खाद की किल्लत: सहकारी समिति में किसानों की रेलमपेल - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Thursday, August 27, 2020

खाद की किल्लत: सहकारी समिति में किसानों की रेलमपेल

कोरोना संक्रमण का भय किसानों में नहीं दिखा 

पुलिस की देखरेख में हुआ खाद का वितरण  

ओरन, के एस दुबे । किसानों को ओरन और बिसंडा सहकारी समिति में खाद लेने के लिए संघर्ष करना पड़ रहा है। वहीं यूरिया खाद के अभाव के चलते धान की फसल प्रभावित हो रही है। समितियों पर सीमित मात्रा में पहुंचने वाली खाद भी हाथों हाथ बिक जाती है। यूरिया खाद की कमी से किसानों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। केंद्रों पर खाद पाने के लिए किसानों की लंबी लाइनें लगी देखी जा रही हैं। धान की रोपाई समापन की ओर है। खाद के लिए मची रेलमपेल के दौरान कोरोना संक्रमण का भय किसानों में कतई नजर नहीं आया। 

सहकारी समिति में खाद के लिए मची किसानों की रेलमपेल

गेहूं के खेतों धान रोपाई कर किसान उनमें खाद डालने की तैयारी कर रहा है। खाद की खपत एक साथ होने से यूरिया खाद का टोटा हो गया है। समिति पर खाद न होने से किसान बाजार से महंगे दामों पर यूरिया खाद खरीदने को मजबूर हैं। समितियों पर सीमित मात्रा में पहुंचने वाली खाद भी ऊंट के मुंह में जीरा साबित हो रही है। समिति पर खाद से भरा ट्रक भी तुरंत खाली हो जाता है। ऐसे में काफी किसान खाद पाने से वंचित रह जाते हंै। सुबह से ही किसानों की लंबी लाइनें खाद पाने के लिए लगती हैं। घंटों लाइन में लगे रहने के बाद उन्हें नाम मात्र को ही खाद मिल पाती हैं। खाद न मिल पाने से खेतों में रोपी गई धान की फसल भी प्रभावित हो रही है। किसान खाद पाने के लिए समितियों के चक्कर काटने को मजबूर हैं। आवश्यकता के समय यूरिया की किल्लत होने से किसानों में नाराजगी देखी जा रही है। वहीं ओरन सहकारी समिति में जिला कृषि अधिकारी ने टीम भेजकर खाद का वितरण करवाया। ओरन सहकारी समिति के सचिव रमेश चंद्र व्दिबेदी का कहना कि यूरिया खाद की कमी है। हमने जिले के अधिकारी खाद भेजने के लिए कहा। जिससे किसानों को खाली हाथ बैरंग ना लौटाना पड़े। सभी किसानों को खाद मिल सके। वही ओरन पुलिस ने चैकी प्रभारी वीर प्रताप सिंह मौके रह कर किसानों को खाद का वितरण करवाया।


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages