पुलिस भर्ती के अभ्यर्थियों को पुनः मेडिकल परीक्षण कराने के उच्च न्यायालय ने दिये निर्देश - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Advt.

Friday, September 18, 2020

पुलिस भर्ती के अभ्यर्थियों को पुनः मेडिकल परीक्षण कराने के उच्च न्यायालय ने दिये निर्देश

चित्रकूट, सुखेन्द्र अग्रहरि। उच्च न्यायालय इलाहाबाद के न्यायमूर्ति मनोज कुमार गुप्ता ने केन्द्रीय सुरक्षा बलों में सिपाही भर्ती के मामले में अधिवक्ता क्रान्तिकिरन पाण्डेय की बहस सुनने के बाद अभ्यर्थियों का पुनः मेडिकल परीक्षण कराने के आदेश पारित किये हैं। 

गुरुवार 17 सितम्बर को पारित आदेश में उच्च न्यायालय इलाहाबाद के न्यायमूर्ति मनोज कुमार गुप्ता ने अधिवक्ता क्रान्तिकिरन पाण्डेय व अधिवक्ता अवनीश कुमार त्रिपाठी की बहस सुनने के बाद याची अभ्यर्थी बिहार के रुपेश कुमार व चन्दन कुमार आदि की याचिका पर कहा कि केन्द्रीय सुरक्षा पुलिस बल, एसएसएफ, राइफल मैन व असम राइफल को निकाली भर्ती के तहत याचियों ने आॅनलाइन आवेदन किया था। आवेदन में कम्प्यूटर टेस्ट देने को सेन्टर का चयन बिहार के मुजफ्फरपुर जिले में किया था। कम्प्यूटर टेस्ट कराने की जिम्मेदारी कर्मचारी चयन आयोग इलाहाबाद की है। साॅलिसीटर जनरल का कहना था कि इन याचियों का कम्प्यूटर टेस्ट बिहार में हुआ है और ये रहने वाले भी बिहार के हैं। इसलिए मामला उच्च न्यायालय इलाहाबाद में सुनने योग्य नहीं है। अभ्यर्थियों के अधिवक्ता क्रान्तिकिरन पाण्डेय व अवनीश त्रिपाठी ने कहा कि कर्मचारी चयन आयोग बिहार एवं उत्तर प्रदेश का क्षेत्रीय कार्यालय इलाहाबाद है। इसलिए ये मामला उच्च न्यायालय इलाहाबाद के क्षेत्राधिकार में है। 

उच्च न्यायालय के अधिवक्ता क्रान्तिकिरन पाण्डेय।

मामले की पूरी सुनवाई करते हुए न्यायमूर्ति मनोज कुुमार गुप्ता ने आदेश दिया कि उच्च न्यायालय इलाहाबाद के पास इस मामले की सुनवाई का क्षेत्राधिकार प्राप्त है। याची सभी चरणों की परीक्षा में सफल रहा है। परन्तु मेडिकल बोर्ड ने याचीगणों को विभिन्न आधारों पर अनफिट घोषित किया है। आयोग ने याचीगणों को मेडिकल बोर्ड की रिपोर्ट चुनौती देने का मौका दिया। जिला स्तर के सरकारी अस्पताल के विशेषज्ञ डाॅक्टर की फिटनेस रिपोर्ट के साथ रिव्यू मेडिकल परीक्षण को आवेदन करना था, लेकिन आयोग ने जिला अस्पताल से मिले प्रमाण पत्र को अस्वीकार कर दिया। इसी बात को लेकर अभ्यर्थियों ने अपने अधिवक्ता क्रान्तिकिरन पाण्डेय के जरिये उच्च न्यायालय इलाहाबाद में याचिका दायर की। याचिका में उच्च न्यायालय के न्यायमूर्ति ने अभ्यर्थियों का पुनः मेडिकल परीक्षण कराने का निर्देश दिया है। 


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages