प्रकृति प्रेमियों ने की पेड-पौधों की पूजा - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Sunday, August 30, 2020

प्रकृति प्रेमियों ने की पेड-पौधों की पूजा

वर्चुअल विचार विमर्श में पर्यावरण संरक्षण पर हुई चर्चा

चित्रकूट, सुखेन्द्र अग्रहरि। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी व कानपुर प्रान्त के प्रचारक रामजी, सीएसए यूनिवर्सिटी कानपुर और पर्यावरण संरक्षण गतिविधि के केंद्रीय सह प्रमुख, शैक्षणिक संस्थान एवं प्रांत संयोजक डॉ उमेश कुमार शुक्ला की प्रकृति वन्दन के लिए की गई अपील का व्यापक असर क्षेत्र में देखने को मिला। चित्रकूट के वनाच्छादित और खुले क्षेत्र में 62 संयुक्त कार्यक्रम सम्पन्न हुए। प्रकृति प्रेमियों ने घरों में पेड पौधों का पूजन किया। चित्रकूट में आयोजित प्रमुख दो कार्यक्रमो में सेवानिवृत्त भूमि संरक्षण अभियंता इं. सत्यकुमार शुक्ला के बाग और प्रथम मुखारबिंद आश्रम के विशाल आध्यात्मिक वन में आयोजन हुआ। इसी क्रम में अन्य कार्यक्रम मंदिरों, मठो, धर्मस्थलों, संत कुटीरों में आसपास के प्रकृति प्रेमी लोगों की उपस्थिति में पूरी निष्ठा के साथ किये गए। 

वृक्ष पूजा करते महंत व प्रकृति प्रेमी।

इस अवसर पर आयोजित वर्चुअल विचार विमर्श मंच के माध्यम से सर्वप्रथम उपस्थित लोगों ने राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के सरसंघचालक मोहन भागवत का मार्गदर्शक व्याख्यान सुना। तत्पश्चात प्रकृति वंदन  के घोषित कार्यक्रम के अनुसार पेड पौधों का पूजन अर्चन किया। स्थानीय कार्यक्रम के मुख्य वक्ता डॉ उमेश कुमार शुक्ला ने प्रकृति की बढ़ती समस्याओं पर प्रकाश डालते हुए कहा कि प्रकृति संरक्षण की युगानुकूल आवश्यकता है। प्रकृति संरक्षण पर केंद्रित प्रकृति वंदन कार्यक्रम केवल पेड़, पौधे की रक्षा का काम नहीं बल्कि जल, जंगल, जमीन, जन और जानवरों के संरक्षण का अभियान भी है। देश के प्रधानमंत्री और राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के सरसंघचालक के इस कार्यक्रम से जुड़ने के कारण केवल कानपुर प्रान्त मात्र से लगभग 4 लाख लोगों ने अपना रजिस्ट्रेशन कराया है। पर्यावरण संरक्षण गतिविधि के पेड़ आयाम प्रमुख संत मदन दास महाराज प्रथम मुखारविंद कामदगिरि ने कहा कि प्रकृति संरक्षण के लिये जन सहभागिता के कार्यक्रम से व्यवहारिक रूप से लाभ मिलेगा। 


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages