कौमी एकता का मतलब- अनेकता में एकता - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Advt.

Friday, November 20, 2020

कौमी एकता का मतलब- अनेकता में एकता

हमीरपुर, महेश अवस्थी  । नेहरू युवा केंद्र हमीरपुर द्वारा पूर्व माध्यमिक विद्यालय बांधुर बुजुर्ग में आयोजित संगोष्ठी में ग्राम प्रधान प्रतिनिधि रामनरेश सिंह ने युग प्रवर्तक युवाओं के प्रणेता स्वामी विवेकानंद जी की प्रतिमा में माल्यार्पण व पुष्प अर्पित किया । विशिष्ट अतिथि सुजान सिंह एवं राम शरन श्रीवास ने भी विवेकानंद जी की प्रतिमा में पुष्प अर्पित कर नमन किया।

युवाओं के संबोधन में  ग्राम प्रधान प्रतिनिधि रामनरेश सिंह ने कहा कि कौमी एकता का मतलब है अनेकता में एकता ।  उन्होंने कहा कि कौमी एकता दिवस का मनाया जाना , तभी सार्थक होगा। जब हम आपस में किसी


प्रकार का मतभेद एवं  मनभेद ना रखें ।सी एम सी के प्रबंधक रणविजय सिंह  ने कहा कि 19 नवंबर  के दिन दो महान हस्तियों झांसी की रानी लक्ष्मीबाई तथा स्वर्गीय प्रधानमंत्री श्रीमती इंदिरा गांधी  की जयंती है। इनके जीवन आदर्शों से सभी को सीख लेना चाहिए तथा सभी देशवासियों का प्रयास होना चाहिए, कि सभी मिलकर सांप्रदायिक सदभाव और राष्ट्रीय एकता की मिली-जुली संस्कृति को कायम रखने वाली राष्ट्रीय पहचान को कायम रखें। जगत प्रसाद द्विवेदी समाजसेवी ने कहा कि कौमी एकता के अंतर्गत भारत रत्न डॉक्टर भीमराव अंबेडकर की विचारधारा का प्रचार-प्रसार करें तथा भारत सरकार एवं राज्य सरकार द्वारा संचालित महिला सशक्तिकरण व निर्धन व कमजोर वर्गों को बराबरी का दर्जा दिलाने , उनके कल्याण हेतु संचालित कौशल विकास कार्यक्रमों से उन्हें जोड़ना तथा उन्हें स्वरोजगार हेतु मुद्रा योजना का लाभ दिलाने व महिला उद्यमियों को  ऋण दिलाकर स्वरोजगार हेतु प्रेरित करने का भी काम करना चाहिए। संविधान में निहित नागरिक कर्तव्यों एवं दायित्वों की भी चर्चा की। कार्यक्रम को सुजान सिंह व क्रांति ने भी संबोधित किया। अंत में विवेकानंद युवती मंडल बांधुर बुजुर्ग की सदस्या क्रांति देवी ने आभार जताया ।


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages