वक्त का महत्त्व ....................... - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Tuesday, September 8, 2020

वक्त का महत्त्व .......................

देवेश प्रताप सिंह राठौर 

(वरिष्ठ पत्रकार)

.......समय धन से भी ज्यादा कीमती है; क्योंकि यदि धन को खर्च कर दिया जाए तो यह वापस प्राप्त किया जा सकता है हालांकि, यदि हम एक बार समय को गंवा देते हैं, तो इसे वापस प्राप्त नहीं कर सकते हैं। समय की मार वह है मेरा जीवन किसी की मैं से बहुत बुरा समय मेरा मैं मैं अच्छा कुछ कर दिखला सकता था, वह उच्च अधिकारियों के अहंकार से मेरा बहुत ही अच्छा समय वह है जिसमें कुछ करने की अच्छी सोच बन रही थी मुझे अहंकारी के कारण मेरा के कारण मेरा अच्छा समय कुछ अच्छा कर सकता था वह लोगों के अहंकार में वक्त खराब हो गया ,उन जानकारी पिछला सकता हैसमय के बारे में एक सामान्य कहावत है कि, “समय और ज्वार-भाटा कभी किसी की प्रतीक्षा नहीं करते हैं।” यह बिल्कुल पृथ्वी पर जीवन के अस्तित्व की तरह ही सत्य है, अर्थात्, जिस तरह से पृथ्वी पर जीवन का होना सत्य है, ठीक उसी तरह से यह कहावत भी बिल्कुल सत्य है। समय बिना किसी रुकावट के निरंतर चलता रहता है। यह कभी किसी की प्रतिक्षा नहीं करता है।समय पृथ्वी पर सबसे कीमती


वस्तु है, इसकी तुलना किसी से भी नहीं की जा सकती है। यदि एकबार यह चला जाए, तो कभी वापस नहीं आता। यह हमेशा आगे की ओर सीधी दिशा में चलता है और न कि पीछे की ओर। इस संसार में सब कुछ समय पर निर्भर करता है, समय से पहले कुछ भी नहीं होता है। कुछ भी करने के लिए कुछ समय की आवश्यकता होती है। यदि हमारे पास समय नहीं है, तो हमारे पास कुछ भी नहीं है। समय को नष्ट करना इस पृथ्वी पर सबसे बुरी चीज मानी जाती है क्योंकि, समय की बर्बादी हमें और हमारे भविष्य को बर्बाद करती है। हम कभी भी बर्बाद किए हुए समय को फिर से प्राप्त नहीं कर सकते हैं। यदि हम अपना समय बर्बाद कर रहे हैं, तो हम सब कुछ नष्ट कर रहे हैं।कुछ लोग समय से ज्यादा अपने धन को महत्व देते हैं हालांकि, सत्य तो यही है कि समय से ज्यादा कीमती कुछ भी नहीं है। यह समय ही है, जो हमें धन, समृद्धि और खुशी प्रदान करता है हालांकि, इस संसार में कुछ भी समय को नहीं दे सकता। समय का केवल उपयोग किया जा सकता है; कोई भी समय को खरीद या बेच नहीं सकता। बहुत से लोग अपना जीवन अर्थहीन ढंग से जी रहे हैं। वे समय का उपयोग केवल अपने दोस्तों के साथ खाने, खेलने या अन्य आलसी क्रियाओं को करने में करते हैं।इस तरह से वे दिन और वर्षों को व्यतीत करते हैं। वे कभी भी नहीं सोचते कि, वे क्या कर रहे हैं, किस तरीके से कर रहें हैं, आदि। यहाँ तक कि, उन्हें गलत तरीके से समय को बर्बाद करने का भी पश्चाताप भी नहीं होता और कभी उसके लिए अफसोस महसूस नहीं करते हैं। अप्रत्यक्ष रुप से, वे अपना बहुत सा धन और उससे भी अधिक महत्वपूर्ण समय खो देते हैं, जिसे वे कभी भी वापस प्राप्त नहीं कर सकते हैं।हमें दूसरों की गलतियों से सीखने के साथ ही दूसरों की सफलता से प्रेरित होना चाहिए। हमें अपने समय का उपयोग कुछ उपयोगी कामों को करने में करना चाहिए ताकि, हमें समय समृद्धि दे, न कि नष्ट करे।एक आम और सही कहावत है कि, “समय और ज्वार-भाटा किसी का इंतजार नहीं करते हैं”, जिसका अर्थ है कि, समय किसी का भी इंतजार नहीं करता है, सभी को समय के साथ-साथ चलना चाहिए। समय आता है और हमेशा की तरह चला जाता है पर कभी भी रुकता नहीं है। समय सभी के लिए निःशुल्क होता है, लेकिन कोई भी इसे कभी भी न तो बेच सकता है, न ही खरीद सकता है। यह अबंधनीय है, अर्थात् कोई भी इसकी सीमा निर्धारित नहीं कर सकता है। यह समय ही है, जो सभी को अपने चारों ओर नचाता है। अपने जीवन में कोई भी न तो इसे हरा सकता है, और न ही इससे जीत सकता है। समय को इस संसार में सबसे ताकतवर वस्तु कहा जाता है, जो किसी को भी नष्ट या सुधार सकता है। हम लोग वक्त का मजाक उड़ाते हैं किसी पर छींटाकशी करते हैं। परंतु किसी की कमजोरी किसी की गरीबी पर कोई कमेंट नहीं करना चाहिए। पता नहीं कब वक्त का पहिया किधर घूम जाए। व्यक्तिगत जिंदगी में हो या सामाजिक जिंदगी हो वक्त का महत्त्व वक्त पर ही समझ में आता है।एक से वड़ कर राजे रजवाड़े हुए का अंत किस तरह हुआ इतिहास में देखा जा सकता है। बचपन से लेकर जवानी से लेकर बुढ़ापे तक वक्त कितना रंग बदलता है और धीरे-धीरे वक्त एक ऐसे समय पर आकर रुक जाता है। इसका अर्थ आप समझ चुके होंगे इसलिए समय का विशेष ध्यान दें वक्त की मार बहुत बड़ी होती है। इसलिए कभी भी अहिंकार नहीं रखना चाहिए मानवतावादी, इंसानियत भाई चारा अच्छे वचन व्यवहारिकता रखनी चाहिए। इसलिए बात को समझो सबका विश्वास, सबका विकास और सबके साथ मिलजुल कर रहकर भाईचारा बनाए रखना आज के वक्त की जरूरत है।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages