आजादी दिलाने में एक बड़ा नाम शहीद भगत सिंह ......... - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Advt.

Monday, September 28, 2020

आजादी दिलाने में एक बड़ा नाम शहीद भगत सिंह .........

देवेश प्रताप सिंह राठौर 

(वरिष्ठ पत्रकार)

........ भारत देश का हर नागरिक अपने प्रिय भगत सिंह जी को बहुत स्नेह प्यार करता है उनकी शहादत को यह देश कभी भूल नहीं सकता मैंने कुछ इतिहास के पन्नों से शहीद भगत सिंह के संबंध में कुछ निकाला है उस जिसे आपके समक्ष लिख रहा हूं, पूरा देश और देश के बाहर विदेशों में रहने वाले भारतीय यह सब सोचते होंगे भगत सिंह को क्या देश ने आजादी के कर्णधार भगत सिंह को क्या आजादी के बाद किसी सरकार ने उन्हें वह सम्मान नहीं दिया जिस सम्मान के भगत सिंह हमारे हकदार थे  इसमें सिर्फ एक ही नाम भगत सिंह जी का नहीं आता है इसमें कई एक नाम है जैसे सुभाष चंद्र बोस जैसे राजगुरु, सुखदेव, चंद्रशेखर आजाद, वीर सावरकर, बहुत से नाम है जिन्हें देश ने देश की सरकारों ने आजादी के इन महा योद्धाओं को सम्मान वह प्राप्त नहीं हुआ जो सम्मान महात्मा गांधी जवाहरलाल नेहरू को प्राप्त हुआ। आज हमारे देश की आजादी अहिंसा से नहीं मिली है अहिंसा से अगर आजादी मिली होती तो इतने शहीद लोग नहीं होते कितने हिंदू मुस्लिम सिख ईसाई सभी अपने भाई आजादी दिलाने में कितने लोगों ने अपनी जान कुर्बान कर दी है जलियांवाला बाग में आपने देखा किस तरह से निहत्ते भारतीयों को अंग्रेजी हुकूमत ने गोलियां बरसाई थी ,यह आजादी  अहिंसा वादियों के कारण नहीं मिली है, लेकिन हर जगह राजनीत हुई है देश ने हमारे भगत सिंह जी जैसे  महान वीर सपूतों को अच्छा सम्मान आज तक प्राप्त नहीं हो सका हमें कष्ट होता है इतिहास कभी माफ नहीं करेगा उन लोगों को जिन लोगों ने अपने परिवार को अपने घर को अपने सुख को सब त्याग कर देश की आजादी में अपने प्राण न्योछावर कर दिए, तथा अंग्रेज सरकारों को दिखा दिया यह हम क्या क्या कर सकते हैं और उन्होंने असेंबली में जो बम धमाका किया था उसका मकसद सिर्फ अपनी ताकत का इजहार (एहसास)करना था कि हम जब आएंगे अपने में सब कुछ कर सकते हैं परंतु जब भगत सिंह सुखदेव राजगुरु को फांसी दी गई उस समय अंग्रेजी हुकूमत के शासक ने कहा था कि जितनी जल्दी महात्मा गांधी और जवाहरलाल नेहरू को भगत सिंह सुखदेव और राजगुरु को फांसी देने की चिंता है उतनी हमारे अंग्रेजी हुकूमत को नहीं यह सब आप इतिहास को उठाकर पढ़ सकते हैं। मुझे बेहद दुख होता है जो हमारे वीर सपूतों की शहादत पर को लोग राजनीति करते हैं और उन्हें अच्छा सम्मान नहीं मिलता है उसी स्थिति में दिल अंदर से बहुत ही पीड़ा करता है ,। इतनी गंदी सोच सारे नियम कायदे कानून सिर्फ नेहरू परिवार के लिए है गांधी परिवार के लिए है।देश की सरकार भगत सिंह को शहीद नहीं मानती है, जबकि आजादी के लिए अपनी जान न्योछावर करने वाले भगत सिंह हर हिन्दुस्तानी के दिल में बसते हैं।भगत सिंह का जन्म 27 या 28 सितंबर 1907 को लायलपुर जिले के बंगा में हुआ था, जो अब पाकिस्तान में है। उस समय उनके चाचा अजीत सिंह और श्‍वान सिंह भारत की आजादी में अपना सहयोग दे रहे थे। ये दोनों करतार सिंह सराभा द्वारा संचालित गदर पाटी के सदस्‍य थे। भगत सिंह पर इन दोनों का गहरा प्रभाव पड़ा था। इसलिए ये बचपन से ही अंग्रेजों से घृणा करने लगे थे। भगत सिंह करतार सिंह सराभा और लाला लाजपत राय से अत्यधिक प्रभावित थे। 13 अप्रैल 1919 को जलियांवाला बाग हत्याकांड ने भगत सिंह के बाल मन पर बड़ा गहरा प्रभाव डाला।लाहौर के नेशनल कॉलेज़ की पढ़ाई छोड़कर भगत सिंह ने 1920 में भगत सिंह महात्‍मा गांधी द्वारा चलाए जा रहे अहिंसा आंदोलन में भाग लेने लगे, जिसमें गांधी जी विदेशी समानों का बहिष्कार कर रहे थे।



 14 वर्ष की आयु में ही भगत सिंह ने सरकारी स्‍कूलों की पुस्‍तकें और कपड़े जला दिए। इसके बाद इनके पोस्‍टर गांवों में छपने लगे।भगत सिंह पहले महात्‍मा गांधी द्वारा चलाए जा रहे आंदोलन और भारतीय नेशनल कॉन्फ्रेंस के सदस्‍य थे। 1921 में जब चौरा-चौरा हत्‍याकांड के बाद गांधीजी ने किसानों का साथ नहीं दिया तो भगत सिंह पर उसका गहरा प्रभाव पड़ा। उसके बाद चन्द्रशेखर आजाद के नेतृत्‍व में गठित हुई गदर दल के हिस्‍सा बन गए।उन्‍होंने चंद्रशेखर आजाद के साथ मिलकर अंग्रेजों के खिलाफ आंदोलन शुरू कर दिया। 9 अगस्त, 1925 को शाहजहांपुर से लखनऊ के लिए चली 8 नंबर डाउन पैसेंजर से काकोरी नामक छोटे से स्टेशन पर सरकारी खजाने को लूट लिया गया। यह घटना काकोरी कांड नाम से इतिहास में प्रसिद्ध है।इस घटना को अंजाम भगत सिंह, रामप्रसाद बिस्मिल, चंद्रशेखर आजाद और प्रमुख क्रांतिकारियों ने साथ मिलकर अंजाम दिया था। काकोरी कांड के बाद अंग्रेजों ने हिन्दुस्तान रिपब्लिक एसोसिएशन के क्रांतिकारियों की धरपकड़ तेज कर दी और जगह-जगह अपने एजेंट्स बहाल कर दिए। भगत सिंह और सुखदेव लाहौर पहुंच गए। वहां उनके चाचा सरदार किशन सिंह ने एक खटाल खोल दिया और कहा कि अब यहीं रहो और दूध का कारोबार करो।

 वे भगत सिंह की शादी कराना चाहते थे और एक बार लड़की वालों को भी लेकर पहुंचे थे। भगतसिंह कागज-पेंसिल ले दूध का हिसाब करते, पर कभी हिसाब सही मिलता नहीं। सुखदेव खुद ढेर सारा दूध पी जाते और दूसरों को भी मुफ्त पिलाते।

 भगत सिंह को फिल्में देखना और रसगुल्ले खाना काफी पसंद था। वे राजगुरु और यशपाल के साथ जब भी मौका मिलता था, फिल्म देखने चले जाते थे। चार्ली चैप्लिन की फिल्में बहुत पसंद थीं। इस पर चंद्रशेखर आजाद बहुत गुस्सा होते थे।

 भगत सिंह ने राजगुरु के साथ मिलकर 17 दिसंबर 1928 को लाहौर में सहायक पुलिस अधीक्षक रहे अंग्रेज़ अफसर जेपी सांडर्स को मारा था। इसमें चन्द्रशेखर आज़ाद ने उनकी पूरी सहायता की थी।

 क्रांतिकारी साथी बटुकेश्वर दत्त के साथ मिलकर भगत सिंह ने अलीपुर रोड दिल्ली स्थित ब्रिटिश भारत की तत्कालीन सेंट्रल असेंबली के सभागार में 8 अप्रैल 1929 को अंग्रेज़ सरकार को जगाने के लिये बम और पर्चे फेंके थे।भगत सिंह क्रांतिकारी देशभक्त ही नहीं बल्कि एक अध्ययनशीरल विचारक, कलम के धनी, दार्शनिक, चिंतक, लेखक, पत्रकार और महान मनुष्य थे। उन्होंने 23 वर्ष की छोटी-सी आयु में फ्रांस, आयरलैंड और रूस की क्रांति का विषद अध्ययन किया था।हिन्दी, उर्दू, अंग्रेजी, संस्कृत, पंजाबी, बंगला और आयरिश भाषा के मर्मज्ञ चिंतक और विचारक भगतसिंह भारत में समाजवाद के पहले व्याख्याता थे। भगत सिंह अच्छे वक्ता, पाठक और लेखक भी थे। उन्होंने 'अकाली' और 'कीर्ति' दो अखबारों का संपादन भी किया। जेल में भगत सिंह ने करीब दो साल रहे। इस दौरान वे लेख लिखकर अपने क्रांतिकारी विचार व्यक्त करते रहे। जेल में रहते हुए उनका अध्ययन बराबर जारी रहा। उस दौरान उनके लिखे गए लेख व परिवार को लिखे गए पत्र आज भी उनके विचारों के दर्पण हैं। अपने लेखों में उन्होंने कई तरह से पूंजीपतियों को अपना शत्रु बताया है। उन्होंने लिखा कि मजदूरों का शोषण करने वाला चाहें एक भारतीय ही क्यों न हो, वह उनका शत्रु है। उन्होंने जेल में अंग्रेज़ी में एक लेख भी लिखा जिसका शीर्षक था 'मैं नास्तिक क्यों हूं'? जेल में भगत सिंह व उनके साथियों ने 64 दिनों तक भूख हड़ताल की। उनके एक साथी यतीन्द्रनाथ दास ने तो भूख हड़ताल में अपने प्राण ही त्याग दिए थे।23 मार्च 1931 को भगत सिंह तथा इनके दो साथियों सुखदेव व राजगुरु को फांसी दे दी गई। फांसी पर जाने से पहले वे 'बिस्मिल' की जीवनी पढ़ रहे थे जो सिंध (वर्तमान पाकिस्तान का एक सूबा) के एक प्रकाशक भजन लाल बुकसेलर ने आर्ट प्रेस, सिंध से छापी थी। पाकिस्तान में शहीद भगत सिंह के नाम पर चौराहे का नाम रखे जाने पर खूब बवाल मचा था। लाहौर प्रशासन ने ऐलान किया था कि मशहूर शादमान चौक का नाम बदलकर भगत सिंह चौक किया जाएगा। फैसले के बाद प्रशासन को चौतरफा विरोध झेलना पड़ा था। हम आज भगत सिंह की जयंती पर उनके चरणों को छूकर अपने को गर्व महसूस करता हूं भगत सिंह तुम्हारे बलिदान को यह देश कभी भूल नहीं पाएगा राजनीति जितनी हो लेकिन तुम हर व्यक्ति के हर इंसान के हर देशवासी के दिलों में बसते हो तुम्हें किसी नाम की जरूरत नहीं है ना ही सम्मान कोई दे या ना दे रंग देश का 130 करोड़ व्यक्ति आपको हृदय से शत-शत बार प्रणाम करता है और अपने भगत सिंह को दिल में बस आए हुए हैं और पूर्ण सम्मान करता है

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages