किसानों की आय दूनी करने को सरकार प्रतिबद्ध - युवराज सिंह - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Advt.

Thursday, October 8, 2020

किसानों की आय दूनी करने को सरकार प्रतिबद्ध - युवराज सिंह

हमीरपुर, महेश अवस्थी  । कृषक जागरूकता कार्यक्रम एवं जनपद स्तरीय रबी कृषि उत्पादकता गोष्ठी में मुख्य अतिथि  युवराज सिंह  विधायक  सदर ने कहा कि उनकी सरकार वर्ष 2022 तक किसानोें की आय दोगुनी करने हेतु प्रतिबद्व है ।जिसके लिए कृषि में बतायी गयी उन्नत तकनीको के साथ-साथ खेती में विविधीकरण पशुपालन, मत्स्य पालन, मुर्गी पालन, सब्जी उत्पादन, बागवानी को किया जाये, जैसा कि उनके द्वारा भी इसे अपनाया जा रहा है। वह स्वयं भी जैविक खेती के लिए प्रोत्साहित है तथा उनके अनुसार जीवामृत/बीजामृत  का प्रयोग करते हैं तथा गोबर की खाद के लिए किसानों को प्रोत्साहित किया। उन्होने पानी की कम उपलब्धता को ध्यान में रखकर स्प्रिंकलर ड्रिप सिचाई के प्रयोग करने के लिए कृषकों को प्रेरित किया ।  उन्होने बुजुर्गवार कृषकों से अपील किया कि नई तकनीकी की जानकारी अपने युवाओं से सीखकर उनसे सामंजस्य बैठायें ताकि विकास कार्यो में उनकी भूमिका पूर्व की तरह महत्वपूर्ण बनी रहे। 


यहां कृषकों को मिनी किट का वितरण किया गया। कुलदीप निषाद, नगर पालिका अध्यक्ष ने  किसानों को कृषि की नई तकनीकी को बढ़ाने की कृषकों से अपील की ।     कृषक अपने जानवरों को खुला छोड़कर अन्ना न बनायें बल्कि शासन द्वारा लागू नीति के अनुसार कुछ पशुओं का पालन करते हुए देय सुविधाओं का लाभ उठाये। 

कमलेश कुमार वैश्य मुख्य विकास अधिकारी ने रबी गोष्ठी में कहा कि कृषि ही हमारी अर्थ व्यवस्था है।भूमि हमारी मां है, इसकी उत्पादकता कम न हो इसके लिए वर्मी कम्पोस्ट, गोबर की खादों का अधिक प्रयोग करें ताकि रसायनिक उर्वरकों पर निर्भरता कम हो एवं पैसे की बचत हो सके।बीज एवं उर्वरकों की कोई कमी नही है ।  उन्होने अपील की कि जनपद में संचालित मनरेगा योजनान्तर्गत विभिन्न कार्यो यथा-मेड़ बन्धी, नाला  कार्य पूर्ण करा सकते है ,जिससे उनकी सिंचन क्षमता बढ़ जायेगी। उन्होने बताया कि गौशालाओं से कृषक भाई गोवंश प्राप्त कर सकते है तथा उसके भरण पोषण हेतु प्रति गोवंश 900 रूपया प्रतिमाह नियमित रूप से दिया जाता रहेगा।  

विनय प्रकाश श्रीवास्तव अपर जिलाधिकारी ने कहा कि आग जलने की घटना को चैबीसों घंटे सैटेलाइट द्वारा कैच किया जाता है, जिसके लिए उन्होने किसानों से अपील किया कि कोई भी कृषक खेतों पर पराली न जलाये बल्कि उसे खेत में मिलाकर उसकी उर्वरा क्षमता बढ़ायें। शासन पराली जलाने वालो के प्रति बहुत गम्भीर है । जिस पर दण्डात्मक कार्यवाही की जाएगी ।


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages