आपराधिक घटनाओं के विरोध में बहुजन क्रान्ति मोर्चा ने दिया धरना - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Saturday, October 31, 2020

आपराधिक घटनाओं के विरोध में बहुजन क्रान्ति मोर्चा ने दिया धरना

जेल भरो आन्दोलन के तहत एकत्रित हुए पदाधिकारी

राष्ट्रपति को सम्बोधित सीओ को सौंपा ज्ञापन

फतेहपुर, शमशाद खान । प्रदेश में बढ़ रही आपराधिक घटनाओं के विरोध में बहुजन क्रान्ति मोर्चा के राष्ट्रीय संयोजक वामन मेश्राम के आहवान पर शुक्रवार को जिला इकाई के पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं ने जेल भरो आन्दोलन के तहत नहर कालोनी मंे एकत्र होकर धरना दिया। धरने के दौरान केन्द्र व प्रदेश सरकार के खिलाफ जमकर जहर उगला। राष्ट्रपति को सम्बोधित एक ज्ञापन पुलिस उपाधीक्षक नगर को सौंपकर सभी मांगों को पूरा किये जाने की मांग की। कहा गया कि मांगों पर कार्रवाई न होने पर भारत बंद का ऐलान किया जायेगा। 

नहर कालोनी में सीओ को ज्ञापन सौंपते पदाधिकारी।

बहुजन क्रान्ति मोर्चा के जिला संयोजक मुन्ना लोधी की अगुवई में पदाधिकारी व कार्यकर्ता नहर कालोनी पहुंचे। धरने को भारत मुक्ति मोर्चा, राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग मोर्चा, राष्ट्रीय किसान मोर्चा, विद्यार्थी मोर्चा, राष्ट्रीय मुस्लिम मार्चा, जन जागृति मोर्चा, महिला मोर्चा, लोधी क्रान्ति सेना व बहुजन मुक्ति पार्टी ने अपना समर्थन दिया। धरने को सम्बोधित करते हुए वक्ताओं ने कहा कि प्रदेश में लगातार लूट, हत्या, गैंगरेप की घटनाएं हो रही हैं। लेकिन प्रदेश सरकार द्वारा इस ओर कड़ा रूख अख्तियार नहीं किया जा रहा है। जिससे अपराधियों के हौसले बुलन्द हैं। वक्ताओं ने प्रदेश के कई जनपदांे में हुयी घटनाओं का उदाहरण भी पेश किया और कहा कि किसी भी मामले में अब तक अपराधियों को सजा नहीं दिलाई गयी। वक्ताओं ने कहा कि प्रदेश के साथ-साथ बिहार प्रान्त में भी घटनाओं का अंबार है। केन्द्र सरकार द्वारा भी इस पर कोई ठोंस कदम नहीं उठाया जा रहा है। केन्द्र व प्रदेश सरकारें सभी मोर्चों पर विफल हैं। वक्ताओं ने कहा कि भारत सरकार एवं राज्य सरकारों द्वारा बिजली विभाग, रेलवे, बीएसएनएल आदि अन्य संस्थानों का निजीकरण करने का प्रयास किया जा रहा है। पिछले चैदह सितम्बर को किसानों के विरोध में केन्द्र सरकार ने तीन अध्यादेशों के खिलाफ राष्ट्रीय किसान मोर्चा के माध्यम से देशव्यापी आन्दोलन किया था। जिसमें किसानों के ऊपर फर्जी मुकदमें दर्ज किये गये हैं। धरने की जानकारी मिलने पर पुलिस उपाधीक्षक नगर पुलिस बल के साथ नहर कालोनी पहुंचे। जहां पदाधिकारियों ने राष्ट्रपति को सम्बोधित एक ज्ञापन सौंपकर किसानों के ऊपर दर्ज फर्जी मुकदमों को वापस लिये जाने, कम्पनियों का निजीकरण रोके जाने के साथ ही प्रदेश की कानून व्यवस्था को चुस्त-दुरूस्त बनाये रखने की मांग की। वक्ताओं ने कहा कि यदि मांगे पूरी न की गयी तो भारत बंद का ऐलान किया जायेगा। इस मौके पर दिलीप पाल, इन्द्रसेन पासवान, अश्वनी कुमार, कामता, गंगा प्रसाद सिंह लोधी, राजू यादव, योगेश, विनीत कुमार आदि मौजूद रहे। 


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages