निजीकरण व किसान विरोधी विधेयकों के खिलाफ भीम आर्मी ने किया प्रदर्शन - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Advt.

Thursday, September 24, 2020

निजीकरण व किसान विरोधी विधेयकों के खिलाफ भीम आर्मी ने किया प्रदर्शन

एसडीएम के माध्यम से राष्ट्रपति को भेजा ज्ञापन 

फतेहपुर, शमशाद खान । केन्द्र सरकार द्वारा सरकारी क्षेत्रों के किये जा रहे निजीकरण के साथ ही किसान विरोधी लाये गये विधेयकों के खिलाफ गुरूवार को भीम आर्मी भारत एकता मिशन के पदाधिकारियों ने कलेक्ट्रेट पर प्रदर्शन किया तत्पश्चात एसडीएम के माध्यम से राष्ट्रपति को ज्ञापन भेजकर मांगों को पूरा किये जाने की हुंकार भरी। 

भीम आर्मी भारत एकता मिशन के जिलाध्यक्ष शिव कुमार की अगुवई में बड़ी संख्या में पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता कलेक्ट्रेट पहुंचे। जहां केन्द्र सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन करते हुए राष्ट्रपति को सम्बोधित ज्ञापन एसडीएम को सौंपकर बताया कि केन्द्र सरकार कल्याणकारी राज्य की अवधारणा को छोड़कर जातिवादी एवं पूंजीवादी व्यवस्था को देश पर थोप रही है। जिससे देश कमजोर, शोषित वंचित वर्ग के लोग लगभग बर्बादी की कगार पर खड़े हो गये हैं। ज्ञापन में कहा गया कि दिन प्रतिदिन देश की संवैधानिक व्यवस्था खतरे में नजर आ रही है।

 एसडीएम को ज्ञापन सौंपते भीम आर्मी के कार्यकर्ता।

संस्थानों का निजीकरण करके पूंजीपतियों के आगे नतमस्तक होने में व्यस्त है। आपदा के दौर में किसानों की मदद करने के बजाये सरकार द्वारा किसान विरोधी विधेयकों को बगैर किसी चर्चा के पास किया जाना सत्ता के निरंकुशता का प्रमाण है। राष्ट्रपति से मांग की गयी कि राष्ट्रहित की भावना को ध्यान में रखते हुए सरकारी संस्थाओं, उपक्रमों, विभागों का निजीकरण तत्काल प्रभाव से रोका जाये, निजी क्षेत्रों में अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति अन्य पिछड़ा वर्ग एवं अलपसंख्यक समुदाय को अनुपातिक प्रतिनिधित्व को सुनिश्चित किया जाये, लैटरल इंट्री, आउटसोर्सिंग एवं संविदा जैसी छात्र विरोधी नीतियों को त्यागकर छात्रों, युवाओं को रोजगार सुनिश्चित किया जाये, सफाई कर्मचारियों की अस्थाई नियुक्ति को तत्काल प्रभाव से स्थाई सुनिश्चित किया जाये तथा वर्तमान सत्र में पास किये गये तीनों किसान विरोधी कृषि विधेयकों को तत्काल प्रभाव से रद्द किया जाये। इस मौके पर तमाम लोग मौजूद रहे। 


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages