आॅडिट के नाम पर धन वसूली का शिक्षक नेताओं ने किया खुलासा - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Advt.

Friday, September 25, 2020

आॅडिट के नाम पर धन वसूली का शिक्षक नेताओं ने किया खुलासा

बीआरसी मड़ोरा में मची खुलेआम लूट

उरई (जालौन), अजय मिश्रा । भ्रष्टाचार मुक्त अमलों को बनाने की मुहिम को स्वयं आला अधिकारी बट्टा लगाने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं। हाल ही में जिला मुख्यालय से सटे बीआरसी में आॅडिट करने आयी टीम पर शिक्षक संगठनों ने न सिर्फ धन उगाही के आरोप लगाये बल्कि उन्हें बैरंग वापस लौटने को विवश कर दिया। हालांकि मामले के दो दिन बाद बेसिक शिक्षा अधिकारी ने शिक्षकों को समझा बुझाकर आॅडिट कार्य पूर्ण कराया।

गौरतलब हो कि इन दिनों बेसिक शिक्षा विभाग द्वारा जनपद के बीआरसी केंद्रों पर विद्यालयों के आॅडिट का कार्य कराया जा रहा है। जिसके क्रम में शिक्षकों को अपने विद्यालय से संबंधित सभी लेखाजोखा लेकर बीआरसी केंद्र पर पहुंचना होता है। इसीक्रम में गत 22 सितंबर को बीआरसी मड़ोरा में भी आॅडिट का कार्य निपटाने के लिये आॅडिट टीम निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार पहुंची। बताया जाता है कि विभागीय आला अधिकारियों ने आॅडिट टीम की आवभगत के तौर पर शिक्षकों से पैसा एकत्रित कर उनकी सेवा में खर्च करने के लिये पहले से ही

 बीएसए से वार्ता करते शिक्षक नेता।

संकेत दे दिये थे जिसकी जानकारी उप्र प्राथमिक शिक्षक के पदाधिकारियों को हुई तो उन्होंने इस पर अपना विरोध जताया यहां तक कि प्राथमिक शिक्षक संघ के ब्लाक अध्यक्ष बृजेंद्र राजपूत, दीपक पटैरिया, मनीष सेठ, देवेंद्र यादव, राजेश शुक्ला, सिद्धगोपाल राजपूत सहित कई अन्य पदाधिकारी तो बीआरसी मड़ोरा पहुंच गये और धनवसूली को लेकर विरोध जताने लगे। इस बीच आॅडिट टीम मामले को बिगड़ता देख अपना कार्य बीच में ही छोड़कर खाली हाथ लौट गयी। बताया जाता है कि मामले की जानकारी जब बीएसए को हुई तो उन्होंने शिक्षक नेताओं से वार्ता की और उन्हें समझाने बुझाने की कोशिश की और शिक्षकों को इस बात के लिए अपनी सहमति बनाने को कहा कि आॅडिट के दौरान चाय, नाश्ता आदि में खर्च होने वाले पैसे को तो शिक्षक ही जुटायेंगे विभाग इसके लिये कुछ नहीं कर सकता। मामले को लेकर जब बीएसए के सीयूजी नंबर पर जानकारी चाही गयी तो फोन को उनके चालक ने रिसीब करते हुये कहा कि साहब अभी आवश्यक कार्य में व्यस्त है इसलिये उनकी वार्ता नहीं हो सकती।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages