पीसीएस परीक्षा पास कर बाबा के सपनों को किया साकार - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Saturday, September 12, 2020

पीसीएस परीक्षा पास कर बाबा के सपनों को किया साकार

चित्रकूट, सुखेन्द्र अग्रहरि। कौन कहता है कि हवाओं का रुख मोड़ा नहीं जा सकता। मन में कुछ कर गुजरने का जुनून, पक्का इरादा और लगन हो तो हवाओं का रुख भी मोड़ा जा सकता है। यह बात साबित करते हुए शहर के द्वारिकापुरी में रहने वाले मृत्युंजय नारायण मिश्रा ने पीसीएस के परीक्षा परिणाम में एसडीएम बनकर अपने बाबा के सपनों को साकार किया है। सदर तहसील क्षेत्र के गांव चकौध निवासी शिक्षक नवल किशोर मिश्रा, माता प्रेम कुमारी मिश्रा के बड़े पुत्र मृत्युंजय नारायण मिश्र ने यह कर दिखाया है। चकौध निवासी स्व श्याम नारायण मिश्रा तुलसी इंटर कॉलेज राजापुर में प्रधानाचार्य रह चुके हैं। जबकि पिता नवल किशोर मिश्रा इसी कालेज में शिक्षक के पद पर तैनात हैं। मौजूदा समय में पूरा परिवार शहर के द्वारकापुरी मोहल्ले में रह रहा है। कक्षा दसवीं तक की शिक्षा कर्वी में ही रहकर की थी। इसके बाद बीएनएसडी शिक्षा निकेतन कानपुर से इंटर उत्तीण किया। कठिन परिश्रम व लगन के साथ

मिष्ठान खिलाकर खुशी जतातीं मां।

2014 में बीएसएफ में असिस्टेंट कमांडेंट पद पर सफलता हासिल की है। वह इस समय रायगंज पश्चिम बंगाल में तैनात हैं। इसी दौरान ही वह पीसीएस तैयारी में लगे रहे। अक्टूबर 2019 में यूपी पीसीएस 2017 के घोषित परिणाम में डीवाईएसपी पद पर इनका चयन हुआ था। शुक्रवार को यूपी पीसीएस 2018 के घोषित परिणाम में एसडीएम के तौर पर सफलता हासिल की मृत्युंजय नारायण मिश्रा का कहना है कि अगर हौसले बुलंद हो मन में कुछ कर दिखाने का जुनून हो तो लाख कठिनाइयों के बावजूद अपने सपनों को आसानी से पूरा कर बुलंदियों तक पहुंचा जा सकता है। बाबा श्याम नारायण मिश्रा की तमन्ना थी कि वह आईएस या पीसीएस में चयनित हो। आज इस सफलता को हासिल कर बाबा के सपनों को साकार कर दिखाया है।


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages