37339 चयनित प्रतीक्षारत शिक्षक संघर्ष मोर्चा ने प्रदर्शन कर मांगा न्याय - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Tuesday, October 27, 2020

37339 चयनित प्रतीक्षारत शिक्षक संघर्ष मोर्चा ने प्रदर्शन कर मांगा न्याय

तीन माह की अवधि पूरी होने पर सुप्रीम कोर्ट में प्रार्थना पत्र दाखिल करने की उठायी मांग

फतेहपुर, शमशाद खान । 69000 शिक्षक भर्ती परीक्षा में छूटे 37339 प्रतीक्षारत शिक्षक संघर्ष मोर्चा ने कलेक्ट्रेट परिसर स्थित गांधी मैदान में प्रदर्शन किया। प्रदर्शन को लेकर गांधी मैदान के गेट पर पुलिस बल तैनात रहा और सिर्फ पांच सदस्यों के प्रतिनिधि मण्डल को ही डीएम के पास जाने दिया गया। प्रतिनिधि मण्डल ने जिलाधिकारी को एक ज्ञापन देकर बताया कि सुप्रीम कार्ट में सुनवाई पूरी हो गयी है। जिसके तीन माह पूरे हो चुके हैं लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने फैसला नहीं सुनाया। इसलिए सरकार की ओर से सुप्रीम कोर्ट में प्रार्थना पत्र दाखिल करके सभी शिक्षकों की नियुक्ति करवाई जाये। 

गांधी मैदान में प्रदर्शन करते प्रतीक्षारत शिक्षक।

मंगलवार को 37339 प्रतीक्षारत शिक्षक संघर्ष मोर्चा के जिला संयोजक पुष्पराज पासवान व महिला संयोजक सपना पाण्डेय की अगुवई में बड़ी संख्या में प्रतीक्षारत शिक्षक कलेक्ट्रेट पहुंचे और गांधी मैदान में बैठकर जमकर प्रदर्शन किया। तत्पश्चात प्रतिनिधि मण्डल ने जिलाधिकारी को ज्ञापन देकर बताया कि 69000 शिक्षक भर्ती परीक्षा में विशेष सचिव बेसिक शिक्षा द्वारा कट आफ (60-65 प्रतिशत) निर्धारित किया गया था। जिस पर 24 जुलाई 2020 मो सुप्रीम कोर्ट द्वारा सुनवाई पूरी करते हुए तीन माह पूरे हो चुके हैं। लेकिन सुप्रीम कोर्ट द्वारा फैसला नहीं सुनाया गया। जिससे सहायक अध्यापक भर्ती परीक्षा में चयनित हुए 67867 पदों में से सरकार द्वारा 31661 शिक्षकों को नियुक्ति पत्र प्रदान किया जा चुका है। शेष 37339 प्रतीक्षारत चयनित शिक्षकों को अतिशीघ्र सुप्रीम कोर्ट से प्रे करके आर्डर रिलीज कराकर नियुक्ति पत्र प्रदान किया जाये। ज्ञापन में बताया गया कि इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ खण्डपीठ द्वारा पारित आदेश के अनुपालन में एक जून 2020 को 69000 पदांे के सापेक्ष 67867 चयनित शिक्षकों की चयन सूची जारी की गयी थी। जिसमें वह सभी चयनित हैं लेकिन कट आफ विषय पर सुप्रीम कोर्ट द्वारा सुरक्षित फैसला न सुनाये जाने के कारण पिछले तीन माह से शिक्षक बनने हेतु प्रतीक्षारत हैं। मांग की गयी कि सुप्रीम कोर्ट में 24 जुलाई 2020 को सुरक्षित किये गये फैसले को यथाशीघ्र निर्गत किये जाने हेतु प्रार्थना पत्र एक सप्ताह के भीतर दाखिल करवाया जाये। इस मौके पर शिवारचन्द्र तिवारी, देवेन्द्र कुमार, अश्वनी कुमार, रूपेश कुशवाहा, मनीष शुक्ला, स्वतंत्र तिवारी, राहुल मौर्या, स्वाती सिंह, सुरेश चैधरी, संगीता देवी, निधि, रूचि सिंह पटेल, पूजा सिंह, प्रगति सिंह, रूपल गुप्ता आदि मौजूद रहे। 


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages