संचारी रोग नियंत्रण को घर-घर चल रहा अभियान - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Advt.

Tuesday, October 13, 2020

संचारी रोग नियंत्रण को घर-घर चल रहा अभियान

डेंगू, मलेरिया से लोगों को जागरूक कर रहीं आशाएं

बुखार के 229, खांसी के 117 व सांस में तकलीफ के 6 मरीज चिन्हित

बांदा, के एस दुबे । संचारी रोग नियंत्रण अभियान के तहत आशाएं घर-घर जाकर मच्छर जनित रोगों खासकर डेंगू, मलेरिया व दिमागी बुखार से बचाव के बारे में जागरूक कर रहीं। रविवार को कस्बा समेत अन्य गांवों में जाकर लोगों को इससे बचाव की जानकारी दी।

गांव-गांव जाकर सर्वे करते स्वास्थ्य कर्मचारी

स्वास्थ्य विभाग ने संचारी रोग से लड़ने की तैयारी है। कोविड-19 की गाइडलाइन का पालन करते हुए एक से 15 अक्टूबर तक दस्तक अभियान के रूप में लोगों में मच्छर जनित रोगों से बचाव को आमजन को जागरूक कर रहा है। जिला मलेरिया अधिकारी पूजा अहिरवार ने कहा कि शासन के निर्देश पर जनपद में एक अक्टूबर से संचारी रोग नियंत्रण एवं दस्तक अभियान चल रहा है। यह अभियान 31 अक्टूबर तक चलेगा। इस अभियान के तहत आशा, एएनएम और आंगनबाड़ी घर-घर जाकर लोगों को संक्रामक रोगों और उनसे बचाव की जानकारी देकर जागरूक कर रही है। आशाओं को प्रशिक्षण देने के साथ ही ब्लाक स्तर पर बैठकें आयोजित की गई हैं। अगर किसी को बुखार, खांसी आदि की शिकायत मिलती है तो उसकी जांच कर उपचार कराया जा रहा है। 

उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य विभाग के अलावा अन्य विभागों को भी इस जागरूकता पखवारे के दौरान ग्रामीण क्षेत्रों में नालियों और जमा हुए पानी में एंटी लार्वा का छिड़काव और फागिंग कराने की जरूरत है ताकि मच्छरों के पनपने से रोका जा सके। जिला मलेरिया अधिकारी ने बताया कि अभियान के तहत 328174 घरों का सर्वे करने का लक्ष्य है। अभी तक 182736 घरों का सर्वे किया जा चुका है। अभी तक बुखार के 229, खांसी के 117 और सांस लेने में तकलीफ के 6 मरीज चिन्हित किए गए हैं। मरीजों को संबंधित स्वास्थ्य केंद्र में इलाज की सलाह दी गई है।

संक्रामक रोगों से बचाव के तरीके

बांदा। सहायक जिला मलेरिया अधिकारी साहब लाल सिंह का कहना है कि बार-बार साबुन से हाथ धोते रहें। फेस मास्क लगाएं और सोशल डिस्टेंस के लिए दो गज दूरी बनाकर रखें। घरों के आसपास पानी इकट्ठा न होने दें। जहां पर जलभराव हो, वहां पर मोबिल ऑयल या डीजल डालें। रात में सोते समय मच्छरदानी का इस्तेमाल करें। कूलर में पानी बदलते रहे और सप्ताह में एक बार सुखाएं। फ्रीज के पीछे प्लेट में पानी इकट्ठा न होने दें। रात में मच्छरों से बचाव के लिए शरीर को अधिक से अधिक ढकने वाले कपड़े पहनें। बासी भोजन न करके ताजा बने भोजन का सेवन करें। साफ एवं ताजा पानी पीयें, ठंडी चीजों का सेवन करने से बचें।


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages