गाजे-बाजे और धूमधड़ाके से किया गया दुर्गा प्रतिमाओं का विसर्जन - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Monday, October 26, 2020

गाजे-बाजे और धूमधड़ाके से किया गया दुर्गा प्रतिमाओं का विसर्जन

देवी भक्त डीजे की धुन पर जमकर थिरके, जमकर उड़ा रंग और गुलाल 

देश भक्ति से ओतप्रोत झांकियां भी रहीं विसर्जन जुलूस में शामिल 

देर रात तक चला दुर्गा प्रतिमा विसर्जन करने का सिलसिला 

चप्पे-चप्पे पर तैनात रही पुलिस फोर्स, जामा मस्जिद के पास रही पैनी निगाह 

यूपी 100 की गाड़ियां लगातार विसर्जन जुलूस पर भ्रमण करती नजर आईं 

जगह-जगह पर लगाए गए पंडाल, देवी भक्तों को कराया गया जलपान 

बांदा, के एस दुबे । कोरोना महामारी के दौर में प्रशासन की तमाम सख्ती के बावजूद जगत माता जगदंबे की प्रतिमाओं के विसर्जन में सारी बंदिशें देवी भक्तों ने तोड़ दीं। जुलूस भी निकला और डीजे भी बजा, इतना ही नहीं जगत माता के जयकारों के साथ रंग और गुलाल भी जमकर उड़ा। हजारों की संख्या में देवी भक्तों का हुजूम

विसर्जन के लिए देवी प्रतिमाओं को विमान पर बैठाकर ले जाते देवी भक्त

मातारानी के दर्शन के लिए विसर्जन रूट में सड़क के दोनो छोरों पर खड़ी रही। नौ दिनों तक देवी प्रतिमाओं की पूजा-अर्चना करते के बाद जब उनकी विदाई का समय आया तो श्रद्धालुओं का मन भारी हो गया था। बावजूद इसके पूरे उत्साह में गाजे-बाजे और धूमधड़ाके के साथ विसर्जन जुलूस निकाला गया। यह बात दीगर रही कि दुर्गा विमानों में कुछ फासला नजर आया। विसर्जन जुलूस में हजारों की संख्या में देवी भक्त डीजे की धुन पर थिरकते हुए और रंग गुलाल उड़ाते हुए नजर आए। केन नदी में दुर्गा प्रतिमाओं का विसर्जन किया गया। इस मौके पर नौ दिन तक लगातार मां की सेवा करने वाले भक्तों की विसर्जन के समय आंखें नम हो आईं। विसर्जन जुलूस के दौरान पुलिस प्रशासन बिल्कुल सतर्क नजर आया और देर रात तक दुर्गा प्रतिमाओं का विसर्जन शांतिपूर्ण तरीके से संपन्न हो गया। 


शारदीय नवरात्र महोत्सव बुंदेलखंड का सबसे बड़ा आयोजन माना जाता है। कोरोना काल में यह काफी फीका नजर आया। नवरात्र के लिये दो-तीन महीने पहले से तैयारियां होती हैं ताकि मां की आराधना का यह पर्व सकुशल निपटे। नौ दिनों तक लगातार मां के साज और श्रंगार के बाद दसवें दिन सोमवार को मां के विमान तैयार किये गये। सुबह 10 बजे से विमानों में सवार मां दुर्गा की प्रतिमाएं पद्माकर चैराहा व बलखंडीनाका चैराहा स्थित श्रीधाम में एकत्र होना शुरू हुईं। टोकन वितरण बाद दोपहर तकरीबन 2 बजे इन विमानों को विसर्जन घाट की ओर रवाना किया गया। ढोल नगाड़ों व देवी गीतों की धुन पर नाचते-गाते दुर्गा पांडालों के आयोजक विसर्जन को निकल पड़े। रास्ते भर न केवल गुलाल हवा में उड़ाया गया, बल्कि एक दूसरे के चेहरों पर भी खूूूब गुलाल मला गया, जगह-जगह आतिशबाजी हुई। इस पूरे आयोजन में महिलाओं ने भी खूब हिम्मत और दिलेरी दिखाई। शहर में इस बार कई प्रतिमाओं की स्थापना से लेकर अन्य सहयोग में महिलाओं का विशेष योगदान रहा। विसर्जन के मौके पर भी महिलाएं पीछे नहीं रही। केन नदी स्थित विसर्जन घाट का नजारा कुछ अजीब दिखा, जहां एक ओर आयोजक घाट तक नाचते-कूदते पहुंचे, वहीं नाव में विसर्जन को सवार होते ही आंखें नम हो गई। विसर्जन जुलूस में किसी प्रकार का भी झगड़ा-फसाद न होने पाये इसके लिये चप्पे-चप्पे पर पुलिस फोर्स की भारी व्यवस्था की गई थी। 

दुर्गा कमेटियों के अध्यक्षों को शील्ड देकर सम्मानित करते केंद्रीय कमेटी के पदाधिकारीगण

श्रद्धालुओं को वितरित किया गया प्रसाद 

बांदा। विसर्जन जुलूस के रास्ते भर विभिन्न लोगों के द्वारा मूर्ति आयोजकों के लिये ठंडे पानी के साथ ही पुलाव, खीर, हलवा, चना, लाई, पेठा और दालमोठ आदि के प्रसाद का प्रबंधन किया गया था। आयोजकों को मौके पर ट्रे में यह प्रसाद पहुंचाया गया। आयोजकों ने भी इस प्रसाद को मन भरके पाया। इसके लिये विभिन्न व्यापारियों का सहयोग रहा। व्यापारियों ने विसर्जन जुलूस वाले रास्ते में पहले से ही टेंट आदि लगवाकर छाया का भी प्रबंध किया था। 


जामा मस्जिद के बाहर रही कड़ी सुरक्षा व्यवस्था 

बांदा। केंद्रीय पूजा महोत्सव समिति व जिला प्रशासन के बीच हुई कई बैठकों के बाद निर्धारित रूट पर सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए। जिला प्रशासन ने ऐतिहासिक जामा मस्जिद की किलेबंदी करके पूरी तरह से ढक दिया था, ताकि कोई अप्रिय घटना न हो सके। जामा मस्जिद के सामने डिवाइडर के सहारे टीन व काली पालीथिन लगाकर पूरी तरह से ढक दिया गया था। वहीं सुरक्षा व्यवस्था का केंद्र भी जामा मस्जिद के इर्दगिर्द ही खास दिख रहा था। जामा मस्जिद के आसपास के सभी रास्ते बंद करके भारी पुलिस बल की तैनाती की गई थी। 

सपा ने वितरित किया बिस्कुट और पेठा 

देवी भक्तों को बिस्कुट और पेठा वितरित करते सपा नेता ओमनारायण विदित

बांदा। जिला समाजवादी पार्टी द्वारा देवी प्रतिमा विसर्जन रूट पर स्टाल लगा कर सभी श्रद्धालुओं को पेठा, बिस्कुट व पानी का वितरण किया गया। इससे विसर्जन शोभायात्रा में शामिल देवी भक्तों को काफी राहत मिली। वितरण के दौरान सपा जिलाध्यक्ष विजयकरण यादव, पूर्व प्रदेश सचिव ओमनारायण त्रिपाठी विदित, प्रियांशु गुप्ता, राजेन्द्र यादव, जितेंद्र सिंह, अशोक श्रीवास, राजन चंदेल, निर्भय सिंह मोंटी, विवेक परिहार, आशीष श्रीवास्तव, जन्मेजय सिंह आदि मौजूद रहे। 

बबेरू के घसिला तालाब में दुर्गा प्रतिमा विसर्जित करते देवी भक्त

बबेरू: घसिला तालाब में दुर्गा प्रतिमाएं विसर्जित 

बबेरू। कस्बे में विराजमान मां दुर्गा की प्रतिमाओं का सोमवार को हवन-पूजन के बाद शोभायात्रा निकाली गई और दुर्गा प्रतिमाओं का घसिला तालाब में विसर्जन किया गया। देवी विसर्जन को लेकर उप जिलाधिकारी सौरभ शुक्ला, क्षेत्राधिकारी आनंद कुमार पांडेय, प्रभारी निरीक्षक जयश्याम शुक्ला की मौजूदगी में कस्बे के अतर्रा रोड घसिला तालाब में दुर्गा प्रतिमाओं का विसर्जन किया गया। दुर्गा पंडालों पर सुबह से ही हवन-पूजन का सिलसिला जारी रहा। कस्बे में लगभग दो दर्जन छोटी बड़ी दुर्गा प्रतिमाएं पंडालों पर स्थापित की गई थीं। दुर्गा समिति के केंद्रीय अध्यक्ष शिवविलास शर्मा ने शांतिपूर्वक विसर्जन पर सभी का आभार जताया। 


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages