संत तुलसी पब्लिक स्कूल में मनाया गया संविधान दिवस - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Thursday, November 26, 2020

संत तुलसी पब्लिक स्कूल में मनाया गया संविधान दिवस

बांदा, के एस दुबे । गुरुवार को शहर के इन्दिरा नगर स्थित संत तुलसी पब्लिक स्कूल में संविधान दिवस के रूप में मनाया गया। जिसमें मुख्य अतिथि के रूप में योगाचार्य एवं वरिष्ठ अधिवक्ता श्री अशोक कुमार शुक्ला जी मौजूद रहे। उन्होने कहा कि बच्चे को जन्म से मौलिक अधिकार प्राप्त हो जाते हैं जो हमें संविधान द्वारा दिये गये हैं। हम सभी को प्रातःकाल उठना चाहिए तथा अपने कर्तव्यों का पालन करते हुए अपने परिवार, विद्यालय व राष्ट्र का नाम रोशन करना चाहिए। कार्यक्रम की शुरूआत मां सरस्वती, संत तुलसी दास जी व बाबा साहब डा0 भीमराव अम्बेडकर की प्रतिमा पर माल्यार्पण के साथ हुयी। शिक्षिका उमा श्रीवास्तव द्वारा संविधान के बारे मंे बताते हुए कहा गया हमारे देश का संविधान विश्व का सबसे बड़ा लिखित संविधान है। उन्होने संविधान की प्रस्ताव का महत्व भी बच्चों को बताया। इसके उपरान्त शिक्षिका साक्षी श्रीवास्तव द्वारा भी संविधान के बारे में बच्चों को बताया गया। विद्यालय की उप प्रधानाचार्या निधि सिंह ने संविधान दिवस के बारे में बताते हुए कहा कि 11 अक्टूबर 2015 को भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी द्वारा यह घोषित किया गया था कि 26 नवम्बर को हर वर्ष संविधान दिवस के रूप में मनाया जायेगा। उन्होने संविधान में उल्लिखित अधिकारों और कर्तव्यों के बारे में बताते हुए कहा कि हमें अपने अधिकारों का दुरूपयोग कभी भी नहीं करना चाहिए तथा कर्तव्यों का ईमानदारी से पालन करना चाहिए।

कार्यक्रम के दौरान स्कूल में मौजूद बच्चे

छात्रा निहारिका सोनी, छात्र अमन, प्रांजुल व वेदांग अवस्थी ने बताया कि 26 नवम्बर 1949 को हमारा संविधान बनकर तैयार हो गया था। जो कि 26 जनवरी 1950 को सम्पूर्ण देश में लागू किया गया। इसीलिए हम 26 नवम्बर को संविधान दिवस के रूप में मनाते हैं जो संविधान निर्माता बाबा साहब भीमराव अम्बेडकर जी ने हमें संविधान में महत्वपूर्ण मौलिक अधिकार दिये हैं। विद्यालय की सलाहकार समिति के सदस्य डा0 जगदीश चंसौरिया जी ने कहा कि हमें अपने संविधान के अनुसार कार्य करना चाहिए। हमारा संविधान हमें सिखाता है कि हमें अपने कर्तव्यों को कभी भी नहीं भूलना चाहिए। हम सभी को संविधान द्वारा बनाये गये कानूनों का पालन करना चाहिए तथा उनका उल्लंघन नहीं करना चाहिए। कार्यक्रम में शुभ संस्कृति किड्स जोन की प्रधानाचार्या श्रीमती अनु सिंह तथा विद्यालय की उप प्रधानचार्या श्रीमती सरोज गुप्ता भी मौजूद रहीं। अंत मंे विद्यालय के प्रबन्धक श्री संत कुमार गुप्ता जी ने कहा कि संविधान दिवस हमें यह एहसास कराता है कि हम कितने सुसभ्य और सांस्कृतिक हैं क्योकि संविधान में प्रदत्त 6 मौलिक अधिकारों में समानता का अधिकार, संवैधानिक उपचारों का अधिकार, स्वतंत्रता का अधिकार, धार्मिक स्वतंत्रता का अधिकार, शोषण के विरूद्ध अधिकार के साथ संस्कृति और शिक्षा सम्बन्धी अधिकार दिये गये हैं। इन अधिकारों के साथ महत्वपूर्ण कर्तव्यों का भी उल्लेख किया गया है। जो कि हमें कभी भी नहीं भूलना चाहिए। अंत में मुख्य अतिथि जी को स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया गया। 


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages