साहित्यकार अध्यापक और पत्रकार हमारी धरोहर: आयुक्त - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Wednesday, September 16, 2020

साहित्यकार अध्यापक और पत्रकार हमारी धरोहर: आयुक्त

जन उद्योग व्यापार संगठन के सम्मान समारोह में बोले मंडलायुक्त 

सम्मान पाकर गदगद नजर आए समाज के प्रहरी 

बांदा, के एस दुबे । साहित्यकार, पत्रकार और अध्यापक हमारे राष्ट्र की धरोहर हैं। इनके बल पर क्षेत्र और प्रदेश तथा देश आगे बढ़ता है और नई ऊंचाइयों को छूता है। इनका मागदर्शन सही रास्तों पर चलने के लिए प्रेरित करता है। इनके बगैर बेहतर समाज की कल्पना नहीं की जा सकती। यह बात चित्रकूटधाम मंडलायुक्त गौरव दयाल ने जन उद्योग व्यापार संगठन की ओर से आयोजित सम्मान समारोह को संबोधित करते हुए कही। 

सम्मान समारोह में पत्रकार पवन तिवारी उर्फ सुनील को सम्मानित करते मंडलायुक्त गौरव दयाल

आयुक्त ने कहा कि साहित्यकार और पत्रकार अपनी कलम से समाज में व्याप्त बुराइयों और लोगों का दर्द उजागर करने का काम करता है। उनके योगदान को कभी भुलाया नहीं जा सकता। समारोह में मौजूद राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित गुप्ता ने कहा कि साहित्यकार अपनी कलम से देश की आजादी के आंदोलन से लेकर तथा सत्ता पर बैठी सरकारें पर भी कटाक्ष करते हैं। राष्ट्र की भावनाओं को अपने शब्दों में पिरोकर राष्ट्र के प्रत्येक नागरिक का मार्गदर्शन प्रदान करने का काम भी इन्हीं के द्वारा किया जाता है। ऐसे साहित्यकारों, पत्रकारों और शिक्षकों का भाषा रत्न, भाषा गौरव और भाषा प्रहरी 2020 से सम्मानित करते हुए संगठन खुद को गौरवान्वित महसूस कर रहा है। सम्मान समारोह के मुख्य अतिथि मंडलायुक्त गौरव दयाल व जिला विद्यालय निरीक्षक विनोद सिंह ने सभी को स्मृति चिंह भेंटकर सम्मानित किया। आयुक्त श्री दयाल ने व्यापार संगठन की पहल की सराहना करते हुए कहा कि हिंदी को सही मायने में साहित्यकार, शिक्षक व पत्रकार ही नए आयाम तक पहुंचाने के प्रयास में जुटे हैं। संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित गुप्ता ने हिंदी को संवारने वालों को राष्ट्र की धरोहर बताते हुए बेहतर समाज की स्थापना का आह्वान किया। इसके पूर्व अतिथियों ने दीप प्रज्वलन कर कार्यक्रम की शुरूआत की। इस मौके पर मनोज पुरवार, राकेश रक्कू, अमित सेठ भोलू, सानू गुप्ता, शंकर दयाल जायसवाल, अजय बरसिया, राजेश केसरवानी, रवि शिवहरे, आदर्श गुप्ता, संजय गुप्ता, संदीप अग्रवाल आदि मौजूद रहे। 


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages