आप ने हाथरस पीड़ित परिवार के लिए मांगी वाई श्रेणी की सुरक्षा - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Tuesday, October 6, 2020

आप ने हाथरस पीड़ित परिवार के लिए मांगी वाई श्रेणी की सुरक्षा

सर्वोच्च न्यायालय के जज की निगरानी में सीबीआई जांच की उठायी मांग

फतेहपुर, शमशाद खान । हाथरस काण्ड की आग ठण्डी होने का नाम नहीं ले रही है। मंगलवार को आम आदमी पार्टी के पदाधिकारियों ने कलेक्ट्रेट पहुंचकर राष्ट्रपति को सम्बोधित ज्ञापन जिलाधिकारी को सौंपकर हाथरस पीड़ित परिवार के लिए जहां वाई श्रेणी की सुरक्षा मांगी वहीं सर्वोच्च न्यायालय के जज की निगरानी में सीबीआई जांच की आवाज बुलन्द की। 

आम आदमी पार्टी के जिलाध्यक्ष श्रीराम पटेल एडवोकेट की अगुवई में पदाधिकारी कलेक्ट्रेट पहुंचे और राष्ट्रपति को सम्बोधित ज्ञापन जिलाधिकारी को सौंपकर कहा कि हाथरस मे हुई इंसानियत को शर्मसार करने वाली घटना ने योगी सरकार पर बड़ा सवाल खड़ा किया है। योगी सरकार की नैतिक जिम्मेदारी बनती है कि प्रदेश की 24 करोड़ जनता सुरक्षित रहे लेकिन योगी सरकार रक्षक की जगह भक्षक बन गयी है। हाथरस में पुलिस द्वारा बिना परिवार की सहमति के गुड़िया का शव जलाना, सबूत नष्ट करना, पुलिस प्रशासन के सामने क्षेत्र के विशेष जाति के दबंग

कलेक्ट्रेट में नारेबाजी करते आम आदमी पार्टी के पदाधिकारी।

लोगों द्वारा पीड़ित दलित परिवार को खुलेआम धमकाने से स्पष्ट है कि योगी सरकार में पीड़ित परिवार सुरक्षित नहीं है। 05 अक्टूबर को पीड़ित परिवार को न्याय देने की मॉग व सांत्वना देने पहुँचे पार्टी के प्रतिनिधि मण्डल पर पुलिस सुरक्षा में विश्वास घात करते हुये प्रदेश प्रभारी व सांसद संजय सिंह, दिल्ली डिप्टी स्पीकर राखी बिड़ला, दिल्ली सरकार के कैबिनेट मंत्री राजेन्द्र पाल गौतम, पंजाब में विपक्ष के नेता हरपाल सिंह चीमा, आप प्रदेश उपाध्यक्ष फैसल लाला पर पुलिस सुरक्षा के बीच हमला हुआ। सुरक्षा में हुई इतनी बड़ी चूक प्रदेश सरकार की नियत पर सवाल खड़ा करती है। इस घटना को अंजाम देने वाले की फोटो एडीजी लॉ एण्ड आर्डर प्रशांत कुमार के साथ मिली। इतना ही नहीं आप नेताओं पर पुलिस प्रशासन द्वारा बर्बरता पूर्वक लाठी चार्ज किया गया। जिसकी पार्टी कड़ी निन्दा करती है। राष्ट्रपति से मांग की गयी कि गुड़िया के परिवार को वाई श्रेणी की सुरक्षा दी जाये, सीबीआई की जॉच सर्वोच्च न्यायालय के न्यायमर्ति की निगरानी में करायी जाये व गुड़िया का केस गैर भाजपा शासित प्रदेश मे भेजा जाए। इस मौके पर रतिलाल, सुखराम, हीरालाल केसकर, प्रेमचन्द्र, विपिन, रूपेन्द्रनाथ, प्रदीप कुमार, राम किशोर विश्वकर्मा, रंजीत कुमार मौर्या, शाहजहां आदि मौजूद रहे। 

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages