खलिहान की जमीन में जानवर बांधने पर दबंगों ने परिवार को पीटा - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Advt.

Tuesday, September 22, 2020

खलिहान की जमीन में जानवर बांधने पर दबंगों ने परिवार को पीटा

सरकारी भूमि पर अवैध रूप से कोठरी बनाकर दबंगों ने किया कब्जा 

पीड़ित ने डीएम को शिकायती पत्र सौंप मुकदमा दर्ज कराने की उठायी मांग 

फतेहपुर, शमशाद खान । ललौली थाना क्षेत्र के ग्राम गंगईपार में खलिहान की भूमि पर अवैध तरीके से कोठरी बनाकर दबंगों ने कब्जा कर लिया है। गांव का ही एक व्यक्ति उक्त भूमि पर जानवर बांधने जा रहा था तभी दबंगों ने उसे जानवर बांधने से मना करते हुए जमीन को अपना बताया। विरोध करने पर दबंगों ने उसके साथ गाली-गलौज की। किसी तरह बचकर पीड़ित घर आ गया तभी दबंग आधा दर्जन से अधिक साथियों के साथ उसके घर पहुंच गये और लाठी-डण्डों से पीटने लगे। बीच-बचाव करने आये परिवारीजनों को भी जमकर मारापीटा। पीड़ित ने डीएम को शिकायती पत्र सौंपकर दबंगों के विरूद्ध मुकदमा दर्ज कराये जाने की गुहार लगायी है। 

डीएम को शिकायती पत्र देने जाते पीड़ित।

मंगलवार को गंगईपार गांव निवासी हसरत पुत्र आशिक अली ने जिलाधिकारी को दिये गये शिकायती पत्र में बताया कि 13 सितम्बर को सुबह आठ बजे वह घर के पास खलिहान में जानवर बांध रहा था। तभी गांव के ही रहने वाले सिराज पुत्र राजेश उर्फ रजा मोहम्मद, संजय खान पुत्र हलीम ने उसको जानवर बांधने से मना किया और कहा कि खलिहान हमारा है। यहां उन्होने अपनी कोठरी बना रखी है। जब हसरत ने कहा कि गलत ढंग से कोठरी बनाई गयी है तो उक्त लोग आग-बबूला हो गये और भद्दी-भद्दी गालियां देने लगे। हसरत किसी तरह जान बचाकर घर पहंुचा। तभी दोनों दबंग रजा मोहम्मद उर्फ चैधरी, सैफ अली पुत्रगण सौखीन, राजेश उर्फ रजा मोहम्मद, अनीस पुत्रगण हलीम, सौखीन पुत्र स्व0 ननका, आरिफ पुत्र बऊवन, अतीक पुत्र राजेश उर्फ रजा मोहम्मद निवासीगण गंगईपार के साथ योजनाबद्ध तरीके से हाथों में लोहे की राड, कुल्हाड़ी व नाजायज असलहा लेकर जान से मार डालने की नियत से दरवाजे पर आ गये और गन्दी-गन्दी गालियां देते हुए मारपीट करने लगे। शोर-शराबा सुनकर निसार अहमद, निसरत अली, हसन पुत्रगण आशिक अली, गुड़िया पत्नी हसन व आशिक अली पुत्र स्व0 छेद्दा बीच-बचाव करने आये तो उन्हे भी दबंगों ने जमकर मारापीटा। जिससे सभी लोग लहुलूहान हो गये। मौका पाकर संजय खान ने उसके घर की आलमारी में रखे 8500 रूपये भी लूट लिये। कुछ देर बाद उसका भाई निसरत आया और पड़ोस के कुछ लोगों की मदद से सभी को ललौली थाने लेकर पहुंचा। जहां दरोगा जी ने मात्र हसरत, निसार, हसन व आशिक को ही जिला अस्पताल में भर्ती कराया जबकि गम्भीर रूप से चुटहिल निसरत, बानो व गुड़िया का मेडिकल नहीं कराया। जिला अस्पताल में भर्ती निसार अहमद की हालत नाजुक देख 15 सितम्बर को डाक्टरों ने उसे कानपुर रिफर कर दिया लेकिन कोरोना संक्रमण के चलते उसे भर्ती नहीं किया गया। पुनः जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। जहां उसका इलाज आज भी चल रहा है। पीड़ित ने आरोप लगाया कि पुलिस ने अभियुक्तों के प्रभाव में आकर कोई कार्रवाई नहीं की। जिसका फायदा उठाकर दबंगों ने चुटहिल निसार, हसरत, हसन व इबरान के विरूद्ध दबाव बनाने की गरज से एक एनसीआर 13 सितम्बर को थाने पर दर्ज करा दी और दबंग तरह-तरह से मुकदमा न दर्ज कराने का दबाव बना रहे हैं। पीड़ित ने जिलाधिकारी से दबंगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराकर गम्भीर रूप से चुटहिलों का मेडिकल परीक्षण कराये जाने की गुहार लगायी है। 


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages