बिजली कर्मियों ने दी कल से कार्य बहिष्कार की चेतावनी - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Saturday, October 3, 2020

बिजली कर्मियों ने दी कल से कार्य बहिष्कार की चेतावनी

निजीकरण का विरोध कर रहे हैं बिजली कर्मचारी 

बांदा, के एस दुबे । शासन की मनमानी से परेशान बिजली कर्मचारी संयुक्त संघर्ष समिति ने निजीकरण को रद्द करने की मांग की है। ऐसा न होने पर चेतावनी देते हुए कहा कि आगामी पांच सितंबर से कार्य बहिष्कार किया जाएगा। इधर, बिजली कर्मचारियों का धरना निजीकरण के विरोध में लगातार पांचवें दिन भी शनिवार को जारी रहा। बिजली कर्मचारियों ने आंदोलन का रुख अख्तियार किया है। 

पांचवें दिन धरने पर बैठे बिजली कर्मचारी

संघर्ष समिति के पूर्व घोषित कार्यक्रम के अनुसार शनिवार को लगातार पांवचें दिन भी सभी बिजली कार्मिकों, अधिकारियों ने अपरान्ह दो बजे से शाम पांच बजे तक क्रमिक अनशन और धरना प्रदर्शन किया। पीली कोठी उपकेंद्र पर धरना-प्रदर्शन आयोजित किया गया था। संघर्ष समिति के पदाधिकारियों ने चेतावनी दी है कि अगर सरकार द्वारा प्रस्तावित बिजली विभाग का निजीकरण को रद्द नहीं किया गया तो बिजली कर्मचारी संयुक्त संघर्ष समिति की मांगें नहीं मानी गईं तो 5 सितंबर से समस्त बिजली कार्मिक, अभियंता पूर्ण कार्य बहिष्कार करेंगे। बताया गया कि कार्य बहिष्कार आंदोलन में सभी आवश्यक, चिकित्सीय सेवाओं के लिए बिजली आपूर्ति के लिए बिजली कार्मिक कार्य करेंगे। सभी बिजली कर्मी उत्पादन इकाइयों एवं पाली कार्य भी संपादित करेंगे। यह आंदोलन कार्य बहिष्कार है। इसके दौरान सभी कार्मिक, कार्यालयों में उपस्थित रहकर सामान्य कार्य से विरत रहेंगे। बिजली कर्मियों को संबोधित करते हुए संयोजक पीयूष द्विवेदी ने कहा कि सभी बिजली कार्मिक निजीकरण के विरोध में आखिरी सांस तक संघर्ष करेंगे। इस आंदोलन में सभी आवश्यक सेवाएं, पेयजल, चिकित्सा आदि की विद्युत आपूर्ति बहाल रखेंगे और आमन जनमास की सुविधाओं को बाधित नहीं किया जाएगा। एहसानुज्जमा ने सभी आम जनता छात्रों, किसान, मजदूरों से अपील की है कि रोजगार एवं मजदूर किसान, छात्रों के हित संरक्षण के लिए बिजली कर्मियों के आंदोलन में सहयोग प्रदान करें। सार्वजनिक संपत्तियों का निजीकरण आम जनता के अधिकारों का हनन है। दक्षिणांचल महामंत्री अनिल यादव ने जिले के समस्त राजकीय कर्मचारी संगठनों से बिजली कर्मचारियों के निजीकरण के खिलाफ लड़ाई में सहयोग देने की अपील की। सभा की अध्यक्षता शत्रुघन चैहान ने की। संचालन खंडीय उपाध्यक्ष आलोक शर्मा ने किया। कार्यक्रम में आनंद कुमार पाल, अशोक यादव, नवीन सिंह, रविकांत अनुरागी, रजनेश कुमार, भूपेश कुमार, अमरेश पाल, संतोष, भूपेंद्र वर्मा, आशाराम, जनक, श्यामबहादुर, पवन कुमार, सुमित गुप्ता, कमाल अहमद, मनोज गुप्ता, विनय प्रजापति, मोहनलाल राजपूत, महेंद्र, सुशील, जितेंद्र कुमार, तौसीफ, पप्पू रजा, इम्तियाज, रामसजीवन, ओमप्रकाश, प्रकाश, महेश, रामधनी, मुबारक, श्रीकृष्ण कोटार्य सहित जिले के सभी अभियंता और कर्मचारी शामिल रहे। 


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages