सैय्यद जलालउद्दीन रह0 के नौंवे उर्स पर अकीदतमंदों की उमड़ी भीड़ - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Thursday, November 12, 2020

सैय्यद जलालउद्दीन रह0 के नौंवे उर्स पर अकीदतमंदों की उमड़ी भीड़

दरूदो सलाम का पेश किया नजराना

फतेहपुर, शमशाद खान । हजरत सैय्यद जलालउद्दीन रहमतुल्लाह अलैह के नौंवा उर्स मुबारक ईदगाह स्थित नई बस्ती में खानकाहे आलिया में धूमधाम से मनाया गया। जिसमें देश विदेश के अलावा दूर दराज से आये हुए अकीदतमंदों द्वारा गुलपोशी व दरूदो सलाम का नजराना पेश किया। फातेहा ख्वानी की गयी। उर्स के मौके पर अकीदतमंदों के लिये लंगर का भी आयोजन किया गया था जिसमे आये हुए अकीदतमंद लंगर में शामिल हुए। 

हजरत सैय्यद जलाल उद्दीन रह0अलै0 की नजर में मौजूद गद्दीनशीन व अन्य।

शेख अब्दुल कादिर जिलानी रहमतुल्लाह अलैह बड़े पीर की निस्बत से साबिर पिया व दादा तेग अली शिरकाई शरीफ हस्वा से ताल्लुक रखने वाले हजरत सैयद जलाल उद्दीन रहमतुल्लाह अलैहे के नौंवे उर्स मुबारक का आयोजन रौज ए खानकाहे आलिया में हरवर्ष आयोजित किया जाता है। जिसमें बड़ी संख्या में देश-विदेश से अकीदतमंद शिरकत करते है। वार्षिक उर्स के अवसर पर मीलाद ए मुस्तफा (सल्ल) व मीलाद ए हम्द बारी तआला का नमाज ए जोहर किया गया। तत्पश्चात लंगर का आयोजन किया गया। जिसमें उर्स में शामिल होने आये अकीदतमन्द पुरुषों, महिलाओ के साथ-साथ बच्चों ने भी लंगर ग्रहण किया। लंगर के पश्चात कुल शरीफ व फातेहा का आयोजन किया गया। साथ ही मुल्क की तरक्की, एकता अखंडता आपसी भाईचारा व सदभाव बनाये रखने की दुआएं की गयी। गद्दीनशीन मो0 अफजाल साबरी खान, फरदीन खान साबरी, शब्बीर वारसी ने बताया कि हजरत सैयद जलाल उद्दीन रहमतुल्लाह अलैह का सालाना उर्स मुबारक हर वर्ष धूमधाम से मनाया जाता है। इस वर्ष कोविड को देखते हुए  सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखते हुए आयोजन किया गया है। सेनेटाइजर का प्रयोग करने व मास्क लगाकर का जियारत करने की अनुमति दी गयी है। उन्होंने बताया कि ईद की 25 को हजरत साहब का उर्स मनाया जाता है। उर्स मे हजरत साहब के मानने वाले अकीदतमन्द देश के कोने कोने से लेकर विदेशो से भी बड़ी संख्या में जायरीन आते है। दरगाह कमेटी की ओर से सभी के ठहरने, खाने व जियारत की व्यवस्था की जाती है। इस मौके पर मो0 हाशिम, मो0 गुड्डू साबरी, मो0 अफजाल खान साबरी, अनीस, सरताज, नवाब, वकील आदि मौजूद रहे।


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages