बकाया वेतन को लेकर कताई मिल कर्मियों ने बुलन्द की आवाज - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Advt.

Monday, September 28, 2020

बकाया वेतन को लेकर कताई मिल कर्मियों ने बुलन्द की आवाज

धरना देकर मुख्यमंत्री को भेजा ज्ञापन 

फतेहपुर, शमशाद खान । उ0प्र0 सहकारी कताई मिल इम्पलाइज यूनियन के बैनर तले कताई मिल कर्मियों ने बकाया वेतन दिलाये जाने की मांग को लेकर नहर कालोनी परिसर में धरना देकर अपनी आवाज बुलन्द की। तत्पश्चात कलेक्ट्रेट पहुंचकर अपर उपजिलाधिकारी के माध्यम से मुख्यमंत्री को तीन सूत्रीय ज्ञापन भेजकर मांगे पूरी किये जाने की आवाज उठायी। 

धरने को सम्बोधित करते यूनियन के अध्यक्ष रामशरण यादव।

यूनियन के अध्यक्ष रामशरण यादव की अगुवई में कताई मिल कर्मियों ने नहर कालोनी प्रांगण में धरना दिया। धरने को सम्बोधित करते हुए अध्यक्ष श्री यादव ने कहा कि राजकीय मेडिकल कालेज का निर्माण तीव्र गति से हो रहा है। यहां श्रमिक कर्मचारी शासन की नीतियों का सम्मान करते हुए आज तक धरना प्रदर्शन नहीं किया। विगत वर्ष मिल की इम्पलाइज यूनियन ने सीएम को पत्र लिखकर भुगतान की मांग की थी तो आंशिक भुगतान किया गया। आज तक श्रमिक कर्मचारियों का सम्पूर्ण भुगतान प्रबन्धक वर्ग ने नहीं किया। जिससे कर्मचारियों के सामने मुखमरी की समस्या पैदा हो गयी है। वक्ताओं ने कहा कि कोरोना काल में कर्मचारियों के सामने आर्थिक संकट आ गया है। वेतन न मिलने से वह अपने परिवार का खर्च भी नहीं चला पा रहे हैं। जिससे मजबूर होकर धरने का रास्ता अख्तियार करना पड़ा। धरने के पश्चात सीएम को भेजे गये तीन सूत्रीय ज्ञापन में बताया कि श्रमिकों/कर्मचारियों, मृतक आश्रित विधवाओं को वस्त्र निगम के अनुसार बीआरएस का भुगतान एवं पांचवा वेतन आयोग के अनुसार भुगतान न करके प्रबन्धकों ने एक निगरानी समिति बनाकर आंशिक बीआरएस शासनादेश की अनदेखी करके दिया है। इसकी गहन जांच कराकर पुनः वितरण कराया जाये। सात माह 24 दिन का आज के रेट से भुगतान किया जाना न्यायसंगत है तथा श्रम न्यायालय चतुर्थ कानपुर 54000 प्रति श्रमिक 10 प्रतिशत ब्याज सहित भुगतान किया जाये। मांग की गयी कि कर्मचारियों का बकाया वेतन पुनरीक्षित कराकर सकारी कताई मिल के प्रबन्ध निदेशक/सचिव महाप्रबन्धक को शीघ्र आदेश जारी किया जाये। ताकि इस महामारी काल में संगठन के माध्यम से श्रमिक/कर्मचारियों को आन्दोलन का रास्ता न अपनाना पड़े। इस मौके पर रामनरेश यादव, राम बाबू मौर्य, नरेन्द्र पाण्डेय, राम औतार, बन्नू प्रसाद, मनोज, कृष्णदत्त, जयराम, देशराज, रामशरण, फूलचन्द्र, छेदालाल, शफरलाल, महावीर, शिव प्रसाद, राम किशोर, गजेन्द्र प्रसाद, पृथ्वी पाल, संतोष कुमार, अभिषेक, अमर सिंह आदि मौजूद रहे। 


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages