अहंकार और अहंकारी प्रगति में बाधक............ - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Wednesday, September 2, 2020

अहंकार और अहंकारी प्रगति में बाधक............

देवेश प्रताप सिंह राठौर 

(वरिष्ठ पत्रकार)

.......जीवन प्रगति में मनुष्य का अहंकार बहुत बड़ा बाधक है। इसके वशीभूत होकर चलने वाला मनुष्य प्रायः पतन की ओर ही जाता है। श्रेय पथ की यात्रा उसके लिये दुरूह एवं दुर्गम हो जाती है। अहंकार से भेद बुद्धि उत्पन्न होती है जो मनुष्य को मनुष्य से ही दूर नहीं कर देती, अपितु अपने मूलस्रोत परमात्मा से भी भिन्न कर देती है। परमात्मा से भिन्न होते ही मनुष्य में पाप प्रवृत्तियाँ प्रबल हो उठती है।



रावण की विद्वता संसार प्रसिद्ध है। उसके बल की कोई सीमा नहीं थी। ऐसा नहीं सोचा जा सकता कि उसमें इतनी भी बुद्धि नहीं थी कि वह अपना हित अहित न समझ पाता। वह एक महान बुद्धिमान तथा विचारक व्यक्ति था। उसने जो कुछ सोचा और किया, वह सब अपने हित के लिए ही किया। किन्तु उसका परिणाम उसके सर्वनाम के रूप में सामने आया। इसका कारण क्या था? इसका एकमात्र कारण उसका अहंकार ही था। अहंकार के दोष ने उसकी बुद्धि उल्टी कर दी। इसी कारण उसे अहित से हित दिखलाई देने लगा। इसी दोष के कारण उसके सोचने समझने की दिशा गलत हो गई थी और वह उसी विपरीत विचार धारा से प्रेरित होकर विनाश की ओर बढ़ता चला गया।वैसे तो अहंकारी कदाचित ही उदार अथवा पुण्य परमार्थी हुआ करते है। पाप का गट्ठर सिर पर रखे कोई पुण्य में प्रवृत्त हो सकेगा- यह सन्देहजनक है। पुण्य में प्रवृत्त होने के लिए पहले पाप का परित्याग करना होगा। स्वास्थ्य प्राप्त करने के लिए रोगी को पहले रोग से मुक्त होना होगा। रोग से छूटने से पहले ही यदि वह स्वास्थ्यवर्धक व्यायाम में प्रवृत्त हो जाता है तो उसका मन्तव्य पूरा न होगा।लोक-परलोक का कोई भी श्रेय प्राप्त करने में अहंकार मनुष्य का सबसे विरोधी तत्व है। लौकिक उन्नति अथवा आत्मिक प्रगति पाने के लिए किये जाने वाले प्रयत्नों में अहंकार का त्याग सबसे प्रथम एवं प्रमुख प्रयत्न है। इसमें मनुष्य को यथाशीघ्र तत्पर हो जाना चाहिए। अहंकार के त्याग से उन्नति का मार्ग तो प्रशस्त होता ही है साथ ही निरहंकार स्थिति स्वयं में भी बड़ी सन्तोष एवं शाँतिदायक होती है। जल गयी और रावण मारा गया I रावण बहुत ही ज्ञानी और शिव भक्त था .लेकिन उसमे अहंकार बहुत था वह अपने आगे किसी को कुछ नहीं समझता था I ज्ञान अर्जित करना धन या यश अर्जित करना ये स्वयं आपके लिए है I लेकिन यदि आप अपनी इन विशेषताओं  पर घमंड करते हैं  ,तो आप अपना सबकुछ खो बैठते हैं Iआपके प्रति न वह भाव रह जाता है न वो सम्मान I आपके लिए धन यश शत्रु सामान लगने लगता है Iएक बार विश्वामित्र को घमंड हुआ कि मैं राजर्षि हूँ तो ये दुनिया मेरी मुट्ठी में होनी चाहिए ,विश्वामित्र  ने सोचा तपोबल से ब्रह्मा ऋषि मैं तुरंत बन जाऊँगा इसके लिए जंगल जंगल तपस्या की और वशिष्ठ  से नंदिनी गए मांगने गए क्यूंकि उसकी सेवा से सबकुछ प्राप्त हो सकता था I लेकिन महिर्षि वशिष्ठ ने वो गाय नहीं दी क्यूंकि वे स्वयं उसकी सेवा करते थे I वे किसी और को वो गाय दे भी नहीं सकते थे Iबस विश्वामित्र का क्रोध और अहंकार चरमसीमा पर आ गया I परिणाम स्वरुप उन्हें आदर से नहीं पूजा जाने लगा इसलिए घमंड मनुष्य का सबसे बड़ा शत्रु है I घमंड किसी को आगे बढ़ने ही नहीं देता Iऔर घमंडी व्यक्ति दुसरे को आगे बढ़ते देख भी नहीं सकता Iसिकंदर को बिश्वा विजय की लालसा थी लेकिन वहां भी अपने शौर्य और पराक्रम के मद में चूर रहा और अंत में  मिला क्या ,कब्र में बाहर किये हुए दोनों हाथ , लोगों को ये सीख देने कि जब सिकंदर पृथ्वी पर कुछ ले न जा सका  ,तो संसार में कोई भी कुछ लेकर जा नहीं सकता I घमंड के कारण कितना रक्तपात होता है Iथोड़ी सी आन बान शान पर  महाभारत जैसा युद्ध हो जाता है I इसलिए ज्ञान हो बल हो धन हो या यश  हो इस पर ज़रा भी घमंड न करें Iतब लगातार प्रगति होगी I

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages