विद्यालय से किसी समूह को नहीं दिया गया कपड़ा - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Advt.

Friday, September 25, 2020

विद्यालय से किसी समूह को नहीं दिया गया कपड़ा

समूह की दीदियों ने उप जिलाधिकारी को सौंपा ज्ञापन 

बांदा, के एस दुबे । करीब एक माह से समूह की दीदियां यूनिफार्म की सिलाई का कार्य कर रही है। लेकिन विकासखंड कमासिन में शिक्षा विभाग की ऐसी अनदेखी की अभी तक एक भी विद्यालय से किसी समूह को कपड़ा नही दिया गया। जबकि शासन से आदेश है कि परिषदीय विद्यालयों के नौनिहालों की ड्रेस की सिलाई का कार्य समूह की दिदिया करेगी और बच्चों को ड्रेस वितरण करेगी। राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के अंतर्गत गठित स्वयं सहायता समूह की महिलाओं से सिलाई का कार्य कराए जाने के निर्देश के बाद विद्यालय में संपर्क के बाद कपड़ा उपलब्ध न कराए जाने से समूह की दीदियों में आक्रोश है। शुक्रवार को  समूह की  महिलाओं ने उप जिलाधिकारी  सौरभ शुक्ला को सौपा। 

उप जिलाधिकारी को ज्ञापन सौंपतीं समूह की दीदियां

कमासिन ब्लाक की समस्त आजीविका महिला स्वयं सहायता समूह की महिलाओं ने कहा है कि शासनादेशानुसार सत्र 2020 -21 मे राजकीय,परसदीय प्राथमिक पूर्व माध्यमिक विद्यालय एवं मान्यता प्राप्त विद्यालयों में कक्षा 1 से 8 तक अध्ययनरत छात्र-छात्राओं यूनिफार्म सिलाई का कार्य राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन में पंजीकृत एवं सहायता समूह की महिलाओं से कराने के निर्देश निगर्त हैं। सिलाई हेतु कपड़ा विद्यालयों को देने का निर्देश है विद्यालय से संपर्क करने पर कपड़ा उपलब्ध नहीं कराया जाता है विद्यालय द्वारा रेडीमेड यूनिफॉर्म छात्र-छात्राओं को वितरित की जा रही हैं सिलाई सेंटर से सिली ड्रेसो का वितरण नहीं किया गया। शिक्षा विभाग के द्वारा 213 विद्यालय की सूची दी गई थी। सिलाई के लिए 6 सेंटर भी बनाए गए।इन सेंटर में अलग अलग समूह की 140 दीदियों को सिलाई के लिए लगाया गया। लेकिन अभी तक एक भी विद्यालय से कपड़ा नही दिया गया। जबकि अन्य ब्लाको में स्कूलों द्वारा कपड़ा दिया जा रहा हैऔर दीदी ड्रेस की सिलाई कर यूनिफॉर्म वितरण भी कर रही है। ज्ञापन देने वालों में रेखा देवी मीना कुमारी सुमन देवी गायत्री गुड़िया उषा सिंह मिथिलेश कुमारी कमला गिरजा रामदुलारी कलावती सीमा देवी संगीता नेहा आराधना उत्तरा  देवी मौजूद रहीं।


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages