बिटिया को न्याय दिलाने के लिए संगठनों में उबाल - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Friday, October 2, 2020

बिटिया को न्याय दिलाने के लिए संगठनों में उबाल

प्रदेश सरकार को बर्खास्त करने, दोषियों को कड़ी सजा देने की मांग 

बांदा, के एस दुबे । हाथरस घटना को लेकर विरोध के सुर और तेज हो गए। गैंगरेप के बाद हत्या की घटना को लेकर दलित संगठनों में भी उबाल आ गया। गुरुवार को अलग-अलग दलित संगठनों ने प्रदेश सरकार के खिलाफ मोर्चा खोलते हुए सड़कों पर उतर कर विरोध-प्रदर्शन किया। प्रशासन के माध्यम से राष्ट्रपति व राज्यपाल को संबोधित ज्ञापन सौंप कर प्रदेश सरकार को बर्खास्त करने की मांग की।

राष्ट्रीय स्वराज पैंथर पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं ने गुरुवार को राष्ट्रीय अध्यक्ष मुन्नालाल दिनकर की अगुवाई में हाथरस घटना के विरोध में पैदल मार्च निकाल कर जोरदार विरोध-प्रदर्शन किया। स्वतंत्रता स्मारक अशोक लाट स्तंभ के नजदीक धरना देते हुए प्रदेश सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुए दरिंदगी का शिकार हुई ‘निर्भया’ को न्याय दिलाने की मांग की। बाद में जुलूस की शक्ल में नारेबाजी करते हुए पैंथर पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं

पैंथर पदाधिकारीगण अशोक स्तंभ के समीप प्रदर्शन करते हुए

ने जिलाधिकारी कार्यालय के बाहर विरोध-प्रदर्शन करते हुए राष्ट्रपति को संबोधित चार सूत्रीय ज्ञापन प्रशासन को सौंपा। चारों आरोपियों को फांसी की सजा, मृतक आश्रितों को एक करोड़ रुपये आर्थिक मदद, बहन-बेटियों और महिलाओं की सुरक्षा के लिए प्रदेश व्यापी अभियान चलाने और दलितों पर बढ़ते अत्याचार और उत्पीड़न की घटनाओं पर रोकथाम की मांग की। साथ ही बहन-बेटियों की सुरक्षा में नाकाम प्रदेश सरकार को बर्खास्त करने की पुरजोर पैरवी की। उधर, सामाजिक परिवर्तन मिशन ने हाथरस घटना के विरोध में पैदल मार्च निकाल कर आक्रोश जताया। कलक्ट्रेट में प्रदर्शन करते हुए राज्यपाल को संबोधित ज्ञापन सौंपा। कृत्य करने वाले आरोपितों को फांसी की सजा दी जाए और स्वजन को एक करोड़ रुपये की आर्थिक सहायता दी जाए। कहा कि इस सरकार में दलितों की बेटियां सुरक्षित नहीं हैं। प्रदेश में कानून व्यवस्था पूरी तरह से फेल हो चुका है। आए दिन बलात्कार और हत्या की घटनाएं हो रही हैं। हाथरस की घटना इंसानियत को शर्मसार करने वाली है। बेटियों को सुरक्षा देने में नाकाम योगी आदित्यनाथ को मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देने की मांग की। 

आरोपियों को दी जाए फांसी 

बांदा। आरक्षण बचाओ संघर्ष समिति ने ‘बिटिया’ को न्याय दिलाने की मांग लेकर प्रदर्शन किया। राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री को संबोधित सात सूत्रीय ज्ञापन प्रशासन को सौंप कर घटना में नामजद आरोपियों को फांसी की सजा और क्रूर से क्रूरतम अपराध की श्रेणी में शामिल करते हुए जल्द सुनवाई पूरी करने की मांग की। जिलाध्यक्ष जेपी सिंह की अगुवाई में गुरुवार को समिति पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं ने ‘बिटिया’ को न्याय दिलाने की मांग लेकर प्रदर्शन किया। राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री को संबोधित सात सूत्रीय ज्ञापन सिटी मजिस्ट्रेट को सौंपा। इसमें कहा है कि घटना की सुनवाई फास्ट ट्रैक में करते हुए नामजद चारों आरोपियों को फांसी की सजा दिलाने और क्रूर से क्रूरतम अपराध की श्रेणी में घटना को शामिल करते हुए एक पखवारे में फैसला सुनाया जाए।


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages