जरूरत है बालिकाओं को कर्तव्य के प्रति जागरूक करने की - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Advt.

Saturday, October 10, 2020

जरूरत है बालिकाओं को कर्तव्य के प्रति जागरूक करने की

हमीरपुर, महेश अवस्थी  । नगर के सरस्वती विद्या मंदिर इण्टर कालेज मे अन्तर्राष्ट्रीय बालिका दिवस की पूर्व संध्या पर  आयोजित गोष्ठी में संगीताचार्य ज्ञानेश जडि़या ने सरस्वती वन्दना की । मातृ भारती की अध्यक्षा श्रीमती छाया ने कहा कि बेटिया अगर चाहे ,तो सब कुछ सम्भव हो सकता है। आज हमारी सरकार ने विभिन्न प्रकार की योजनायें बालिकाओ के लिए चलायी है। यदि आवश्यकता है , तो सिर्फ उन्हे अपने अधिकार और कर्तव्यो के प्रति जागरुक किया जाये। आज हमारे देश की महिलायें न पहले कम थी और न ही आगे भी कमजोर होगी। 


विद्यालय के प्रधानाचार्य रमेशचन्द्र ने  कहा कि बालिका दिवस मनाने का हेतु यह है कि पहले हमारा समाज मातृ सत्तात्मक था , बाद मे पितृ सत्तात्मक हो गया। क्योकि जब मुगल आक्रान्ताओ ने हमारी बहन बेटियो की अस्मिता लूटना शुरु कर दी , तो हमे उन्हे परदे के अन्दर कैद करना पड़ा। किसी भी व्यक्ति का जीवन तभी सार्थक होता है, जब वो अपनी बेटी का कन्यादान करे। आज हमारे आचार्य व संस्थान इन कुरीतियो लैगिंक भेदभाव को समाप्त करने मे पुरजोर कोशिश कर रहे है। कन्या भारती की अध्यक्षा शाल्वी पाण्डेय व बहन आरुषि चौहान व आन्सी ने बताया कि 19 दिसम्बर 2011 को यूएनओ मे बिल पारित हुआ था तथा 11 अक्टूबर 2012 को पहला अन्तर्राष्ट्रीय बालिका दिवस मनाया गया , 24 जनवरी को राष्ट्रीय बालिका दिवस मनाया जाता है। उन्होने बताया कि लोग अपनी सोच बदले तथा सामूहिक  रुप से यह नारा दिया ‘‘ सशक्त बालिका सशक्त राष्ट्र’’ तथा कन्या भ्रूण हत्या बन्द हो। आये हुए अतिथियो का बैज अलंकरण छात्राओ द्वारा किया गया। कार्यक्रम का संचालन बलराम सिंह ने किया। आभार ज्ञापन कार्यक्रम प्रमुख श्रीमती शशि गंगोला ने किया। यह जानकारी विद्यालय के मीडिया प्रभारी आचार्य वेदप्रकाश शुक्ल ने दी।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages