सोने की चमक तेज होने से सर्राफा व्यवसाय मंदा - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Tuesday, August 25, 2020

सोने की चमक तेज होने से सर्राफा व्यवसाय मंदा

महंगाई व शादी में बंदिशों के चलते नही आ रहे ग्राहक

प्रतिदिन हो रहा लाखों का नुकसान

फतेहपुर, शमशाद खान । इन दिनों चाहे दस ग्राम सोना लेना हो या एक किलो चांदी दोनों के लिए आपको पचास हजार की रोकड़ देनी पड़ेगी। लाॅकडाउन से पहले फरवरी माह में सर्राफा दुकानों का माल तो निकल गया लेकिन अचानक लाॅकडाउन लगने से बाजार ठप हो गया, जिससे व्यापारियों के हाथ रकम ही रही। ऊपर से अब भाव बढ़ने से पुरानी बुकिंग घाटे के सौदे में तब्दील हो गई। कोरोना के चलते शादी भले ही रद्द हुई हो, लेकिन ग्राहकों ने अपने आर्डर कैंसिल नहीं किए हैं जो व्यापारियों के लिए घाटे का सौदा साबित हुई है। 

मार्च माह में होली के बाद अमूमन बाजार में सुस्ती रहती है। इसके बावजूद दैनिक बिक्री के बाद आई रकम से सर्राफा कारोबारियों ने जैसे-तैसे जेवर का स्टाक मेनटेन करने का प्रयास किया लेकिन इसी महीने में अचानक लाॅकडाउन शुरू हो गया, जिसके चलते व्यापारियों के हाथों में पूंजी ही लगी। ढाई माह बाद जब बाजार खुला तो

सोना 41000 से 50000 तक की ऊंचाई में पहुंच गया। जिससे पुरानी बुकिंग वाले व्यापारी घाटे में चले गए।  इसके अलावा जिन दुकानदारों ने अप्रैल-मई में अपने स्थाई ग्राहकों से जेवर की बुकिंग 41000 रूपये के हिसाब से की थी, उनकी शादी तो हुई नही, लेकिन सोना लेने दुकानों पर आ गए। पहले से बयाना होने के कारण व्यापारियों को घाटे की मार झेलनी पड़ी। कुल मिलाकर सर्राफा व्यापारियों को जो जख्म लाॅकडाउन में मिला उस पर सोने-चांदी के बढ़े दामों ने नमक छिड़कने का काम किया। सर्राफ कमेटी के अध्यक्ष कुलदीप रस्तोगी उर्फ पप्पन व खागा कमेटी के अध्यक्ष कमलेश बाजपेई ने बताया कि फरवरी-मार्च की बुकिंग में दुकानों का माल निकल गया, लेकिन होली की मंदी के बाद अचानक से लाॅकडाउन लगने की वजह से काम ठप हो गया। परिणाम यह रहा कि रोकड़ ही हाथ रह गयी। अनलाॅक में जब बाजार खुला तो सोने चांदी के दाम 50000 रूपये पहुंच गए। यही नहीं दाम बढ़ने से पुरानी बुकिंग नुकसान का सौदा बनी। उधर खागा कमेटी के संरक्षक शिव प्रसाद अग्रवाल ने बताया कि कोरोना के चलते लगाए गए लाॅकडाउन में बाजार बंद रहने से काफी नुकसान हो गया है। 

चांदी का क्या रहा माहौल

फतेहपुर। लाॅकडाउन से पहले मार्च माह में चांदी का भाव 47000 रूपये प्रति किलो था। वहीं होली के बाद की सहालग में सुर्खी पकड़ने पर यह 48000 तक बिकी लेकिन अनलाॅक-1 में दिशावर बाजारों के खुलते ही चांदी पहले 49000 फिर 50000 पहुंच गई।

माह वार क्या रहे सोने के भाव

  • माह सोने का भाव प्रति दस ग्राम 
  • फरवरी 41000
  • मार्च 42000-43000
  • अप्रैल 43900-44000
  • मई 48000 लाॅकडाउन
  • जून 49,700-50000 अनलाॅक-1 में


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages