60 वर्ष की अर्थ व्यवस्था 6 साल में रसातल पर पहुंची: मिश्र - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Saturday, September 5, 2020

60 वर्ष की अर्थ व्यवस्था 6 साल में रसातल पर पहुंची: मिश्र

किसान-मजदूर कार्यवाही दिवस मनाया

चित्रकूट, सुखेन्द्र अग्रहरि। शिक्षक दिवस के अवसर पर उप्र किसान सभा खेत मजदूर यूनियन और सेटर आफ इण्डियन ट्रेड यूनियन के संयुक्त तत्वावधान में किसान, मजदूर कार्यवाही दिवस मनाया जा रहा है। महामारी तो संभल नहीं रही। अर्थ व्यवस्था 60 वर्ष के अथक प्रयास से बनाई गई थी। जिसे मात्र छह वर्ष में रसातल में पहुंचा दिया गया है। गाय, महामारी और पीएम केयर फण्ड के नाम घोटाला बढ़ रहे हैं। देश का धन समेट कर विदेश भागे लोगों का नाम ही नहीं लिया जा रहा। काला धन लाने वालो को चुप करा दिया गया है। 

किसान, मजदूर कार्यवाही दिवस पर आयोजित धरने में आए किसान, मजदूरों को संबोधित करते हुए उप्र किसान सभा के राज्य कार्यकारिणी सदस्य का रुद्रप्रसाद मिश्र ने कहा कि अर्थ व्यवस्था गंभीर मंदी की जकड़ में है। महामारी से देश की जनता चपेट में है। ऐसे में केन्द्र सरकार लोगों को कर्ज लेने की सलाह दे रही है। उन्होंने कहा कि सरकारी कर्मचारियों को जबरन रिटायर कर सार्वजनिक संस्थानों को पूजीपतियों के हाथ सौप कर केन्द्र

संबोधित करते राज्य कार्यकारिणी सदस्य।

सरकार भारत की कमेरी जनता को शोषण का शिकार बनाने के लिए देश के गिनेचुने पूंजीपेतियों को सौप रही है। कहा कि महामारी लगातार बढ़ रही है और कानून व्यवस्था ध्वस्त हो रही है। पड़ोसी देश भारत को आंख दिखाने लगे। यही नहीं महामारी की आड में केन्द्र तथा प्रदेश सरकार मनमाने कानून बना रही है जो जनविरोधी तो हैं ही पूंजीवादी ताकतों को तानाशाही तथा दमन करने का अधिकार दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि ऐसा कदापि नहीं होने दिया जाएगा। यह सब नव उदारवाद पूंजीवाद के कारण हो रहा है। केन्द्र तथा संघ समर्थित राज्य की सरकारें पूंजीवादी ताकतों के इशारे पर नाच रही हैं। जिला सचिव माकपा का देवीदयाल यादव ने कहा कि सरकार की जनविरोधी नीतियों के कारण देशभर में धरना प्रदर्शन हो रहे हैं। रोजगार ठप हो गए हैं। का. रामप्रताप विश्वकर्मा ने कहा कि किसान सम्मान निधि योजना में भेदभाव और भ्रष्टाचार हो रहा है। का. गिरधर ने कहा कि हर जरूरतमंद को दस किग्रा अनाज प्रतिमाह छह माह तक दिया जाए। मनरेगा में दो सौ दिन काम और छह सौ रुपए प्रतिदिन मजदूरी मिले। का. शिवमोहन यादव एड ने कहा कि निजीकरण पर रोक लगे। अधिसूचना के जरिए थोपे जा रहे कानून वापस हो। इस मौके पर मो अली, चुनकूराम पाल एड, देवराज, शिवशंकर, राजेन्द्र प्रसाद, रानू, अनामिका, पूनम, अरुण, राजाराम, रामेश्वर आदि मौजूद रहे।


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages