प्रदेश सरकार की संविधान विरोधी नीतियों के खिलाफ ओबीसी मोर्चा ने दिया धरना - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Advt.

Thursday, October 15, 2020

प्रदेश सरकार की संविधान विरोधी नीतियों के खिलाफ ओबीसी मोर्चा ने दिया धरना

कलेक्ट्रेट आने पर पुलिस नेे रोका, पटेलनगर चैराहे पर लिया ज्ञापन

फतेहपुर, शमशाद खान । प्रदेश सरकार की दमनकारी एवं संविधान विरोधी नीतियों के विरोध एवं अपर निजी सचिव अमर सिंह की बहाली की मांग को लेकर राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) मोर्चा ने आन्दोलन के दूसरे चरण के तहत नहर कालोनी में एक दिवसीय धरना प्रदर्शन किया। जिसमें वक्ताओं ने प्रदेश सरकार केे खिलाफ जमकर जहर उगला। तत्पश्चात नारेबाजी करते हुए हाथों में तख्तियां लिये कलेक्ट्रेट की ओर रवाना हुए। लेकिन पटेलनगर चैराहे पर ही सभी को रोक लिया गया। पदाधिकारियों ने राज्यपाल को सम्बोधित एक ज्ञापन उप जिलाधिकारी को सौंपकर मांगों को पूरा किये जाने की आवाज उठायी। 

पटेलनगर चैैराहे के समीप एसडीएम से वार्ता करते मोर्चा के पदाधिकारी।

राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) मार्चा के जिलाध्यक्ष दिलीप पाल की अगुवई में पदाधिकारियों ने नहर कालोनी परिसर में धरना दिया। धरने को सम्बोधित करते हुए वक्ताओं ने कहा कि अमर सिंह अपर निजी सचिव क पद पर सचिवालय में तैनात थे। सोशल मीडिया के एक मामले में उन्हें बर्खास्त कर दिया गया। जबकि अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता संविधान के आर्टिकल 19 में है। लेकिन सरकार जातिवादी मानसिकता के तहत कार्यवाही कर रही है। वक्ताओं ने कहा कि जब से प्रदेश में बीजेपी सरकार बनी है तब से लगातार पिछड़े वर्गों के ऊपर बलात्कार, हत्या जैसी जघन्य वारदातें हो रही हैं। पिछड़े वर्ग के लोगों को फर्जी एनकाउंटर का भी शिकार बनाया जा रहा है। वक्ताओं ने कहा कि हाथरस में अनुसूचित जाति की बेटी के चार की गयी दरिन्दगी, झांसी में एक बच्ची को पालीटेक्निक कालेज के पास दबंग किस्म के आधा दर्जन लोगों द्वारा किया गया गैंगरेप इसका प्रत्यक्ष उदाहरण है। तत्पश्चात मोर्चा के पदाधिकारी नारेबाजी करते हुए कलेक्ट्रेट के लिए रवाना हुए लेकिन पुलिस ने पहले से ही पटेलनगर चैराहे से लेकर कलेक्ट्रेट तक छावनी बना रखी थी। जिससे पदाधिकारियों को पटेलनगर चैराहे पर ही रोक लिया गया और यहीं पर एसडीएम ने ज्ञापन लिया। ज्ञापन में मांग की गयी कि अपर निजी सचिव अमर सिंह को तत्काल बहाल किया जाये, स्पेशल सिक्योरिटी फोर्स के गठन पर रोक लगाई जाये, सरकारी नियुक्तियों में पांच वर्ष संविधा व्यवस्था कोे लागू न करन, प्रदेश में पिछड़े वर्ग पर हो रहे अन्याय, अत्याचार पर रोक लगाकर दोषियों का कड़ी सजा दिलाये जाने की मांग की गयी। इस मौके पर मुन्ना लोधी, कामता लोधी, महेन्द्र कुमार मौर्य, वीरेन्द्र कुमार, दिलीप पटेल, हिमांशु पटेल, गंगा प्रसाद सिंह लोधी, बालकृष्ण पाल, अमित कुमार, फूल सिंह, अश्वनी यादव आदि मौजूद रहे। 


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages