कुपोषण दूर करने को पीएम ने लागू की योजना: सांसद - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Advt.

Monday, September 7, 2020

कुपोषण दूर करने को पीएम ने लागू की योजना: सांसद

पोषण माह का हुआ शुभारंभ

कुपोषित बच्चे के लिए गौशाला से दी जाएगी गाय

चित्रकूट, सुखेन्द्र अग्रहरि। सांसद आरके सिंह पटेल, जिलाधिकारी शेषमणि पाण्डेय तथा मुख्य विकास अधिकारी अमित आसेरी ने सोमवार को राजकीय स्पोर्ट्स स्टेडियम में राष्ट्रीय पोषण माह का शुभारंभ मां सरस्वती के चित्र के समक्ष दीप प्रज्जवलित व माल्यार्पण कर किया। 

सांसद श्री पटेल ने कहा कि कोरोना वायरस महामारी के लंबे समय के बाद कार्यक्रम आयोजित किया गया है। इस महामारी में सरकार व प्रशासन ने मिलकर अच्छा कार्य किया है। इस बीमारी के संबंध में वरिष्ठ चिकित्सकों ने कहा है कि नवंबर दिसंबर माह में और बढ़ने की संभावना है। इस बीमारी से लोग प्रभावित तो हो रहे हैं लेकिन ठीक भी हो रहे हैं। जनपद में भगवान कामतानाथ के आशीर्वाद से कोई भी मृत्यु नहीं हुई है। उन्होंने आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों से कहा कि गांव-गांव पर अच्छा कार्य किया है। प्रधानमंत्री लगातार यह कार्यक्रम तीन वर्ष से चला रहे हैं। उन्होंने इस योजना को लागू कर कुपोषित बच्चों को पौष्टिक आहार देने का काम किया है। इसके साथ ही दो

संबोधित करते सांसद।

बच्चों तक गर्भवती महिलाओं को 6 हजार रूपये खाने पीने के लिए भी दिया जा रहा है। इसका अधिक से अधिक लोगों को लाभ दिलाएं। जिलाधिकारी ने कहा कि पोषण माह की कार्य योजना तैयार की गई है। आशा, एएनएम, आंगनबाड़ियों का गत वर्ष सम्मेलन कराया गया था। विगत वर्ष 20 गांव को कुपोषण से मुक्त कराया है। यह गौरव की बात है। इसके साथ कन्वर्जेंस के विभागों ने भी कार्य अच्छा किया है। इस वर्ष भी 25 गांव कुपोषण से मुक्त किए जाने हैं। आने वाला समय भी चुनौतीपूर्ण है। यह महामारी कम नहीं हुई है। निगरानी समितियों के माध्यम से लोगों को जागरूक करें। सोशल डिस्टेंसिंग व साबुन से हाथ धोना तथा मास्क लगाने के फायदे बताएं। कुपोषित बच्चों के परिवारों को शासकीय गौशालाओं से दूध देने वाली गोवंश को दिया जाना है। उन्होंने जिला पंचायत राज अधिकारी से कहा कि इसके लिए सचिवों को निर्देश जारी कर दें। भरण-पोषण के लिए जो धनराशि प्रति गाय नौ सौ रुपए महीने का दिया जाना है उसे भी दिया जाए। जनपद में पोषण वाटिका भी 200 केंद्रों पर बनाया जा रहा है। किचन गार्डन बनाकर हरी सब्जियां उगाने का कार्य करें। तभी देश का भविष्य बनेगा। सभी दायित्वों को समझे और जनपद से कुपोषण को दूर भगाएं। खासकर मानिकपुर क्षेत्र में फोकस करने की जरूरत है। मुख्य विकास अधिकारी ने कहां कि कुपोषित बच्चों के परिवार का अतिरिक्त ध्यान रखना है। आंगनबाड़ी कार्यकत्री उन परिवारों को प्रेरित कर योजनाओं का लाभ दिलाएं। उन्होंने जिला पंचायत राज अधिकारी से कहा कि सभी सहायक विकास अधिकारी पंचायत तथा सचिवों को निर्देश जारी कर दें कि इस कार्यक्रम का अधिक से अधिक प्रचार प्रसार कराएं। जिला कार्यक्रम अधिकारी बाल विकास मनोज कुमार ने 30 सितंबर तक यह अभियान चलेगा। इसमें एनीमिक महिलाओं व बच्चों पर फोकस किया गया है। इस बार बच्चों की लाल, पीले, हरे के साथ वजन, लंबाई, ऊंचाई भी लेना है। कार्यक्रम का संचालन बाल विकास परियोजना अधिकारी पीड़ी विश्वकर्मा ने किया। कार्यक्रम में सांसद प्रतिनिधि शक्ति प्रताप सिंह तोमर, भाजपा के राज कुमार त्रिपाठी, जिला पंचायत राज अधिकारी संजय कुमार पांडेय, डीसी एनआरएलएम राम उदरेज यादव, जिला विद्यालय निरीक्षक बलिराज राम सहित बाल विकास परियोजना अधिकारी तथा आंगनवाडी कार्यकत्री मौजूद रही।


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages