। बैठक को संबोधित करते हुए जिला उपाध्यक्ष राजेंद्र सिंह ने कहा कि सरकारी धान केंद्रों में सौतेला व्यवहार किया जा रहा है। केवल व्यापारियों, बिचैलियों एवं दलालों का धान तोला जा रहा है जबकि सीधे-साधे किसानों को बार-बार लौटाने का काम किया जा रहा है। उन्होंने चेतावनी दी कि इसमें सुधार नहीं हुआ तो किसान चुप बैठने वाला नहीं है। अनिश्चितकालीन आंदोलन शुरू कर दिया जाएगा। इस मौके पर तहसील अध्यक्ष देवनारायण पटेल ने कहा कि नेहरू में पानी नहीं आ रहा जिसके चलते खेतों की सिंचाई नहीं हो पा रही है इसलिए प्रशासन नेहरू में पानी चालू करें। जिससे किसान अपने खेतों की सिंचाई कर सकें। इस मौके पर तहसील प्रचार मंत्री सुखीराम ने कहा कि कोरईया गांव से लेकर हरदौली तक की सड़क पूरी तरह से जर्जर हो गई है। सड़क का मरम्मतीकरण कराया जाए वरना कुंवरपुर रोड चक्का जाम किया जाएगा। वहीं मलवा ब्लाक अध्यक्ष जय सिंह यादव ने कहा कि विद्युत विभाग द्वारा किसानों के नलकूपों के कनेक्शन काटे जा रहे हैं। जिससे किसान परेशान है इसलिए किसानों के साथ जो नाइंसाफी की जा रही है। उसे बंद किया जाए किसानों के नलकूपों के कनेक्शन नहीं काटे जाएं। खजुहा ब्लाक अध्यक्ष अंगद सिंह ने कहा कि पुलिस द्वारा किसानों का उत्पीड़न किया जाता है इसलिए उत्पीड़न बंद किया जाए। उन्होंने कहा पराली जलाने के नाम पर किसानों के ऊपर मुकदमे दर्ज हुए उन्हें जेल में डाला गया जबकि बड़ी-बड़ी फैक्ट्रियों मिलूं में दिनभर प्रदूषण फैलता है। उनका कुछ नहीं किया जाता यही नहीं त्यौहार में तमाम पटाखे छुड़ाए गए। जिसके चलते प्रदूषण फैला उनके खिलाफ भी कोई कार्यवाही नहीं की गई। केवल किसानों के खिलाफ कार्रवाई की गई है। इसलिए पराली जलाने वाले किसानों के ऊपर जो भी मुकदमे दर्ज हैं उन्हें समाप्त कर रिहा किया जाए। इस मौके पर भारतीय किसान यूनियन के ज्ञानेंद्र पटेल, मनोज कुमार, राज भवन, नरेंद्र, नीरज पटेल, जय नारायण पटेल, धर्मपाल सिंह परिहार ने भी बैठक को संबोधित किया।


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages