सावन के आखिरी सोमवार को गूंजा हर-हर-बम-बम - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Monday, August 3, 2020

सावन के आखिरी सोमवार को गूंजा हर-हर-बम-बम

शहर के बामदेवेश्वर मंदिर में श्रद्धालुओं ने टेका मत्था 
गुफा के अंदर विराजमान भोलेनाथ के दूर से हुए दर्शन 

बांदा, के एस दुबे । सावन के आखिरी सोमवार को भगवान भोलेनाथ का दर्शन और उनका अभिषेक करने के लिए भोर होते ही श्रद्धालुओं का रुख बामदेवेश्वर पर्वत की ओर हुआ। पर्वत पर पहुंचकर भगवान शंकर का लोगों ने दूर से दर्शन किया और उनका अभिषेक किया। कोरोना वायरस के चलते गुफा के अंदर तो प्रवेश मिला लेकिन भोलेनाथ के दर्शन दूर से ही करने पड़े। मंदिर कमेटी के स्वयंसेवक भोलेनाथ का दर्शन करने आए श्रद्धालुओं की सेवा में डटे रहे। सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराने का हर संभव प्रयास किया गया, लेकिन श्रद्धालुओं की आस्था के आगे कभी-कभी सोशल डिस्टेंसिंग का सिलसिला भी टूट जाता रहा। बामदेवेश्वर पर्वत में सुबह से लेकर देर रात तक हर-हर-बम-बम का जयकारा गुंजायमान होता रहा। 
भगवान भोलेनाथ का दर्शन करने को उमड़े श्रद्धालु
सावन के आखिरी सोमवार को भगवान भोलेनाथ के भक्तांें ने शहर के बामदेवश्वेर मंदिर में पहुंचकर अपनी हाजिरी लगाई और हर-हर महादेव का जयघोष किया। भक्तों की भीड़ के बीच सोशल डिस्टेंसिंग की जमकर धज्जियां उड़ीं, वहीं ज्यादातर श्रद्धालु बगैर मास्क लगाए ही भगवान की आराधना मंे डटे रहे। सावन के पवित्र महीने में इस खास बात यह रही कि सोमवार से शुरू हुआ सावन का माह सोमवार को ही समाप्त हुआ, इसे श्रद्धालु विशेष संयोग मान रहे हैं। सावन के अंतिम सोमवार को मंदिर में भक्तों की खासी भीड़ रही। हालांकि मंदिर प्रशासन ने कोरोना संक्रमण को देखते हुए विशेष इंतजाम कर रखे थे और भक्तों को शिवलिंग छूने की इजाजत नहीं थी। मंदिर प्रबंधन की ओर से सावन के आखिरी सोमवार को करीब एक कुंतल दूध की खीर और चना का महा प्रसाद वितरित किया। बामदेवेश्वर मंदिर प्रबंधन समिति के अध्यक्ष आशुतोष दीक्षित वीर ने बताया कि भक्तों की
गुफा के अंदर मौजूद स्वयंसेवक
भीड़ को देखते हुुए प्रत्येक दो घंटे के अंतराल में मंदिर परिसर को सेनेटाइज किया जाता है और पूरे सुरक्षा इंतजामों के बीच ही भक्तों को प्रवेश दिया जाता है। लेकिन इसके बाद भी तमाम भक्त कमेटी के सदस्यों की नजर बचाकर बिना मास्क लगाए ही प्रवेश कर लेते हैं और माहौल को खराब करने का प्रयास करते हैं। 
पूरे सावन माह में मंदिर परिसर की व्यवस्था बनाए रखने के लिए महिला व पुरुष पुलिस कर्मी तैनात रहे हैं। भगवान भोलेनाथ के भक्तों ने अपने आराध्य की खूब आराधना की और उनसे कोरोना संक्रमण से मुक्ति दिलाने की कामना की। दोपहर बाद भगवान भोलेनाथ का भव्य श्रंगार किया गया और उनके दिव्य स्वरूप के दर्शन पाकर भक्त अभिभूत हो गए। भक्तों ने प्रसाद ग्रहण किया और भगवान से आशीर्वाद प्राप्त किया। 

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages