एसओजी टीम व नारखी पुलिस की संयुक्त कार्यवाही - - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Sunday, October 25, 2020

एसओजी टीम व नारखी पुलिस की संयुक्त कार्यवाही -

बीजेपी नेता के हत्याकांड का खुलासा , 7 लोग गिरफ्तार 

 हत्याकांड का कारण निकला जमीनी विवाद,  सुपारी किलर व सुपारी देने वाले गए जेल  

 हत्याकांड में परिवार के शक पर तीन लोग जा चुके हैं जेल  

 4 लाख की दी गई थी राशि 

 फ़िरोज़ाबाद, विकास पालीवाल  ।  विगत 16 अक्टूबर  को रात्रि करीब 8 बजे थाना नारखी के कस्वा नगला बीच में  बीजेपी के मंडल उपाध्यक्ष  दयाशँकर गुप्ता उर्फ डीके की कुछ अज्ञात व्यक्तियों द्वारा गोली मारकर हत्या कर दी गयी थी । परिवार द्वारा नामजद किए लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेजा जा चुका था । साथ ही मामले की गहनता के छानबीन की जा रही थी क्योंकि जिन लोगों को जेल भेजा गया था उनके परिजनों ने उनको निर्दोष बताया गया था, जिसके बाद पुलिस को अज्ञात शूटरों की तलाश जारी थी । उक्त घटना में  वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक द्वारा थाना नारखी व एसओजी टीम को हत्या में शामिल शूटरों की तलाश व गिरफ्तारी हेतु निर्देशित किया गया था ।  काफी प्रयास  के बाद मुखबिर की सूचना पर थानाध्यक्ष नारखी व एसओजी टीम द्वारा  हत्या की घटना में प्रकाश में आये शूटरों व उसके साथियों की जानकारी करते  हुये पचोखरा की तरफ से आने वाली दो मोटर साइकिलों पर सवार 04 व्यक्तियों को आलमपुर पुलिया से हिरासत में लिया गया, जिनसे गहनता से पूछताछ की गयी तो उन्होंने अपना नाम पता बताते हुये नगला बीच में हुये दयाशंकर गुप्ता उर्फ डी.के. की हत्या को स्वीकार करते हुये हत्याकाण्ड के पीछे व्यक्तियों का नामपता बताते हुये सनसनीखेज बातें बतायीं व हत्या कराने वाले व्यक्तियों का नाम ईश्वर देव गुप्ता ,फूल किशोर उर्फ फूले पुत्रगण सुरेश चंद्र गुप्ता निवासी नगला बीच थाना नारखी फिरोजाबाद बताया । 


       एसएसपी सचिंद्र पटेल ने वार्ता के दौरान हत्याकांड का खुलासा करते हुए बताया कि पूछताछ में अभियुक्तगणों द्वारा हत्या कराने का कारण जमीनी विवाद व आपसी मतभेद बताया गया । हत्या कराने में तय की गयी सुपारी की रकम 4 लाख रुपये व 50 गज का एक प्लाट, जिसमें से 60 हजार रुपये घटना से पहले बतौर एडवान्स दिये जाने की बात को स्वीकार किया गया । घटना की पूरी साजिश जीतू उर्फ जितेन्द्र की समर पर रची जाने की बात को बताया गया । वहीं बची हुयी शेष रकम को हत्याकांड का मामला शान्त होने के बाद ईश्वर देव गुप्ता व उसके भाई फूले के द्वारा दिये जाने की बात बतायी गयी । गिरफ्तार अभियुक्त अनिल पण्डित उर्फ गौतम व उसके साथियों से हुई पूछताछ से प्रकाश में आये सुपारी देने वाले व्यक्ति ईश्वर देव गुप्ता व उसके भाई फूले व उसके एक साथी  जितेन्द्र को गिरफ्तार किया गया है । हत्या कराने की बात स्वीकार करते हुये हत्या कराये जाने के पीछे आपसी मतभेद व जमीनी विवाद होना बताया गया । गिरफ्तार शार्प शूटरों ने अपने नाम अनिल पण्डित उर्फ गौतम पुत्र खजान सिहं जाटव नि0 मेङू थाना हाथरस जंक्शन जनपद हाथरस जयकेश उर्फ जैकी पुत्र सन्तोष यादव निवासी जेवङा तिराहा थाना मक्खनपुर , शिशुपाल उर्फ गब्बर पुत्र राजपाल ठाकुर नि0 ग्राम मरसैना थाना पचोखरा फिरो0 हाल पता हीरानगर बाईपास रोङ थाना शिकोहाबाद ( फिरोजाबाद ), बली मौहम्मद पुत्र नसरुद्दीन नि0 रतीगढी थाना नारखी, फिरोजाबाद बताए । वहीं  हत्या कराने वाले गिरफ्तार अभियुक्तों ने अपने नाम ईश्वर देव गुप्ता पुत्र सुरेशचन्द्र गुप्ता नि0 नगला बीच थाना नारखी , फूलकिशोर उर्फ फूले पुत्र सुरेशचन्द्र गुप्ता, जीतू उर्फ जितेन्द्र पुत्र रामपाल सिहं जादौन  निवासीगण नगला सिकन्दर थाना नारखी, फिरोजाबाद बतााए । 

        - इन लोगों ने किया गिरफ्तार  - 

   लोकेन्द्र सिहं ( प्रभारी मीडिया सैल ),  थानाध्यक्ष नारखी विनोद कुमार, एस.ओ.जी.प्रभारी  कुलदीप सिहं , उ.नि  गौरी शंकर पटेल, एसआई आशेष कुमार,  राहुल यादव , नदीम खाँ , रवीन्द्र कुमार (एस.ओ.जी),  पुष्पेन्द्र कुमार ,  राहुल सिंह, आशीष शुक्ला , मुकेश कुमार,  रघुराज सिंह,  अनिल कुमार शामिल रहे ।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages