कलेक्ट्रेट और सड़क पर नजर आया बेरोजगारों का रेला - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Thursday, September 17, 2020

कलेक्ट्रेट और सड़क पर नजर आया बेरोजगारों का रेला

जिद पर अड़े रहे बेरोजगार, आखिरकार जिलाधिकारी को खुद लेना पड़ा ज्ञापन 

राजनीतिक दलों के लोगों ने भी सरकारी संविदा सेवा नियमावली में बदलाव पर जताया विरोध 

बांदा, के एस दुबे । गुरुवार को बेरोजगार हाथों में तख्तियां लेकर संविदा सरकारी सेवा नियमावली में बदलाव का विरोध करते नजर आए। बेरोजगार कलेक्ट्रेट पहुंचे और जमकर नारेबाजी की। ज्ञापन देने के लिए खड़े बेरोजगारों के सामने जब किसी अन्य अधिकारी को भेजा गया तो बेरोजगार हल्ला मचाने लगे। बाद में जिलाधिकारी आनंद कुमार सिंह खुद पहुंचे और बेरोजगारों का ज्ञापन लिया। इसके अलावा तमाम राजनीतिक दलों के लोगों ने भी

कलेक्ट्रेट की ओर जाते बेरोजगार युवक

अपने-अपने स्तर पर विरोध प्रदर्शन किया। गुरुवार को बेरोजगार युवा सत्याग्रह के तहत सैकड़ों युवा सड़कों पर उतर पड़े। हाथों में केंद्र और प्रदेश विरोधी तख्तियां लेकर युवाओं का हुजूम जुलूस की शक्ल में नारे लगाते हुए कलक्ट्रेट पहुंचा। बेरोजगारी के खिलाफ विरोध-प्रदर्शन में महिलाओं ने भी बढ़चढ़कर भागीदारी की। कलक्ट्रेट में युवाओं ने जमकर नारेबाजी करते हुए संविदा सरकारी सेवा नियमावली में बदलाव पर कड़ा विरोध जताया। बाद में राज्यपाल को संबोधित दो सूत्रीय ज्ञापन जिलाधिकारी आनंद कुमार सिंह को सौंपा। इसके पूर्व बेरोजगार युवाओं ने
जिलाधिकारी आनंद कुमार सिंह को ज्ञापन सौंपते बेरोजगार

सदर विधायक को भी मुख्यमंत्री को संबोधित पांच सूत्रीय ज्ञापन सौंपा। सौंपे ज्ञापनों में कहा है कि सरकार काले कानून के रूप में संविदा कानून को लाने का प्रयास कर रही है। बेरोजगार विरोधी कानून प्रदेश के युवाओं को कतई स्वीकार नहीं है। कहा कि सेवा नियावली में संशोधन किए जाने से कर्मचारियों के शोषण को बढ़ावा मिलेगा। चेतावनी दी कि सरकार ने सेवा नियमावली को अनुमोदित किया तो प्रदेश का बेरोजगार सड़कों पर उतर कर विरोध-प्रदर्शन करेगा। इस मौके पर आनंदमणि त्रिपाठी, शशांक शेखर, विवेक, योगेश, चंद्रभान शुक्ला, प्रत्युष, पंकज निगम, राघवेंद्र साहू, सोमेश समेत तमाम युवा व युवतियां शामिल रहीं। 


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages