कंटेनमेंट जोन में धार्मिक आयोजन प्रतिबंधित: डीएम - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Advt.

Monday, October 12, 2020

कंटेनमेंट जोन में धार्मिक आयोजन प्रतिबंधित: डीएम

अमावस्या मेला में नहीं रोक, अधिकारियों को व्यवस्थाएं चैकस रखने के दिए निर्देश

शासन से जारी नई गाइड लाइन के अनुसार दुर्गा मूर्ति स्थापना व विसर्जन, दशहरा आयोजन की अनुमति

चित्रकूट, सुखेन्द्र अग्रहरि। जिलाधिकारी शेषमणि पाण्डेय की अध्यक्षता में आगामी माह अक्टूबर से माह दिसंबर तक मुख्य त्यौहारों में अमावस्या, नवरात्रि दुर्गा पूजा, दशहरा, बारावफात, दीपावली, छठ पूजा, कार्तिक पूर्णिमा एवं क्रिसमस आदि को सकुशल व शासन से जारी गाइड लाइन के अनुसार संपन्न कराए जाने से संबंधित मठ, मंदिर के साधु, संतों, दुर्गा पूजा समिति के सदस्यों एवं संबंधित अधिकारियों के साथ बैठक कलेक्ट्रेट सभागार में संपन्न हुई।

जिलाधिकारी ने कहा कि आगामी अमावस्या के साथ दुर्गा पूजा त्यौहार शुरू हो रहा है। कोविड 19 की महामारी को लेकर खुद बचना है दूसरों को बचाना है। जब तक दवाई नहीं तब तक ढिलाई नहीं। इसको देखते हुए संपन्न कराना है। अभी यह बीमारी खत्म नहीं हुई है। जीवन है तो सब कुछ है। जब जान ही नहीं तो त्यौहार पर्व क्या है। लोगों को बचाने के लिए शासन से जो गाइड लाइन दी गई है उसीके अनुसार अनुपालन सुनिश्चित किया जाएगा।


बैठक में निर्देश देते डीएम।

कहा कि 16 अक्टूबर को जो अमावस्या पड़ रही है उस पर रोक नहीं रहेगी। सभी संबंधित अधिकारी पूर्व अमावस्या मेला की तरह सभी व्यवस्थाएं सुनिश्चित करें। कानून व्यवस्था की दृष्टि से पर्याप्त पुलिस बल भी लगा दिया जाए। दुर्गा पूजा समिति के सदस्यों से कहा कि शासन के निर्देशों के अनुपालन में आयोजन करें। उन्होंने कहा कि गत वर्ष मां मंदाकिनी गंगा पर मूर्ति का विसर्जन नहीं किया था। इस वर्ष भी उन्हीं स्थानों का चिन्हीकरण संबंधित अधिकारी कर लें। बिना अनुमति के कोई भी कार्य न किए जाएं। भरतकूप मंदिर परिसर को परिक्रमा मार्ग की तरह साफ कराया जाए। कूप का सुंदरीकरण हो। उन्होंने कहा कि सभी थानाध्यक्ष यह सुनिश्चित कर लें कि जो शासन से गाइड लाइन प्राप्त हुई है उसकी प्रति सभी दुर्गा पूजा समिति के लोगों को अवश्य उपलब्ध करा दें। ताकि वह अनुपालन सुनिश्चित कर सकें। दीपावली मेला को लेकर भी विचार करना पड़ेगा। जिसके लिए मध्य प्रदेश तथा उत्तर प्रदेश के प्रशासन व साधु-संतों के साथ भी बैठक का आयोजन किया जाएगा। उन्होंने कहा कि कंटेनमेंट जोन में किसी भी त्यौहार विषय गतिविधियों की अनुमति नहीं दी जाएगी। धार्मिक स्थल, रैली, विसर्जन, सांस्कृतिक कार्यक्रम, मेला आदि नहीं होगा। कहां की कोविड-19 से बचने के उपाय से संबंधित पोस्टर, बैनर लगाए जाएं तथा ऑडियो विजुअल के माध्यम से प्रचार-प्रसार भी हो। कहा कि 65 वर्ष से अधिक उम्र के व्यक्तियों, गंभीर रोगों से ग्रसित व्यक्तियों, गर्भवती महिलाओं तथा 10 वर्ष से कम उम्र के बच्चों को घर पर सुरक्षित रहने की सलाह दें। सार्वजनिक स्थलों पर सभी व्यक्ति यथासंभव आपस में छह फीट की दूरी बनाए रखें। फेस कवर, मास्क का प्रयोग अनिवार्यता करें। साबुन से कम से कम 40 सेकंड तक नियमित रूप से हाथ धोएं। सैनिटाइजर का प्रयोग 20 सेकंड तक किया जाए। खांसते छींकते समय मुंह व नाक पर टिशू पेपर, रुमाल, कोहनी का प्रयोग करें तथा प्रयुक्त उक्त चीजों का डिस्पोजल भी किया जाए। सार्वजनिक स्थलों पर थूकने पर सख्ती से पालन किया जाए। आरोग्य सेतु एप का प्रयोग सभी लोग करें। प्रत्येक आयोजन स्थल पर एक पृथक आइसोलेशन कक्ष की भी व्यवस्था की जाए। मूर्तियों की स्थापना पारंपरिक परंतु खाली स्थान पर करें। उनका आकार छोटा रखा जाए। मैदान की क्षमता से अधिक लोग न रहें। अगर कहीं पर समस्या प्राप्त हुई तो उसका अनुमति पत्र निरस्त कर कार्यवाही भी की जाएगी। चैराहों तथा सड़क पर कोई भी मूर्ति, ताजिया न रखी जाए। रामलीला तथा दशहरा से संबंधित सामूहिक गतिविधियों पर कहा कि किसी भी बंद स्थान, हाल, कमरे की निर्धारित क्षमता का 50 प्रतिशत किंतु अधिकतम 200 व्यक्तियों तक को फेस मास्क, सोशल डिस्टेंसिंग, थर्मल स्क्रीनिंग व सैनिटाइजर एवं हैंड वॉश की उपलब्धता की अनिवार्यता के साथ कराया जाए। 

अपर पुलिस अधीक्षक प्रकाश स्वरूप पांडेय ने कहा कि शासन की गाइड लाइन बहुत स्पष्ट है। निर्धारित बिंदुओं पर प्रतिबंधित के साथ त्यौहार को मनाया जाए। सदस्यों से कहा कि विभिन्न बिंदुओं पर शपथ पत्र लेकर अनुमति दी जाएगी। अगर उसमें कोई कोताही बरती गई तो कार्यवाही भी होगी। जिसके लिए आयोजक पूर्ण रूप से जिम्मेदार होंगे। कामदगिरि प्रमुख द्वार के संत मदन गोपाल दास ने कहा कि जिला प्रशासन ने शासन की नई गाइड लाइन का उल्लेख किया है उसका अनुपालन सुनिश्चित किया जाएगा। दिगंबर अखाड़ा के महंत दिव्यजीवन दास ने कहा कि आने वाले मेले तथा त्योहारों में आयोजन के संबंध में जिला प्रशासन के साथ रहकर कार्य करेंगे। बैठक में संबंधित अािकारी, संत-महंत मौजूद रहे।


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages