आत्मनिर्भर बनाने के लिए 23 पथ विक्रेताओं को सौंपे ऋण चेक - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Tuesday, October 27, 2020

आत्मनिर्भर बनाने के लिए 23 पथ विक्रेताओं को सौंपे ऋण चेक

जिले के 187 पथ विक्रेताओं का ऋण स्वीकृत 

कोरोना महामारी से प्रभावित परिवारों को आर्थिक संबल प्रदान करेगी योजना: डीएम 

फतेेहपुर, शमशाद खान । कोरोना महामारी में रेहड़ी-ठेला-पटरी लगाने वाले विक्रेताओ को आजीविका से जोड़ने के लिए भारत सरकार ने प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना की शुरूआत की थी। जिसके तहत रेहड़ी पटरी दुकानदारों को दस हजार रूपये ऋण देने की योजना बनाई गयी थी। इस योजना के तहत जिले के 187 पथ विक्रेताओं का ऋण स्वीकृत हुआ। जिसके तहत मंगलवार को 23 पथ विक्रेताओं को समारोह के बीच जिलाधिकारी, अपर जिलाधिकारी, नगर पालिका अध्यक्ष प्रतिनिधि व अधिशाषी अधिकारी ने दस हजार रूपये ऋण की चेकें सौंपी। चेक पाकर पथ विक्रेेताओं के चेहरे खुशी से खिल उठे और सभी ने योजना की जमकर प्रशंसा की। 

पथ विक्रेताओं को चेक प्रदान करते जिलाधिकारी संजीव सिंह व अन्य।

विकास भवन के सभागार में जिलाधिकारी संजीव सिंह की अध्यक्षता में पथ विक्रेताओं को ऋण वितरण शिविर का आयोजन किया गया। इससे पूर्व पीएम मोदी के वर्चुअल संवाद का लाइव प्रसारण आयोजित किया गया। जिसे उपस्थित सभी लोगों ने देेखा और योजना की प्रशंसा की। योजना के तहत सदर तहसील के 23 पथ विक्रेताओं का ऋण स्वीकृत होने के बाद जिलाधिकारी संजीव सिंह, अपर जिलाधिकारी पप्पू गुप्ता, नगर पालिका परिषद के अध्यक्ष प्रतिनिधि हाजी रजा, अधिशाषी अधिकारी मीरा सिंह व परियोजना निदेशक ने दस-दस हजार रूपये की ऋण चेकों का वितरण किया। समारोह को सम्बोधित करते हुए जिलाधिकारी ने कहा कि प्रधानमंत्री स्ट्रीट वेंडर्स आत्मनिर्भर निधि के अंतर्गत प्रदेश के पीएम-स्वनिधि लाभार्थियों के साथ प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने वाराणसी, लखनऊ एवं आगरा के लाभार्थियों से वीडियों कान्फ्रेन्सिंग करके वर्चुअल संवाद किया। प्रधानमंत्री का कहना है कि आत्मनिर्भर भारत का सपना पूरा करने के लिए वह प्रतिबद्ध हैं। पटरी व्यवसायी आगे बढ़ेंगे तो प्रदेश की अर्थव्यवस्था मजबूत होगी। जिलाधिकारी ने कहा कि योजना के तहत रेहड़ी-पटरी-ठेला आदि पथ विक्रेताओ को रु0 10000 की आर्थिक सहायता दी जाती है। जिसमें किसी गारंटी अथवा स्टाम्प ड्यूटी की आवश्यकता नहीं होती है। इस योजना में ऋण की समय से अदायगी पर और बड़ा ऋण देने का प्राविधान है। यह कोरोना महामारी से प्रभावित परिवारों को अर्थिक सबल प्रदान करने का सराहनीय प्रयास है। बताया कि अब तक कुल 187 पथ विक्रेताओ के लोन स्वीकृत हुए हैं।


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages