ध्वस्त कानून व्यवस्था पर गांधी प्रतिमा के समक्ष सपाईयों ने किया मौन सत्याग्रह - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Friday, October 2, 2020

ध्वस्त कानून व्यवस्था पर गांधी प्रतिमा के समक्ष सपाईयों ने किया मौन सत्याग्रह

बेटियों की अस्मत लूटने वालों को दी जाये कड़ी सजा: विशंभर निषाद

सरकार के इशारे पर मामले को दबाने का प्रयास कर रहा प्रशासन: विपिन 

फतेहपुर, शमशाद खान । प्रदेश की ध्वस्त कानून व्यवस्था को लेकर समाजवादी पार्टी के पदाधिकारियों एवं कार्यकर्ताओं ने गांधी जयन्ती के अवसर पर गांधी प्रतिमा के समक्ष सरकार के खिलाफ मौन सत्याग्रह किया। दो घण्टे तक सपाई मौन सत्याग्रह पर बैठे रहे। तत्पश्चात प्रदेश सरकार के खिलाफ जहर उगले हुए कहा कि प्रदेश की कानून व्यवस्था ध्वस्त हो गयी है। एक के बाद एक बलात्कार की घटनाएं सामने आयी हैं। अपराधियों में खौफ नाम की कोई चीज नहीं रह गयी है। क्योंकि सरकार के इशारे पर मामलों को दबाने का प्रयास किया जा रहा है। समाजवादी पार्टी सड़कों पर उतरकर आन्दोलन करेगी। 

गांधी प्रतिमा पर माल्यार्पण करते एवं मौन सत्याग्रह पर बैठे सपाई।

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव एवं प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम पटेल के निर्देशन में गांधी जयन्ती के अवसर पर सपाईयों ने मौन सत्याग्रह की घोषणा की थी। कार्यक्रम को लेकर सुबह से ही सपाईयों का शादीपुर स्थित पार्टी कार्यालय पहुंचने का सिलसिला शुरू हो गया था। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में राज्यसभा सांसद एवं राष्ट्रीय महासचिव विशंभर प्रसाद निषाद ने शिरकत की। जिलाध्यक्ष विपिन सिंह यादव के नेतृत्व में सपाई मास्क लगाकर मौन जुलूस लेकर कलेक्ट्रेट की ओर निकले। उधर सुरक्षा व्यवस्था केे दृष्टिकोण से जगह-जगह पुलिस बल तैनात रहा। सपाई शांतिपूर्वक कलेक्ट्रेट स्थित महात्मा गांधी प्रतिमा के समक्ष पहुंचे जहां दो घण्टे तक मौन सत्याग्रह किया। सत्याग्रह समाप्त होने के बाद मुख्य अतिथि राज्यसभा सांसद श्री निषाद ने कहा कि प्रदेश में अपराधों की बाढ़ आ गयी है। योगी सरकार सभी मोर्चों पर विफल साबित हो रही है। कोरोेना काल में जहां पीपीई किट व दवाओं में भ्रष्टाचार का खेल हुआ वहीं प्रदेश की कानून व्यवस्था भी चरमरा गयी। उन्होने कहा कि एक के बाद एक सामूहिक बलात्कार की घटनाएं प्रदेश में हुयी हैं। हाथरस जनपद में बाल्मीकि समाज की बेटी के साथ सामूहिक दुष्कर्म करके उसको मरणासन्न किया। पीड़िता ने दिल्ली सफदरगंज अस्पताल में दम तोड़ दिया। पुलिस ने सरकार के इशारे पर इस मामले को दबाने के लिए रातों रात शव का अन्तिम संस्कार कर दिया। आखिरी वक्त में परिजन बेटी का चेहरा भी नहीं देख सके। पुलिस का यह अमानवीय चेहरा सबके सामने है। उन्होने कहा कि दरिन्दों को सख्त से सख्त सजा मिलनी चाहिए जिससे आने वाले समय में दोबारा इन घटनाओं की पुनरावृत्ति न हो। जिलाध्यक्ष विपिन सिंह यादव ने कहा कि प्रदेश में कानून का नहीं बल्कि अपराधियों एवं माफियाओं का राज हो गया है। बलात्कार की घटनाओं में पुलिस पर्दा डालने में जुटी हुयी है। हाथरस घटना ने यह साबित कर दिया है कि पुलिस अपराधियों के पक्ष में खड़ी है। मीडिया कर्मियों कोे भी गांव से दूर रखा जा रहा है। जिससे सच्चाई लोगों के सामने न आ सके। उन्होने कहा कि सच्चाई किसी से छिपी नहीं है इस सरकार को अब जनता उखाड़ फेकेगी। इस मौैके पर पूर्व विधायक मदन गोपाल वर्मा, पूर्व चेयरमैन चन्द्र प्रकाश लोधी, पूर्व जिलाध्यक्ष रामेश्वर दयाल दयालू गुप्ता, दलजीत निषाद, अरूणेश पाण्डेय, ठा0 सतीश राज सिंह, मो0 साबिर, रीता प्रजापति, चैधरी मंजर यार, आजम खान, सऊद अहमद, जिला पंचायत सदस्य रंजीत पटेल, राजू साहू, नफीस उद्दीन, मोईन खां, शकील गोल्डी, अशोक कुमार, वंदना राकेश शुक्ला, महिला जिलाध्यक्ष संगीता राज पासी, तरन्नुम परवीन, रवीन्द्र यादव, जंग बहादुर सिंह मखलू, शकील अकबर, अंसारूल हक, शोएब खान किंग, तनवीर हैदर, प्रेमनारायण विश्वकर्मा, कलीम शेख, राघवेन्द्र प्रताप सिंह यादव, आरिफ कुरैशी, रहीम राईन कादरी, हीरालाल साहू, विनोद पासवान, अतुल यादव, उदय सिंह, परिक्षित यादव, राहुल यादव, हंसराज सिंह चंदेल, नूर आलम, आदि तमाम सपाई मौजूद रहे। 


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages