लाखों श्रद्धालुओं ने मंदाकिनी में दीपदान कर लगाई परिक्रमा - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Advt.

Saturday, November 14, 2020

लाखों श्रद्धालुओं ने मंदाकिनी में दीपदान कर लगाई परिक्रमा

आकाशगंगा बनीं मंदाकिनी नदी

टिमटिमाती रोशनी में नहां गया रामघाट

सुरक्षा के मद्देनजर सतर्क रहा प्रशासन

चित्रकूट, सुखेन्द्र अग्रहरि। रंग बिरंगी रोशनी से सराबोर धर्मनगरी में दीपदान को श्रद्धालुओं का रेला लगा रहा। दीपावली अमावस्या पर्व पर लाखों श्रद्धालुओं ने देवगंगा मंदाकिनी में स्नान कर मत्यगयेन्द्र शंकर भगवान को जलाभिषेक कर कामदगिरि की परिक्रमा की तथा चित्रकूट परिक्षेत्र के विभिन्न धार्मिक स्थलों में दर्शनार्थ पहुंचे। यूपी-एमपी सीमा पर बसी धर्मनगरी में लगने वाले पांच दिवसीय मेला दौरान श्रद्धालु विभिन्न बसों व निजी वाहनों से धर्मनगरी आये।

 

दीपदान करते श्रद्धालु

  दीपाावली अमावस्या मेले में लाखों श्रद्धालुओं ने मंदाकिनी में डुबकी लगाई। मेले में बसे व चार पहिया वाहनों के आने से पार्किंग स्थल भरे रहे। इस बार कोरोना महामारी के चलते मेला स्पेशल ट्रेने नहीं चली। नित्य चलने वाली ट्रेनों से श्रद्धालु आए। भीड़ का अधिक दबाव होने के कारण वाहनों को मेला क्षेत्र में प्रवेश नहीं दिया गया। कामदगिरि के आसपास आस्थावानों की अपार भीड़ परिक्रमा मार्ग में रही। मंदाकिनी तट रामघाट में दिन-रात मेला चला। जब श्रद्धालुओं ने देवगंगा मंदाकिनी में दीपदान किया तो ऐसा लग रहा था मानो असंख्य तारे नदी में उतर आये हैं। श्रद्धालुओं ने बांस की बनी चैखट में एक साथ सैकडों दीपों को रखकर नदी में दीपदान किया। इस दौरान पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों की सतर्क नजर बनी रही। वहीं अमावस्या मेला व कोरोना महामारी से सुरक्षा को जिला प्रशासन ने इस वर्ष पूरी तैयारी के साथ व्यवस्थायें की थी। यूपी-एमपी क्षेत्र के पांच कोसी दीपदान मेला क्षेत्र को दुल्हन की तरह सजाया गया है। खास कर रामघाट में नजारा शाम से अद्वितीय नजर आता है। जब रंग-बिरंगी रोशनी से घाट नहा जाते हैं। नगर पालिका के अधिशाषी अधिकारी नरेन्द्र मोहन मिश्र ने बताया कि रामघाट सहित सभी प्रमुख मार्गाे में प्रकाश की व्यवस्था की है। जिससे यात्रियों को किसी प्रकार की दिक्कत न हो। जिलाधिकारी शेषमणि पाण्डेय व पुलिस अधीक्षक अंकित मित्त्ल ने भ्रमण कर मेला ड्यूटी में लगे सभी अधिकारियों व कर्मचारियों को निर्देश देते रहे। जिससे मेला क्षेत्र में किसी प्रकार की अनहोनी नहीं हो सकी। कामदगिरि मंदिर में लोगों को मास्क लगाने की अपील करते रहे। 

प्रमुख पर्व दीपावली के पहले नर्क चैदस की संध्या से कामदगिरि प्रमुख द्वार से बांके बिहारी मंदिर के पास परिक्रमा मार्ग में बैरीकेटिंग कर दी गई है। इसके अलावा इस मार्ग से प्रमुख द्वार को जाने वाले सभी रास्तों को भी बंद कर दिया गया है ताकि श्रद्धालु परिक्रमा लगाने के बाद दोबारा प्रमुख द्वार में न पहुंच पाए। जिससे भीड़ का दबाव न बढ़े। सतना कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक लगातार कैप करते मेला पर नजर रखे हैं। उन्होंने बताया कि पर्याप्त पुलिस कर्मियों का श्रद्धालुओं पर कड़ा पहरा है। वहीं पुलिस अधीक्षक चित्रकूट ने बताया कि मेला क्षेत्र में भारी संख्या में पुलिस जवान यात्रियों की सुरक्षा के लिए लगाए गए हैं। दीपमालिका मेले में कामदगिरि की परिक्रमा तो लाखों श्रद्धालु लगाते हैं। पंच कोसी परिक्रमा में बांके सिद्ध, देवांगना, पंपापुर, सीता रसोई, हनुमानधारा, मत्यगेंद्रनाथ, कामतानाथ, रामशैय्या सहित भरतकूप आदि स्थान आते हैं। इन सभी स्थानों पर श्रद्धालु मत्था टेकने पहुंचे और अपनी मन्नते मांगी। दीपदान मेला सुबह तक तो सामान्य स्थिति थी, लेकिन दोपहर बाद श्रद्धालुओं की भीड़ उमडी। सुरक्षा के मद्देनजर सीसीटीबी कैमरे लगाए गए। ड्रोन कैमरे से प्रत्येक गतिविधियां कैमरे की नजर में रही।

रामघाट में उमड़े आस्थावान।

विशेष सुरक्षा के बीच मंदिरों में हुआ प्रवेश

चित्रकूट। रामघाट में स्थित मत्यगेंद्रनाथ मंदिर, भरत मंदिर, पर्णकुटी मंदिर और चरखारी मंदिर में पुलिस ने मेटल डिटेक्टर लगाये थे जो भी श्रद्धालु इन मंदिरों में दर्शन को पहुंचे उनकी पूरी जांच की गई और इसके बाद भी प्रवेश दिया गया। इस दौरान घुड़सवार पुलिस कर्मी भी लगातार रामघाट से पर्यटन तिराहा तक गश्त करते रहें। 

डीएम-एसपी मेले का लेते रहे जायजा

चित्रकूट। जिलाधिकारी शेषमणि पाण्डेय व पुलिस अधीक्षक अंकित मित्तल ने चल रहे दीपावली अमावस्या मेला में रामघाट, मंदाकिनी तट, कामदगिरि परिक्रमा स्थल व पूरे मेला क्षेत्र का जायजा लिया। जिलाधिकारी ने मेला क्षेत्र मंे लगाये गये अधिकारी व कर्मचारियों को निर्देश दिये कि श्रद्वालुओं को दिक्कत नही होनी चाहिये। ड्यूटी ईमानदारी से करें। इसमें किसी प्रकार की लापरवाही न बरती जाये। समय-समय से मेला क्षेत्र की सूचना उपलब्ध कराते रहें। जिस स्थल पर ड्यूटी लगी है वहां पर पैनी नजर रखें। उन्होंने खोही ग्राम पंचायत भवन में बैठक कर अधिकारियों से मेले क्षेत्र की होने वाली सुविधाओं की जानकारी प्राप्त की। इस अवसर पर अपर पुलिस अधीक्षक प्रकाश स्वरूप पाण्डेय, उप जिलाधिकारी रामप्रकाश सहित संबंधित अधिकारी आदि उपस्थित रहे।

खोया-पाया केन्द्र रहे सक्रिय

चित्रकूट। पूरे मेला क्षेत्र में खोया-पाया केंद्र खोले गए हैं।ं जिसमें प्रमुख रुप से रामघाट, प्रमुख द्वार, खोही परिक्रमा मार्ग और पोद्दार इंटर कालेज के पास हैं। जिनमें लाउडस्पीकर के माध्यम से खोये हुये लोगों की लगातार जानकारी दी जा रही है। इसके अलावा मास्क लगाने व सोशल डिस्टेंसिंग की अपील की।


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages