चहुंओर रहा आजादी का उल्लास - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Advt.

Sunday, August 16, 2020

चहुंओर रहा आजादी का उल्लास

डीएम ने कलेक्ट्रेट में ध्वजारोहण कर शहीदों को किया नमन

वृक्षारोपण, ऑनलाइन प्रतियोगिता, फल वितरण, क्रास कंट्री दौड आदि हुए कार्यक्रम

चित्रकूट, सुखेन्द्र अग्रहरि। स्वतंत्रता दिवस के 74वें समारोह पर जिलाधिकारी शेषमणि पाण्डेय ने कलेक्ट्रेट तथा कैंप कार्यालय में ध्वजारोहण किया।

जिलाधिकारी ने कहा कि वैश्विक महामारी को देखते हुए हर्षोल्लास के साथ स्वतंत्रता दिवस मना रहे हैं। देश की तरह-तरह की चुनौतियों से लोग लड़ रहे हैं। निरंतर स्वतंत्रता दिवस में अवलोकन करते रहना चाहिए कि अमर शहीदों ने क्या किया है। परिकल्पना पर प्रकाश डाल कर कार्यों को करना चाहिए तथा अमर शहीदों को नमन करते हुए कार्यों के प्रति सजग रहकर कार्य करें। महापुरुषों ने युवावस्था में ही देश को आजाद कराने पर शहीद हुए। उन्हें नमन करें। आज भी जो देश में चारों तरफ से घेर का दौर चल रहा है उन चुनौतियों को भी एकजुट होकर लड़ना होगा। देशभक्ति, समाज के हित व आने वाले पीढ़ियों को ध्यान में रखकर अपने राष्ट्र को मजबूत करने का कार्य करें। इस कोरोना महामारी को देखते हुए सब कार्य कर रहे हैं। इस विषम परिस्थितियों में चिकित्सक, पुलिस, सफाई कर्मी, पत्रकार आदि लोग बढ़चढ़ कर कार्य कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि यह धरती भगवान श्रीराम की तपोभूमि है। इसको हरा-भरा बनाए रखने के लिए अधिक से अधिक वृक्षारोपण कराएं। 


अपर जिलाधिकारी जीपी सिंह ने स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों को श्रद्धांजलि अर्पित की। उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी के बीच हर्ष और उल्लास के साथ पूरा देश स्वतंत्रता दिवस मना रहा है। जब से देश स्वतंत्र हुआ तो हर क्षेत्र में अच्छी प्रगति की है और प्रगतिशील देशों पर आगे खड़े हैं।  आजादी हमें मिली है यह एक धरोहर है। भारत के नागरिक होने के नाते स्वतंत्रता का दुरुपयोग न करें। देश की प्रगति में बहुमूल्य योगदान देकर कार्य करें। अपर उप जिलाधिकारी नवदीप शुक्ला ने कहा कि इस कोरोना महामारी को देखते हुए कर्तव्यों का निर्वहन करें। कोरोना को देखते हुए दो गज की दूरी बनाए। मास्क व सेनेटाइजर का प्रयोग करें। तभी इस बीमारी से बच सकते हैं। वरिष्ठ कोषाधिकारी शैलेश कुमार ने कहा कि 15 अगस्त  1947 को आजादी मिली। स्वतंत्रता का मूल अर्थ कर्तव्य और लक्ष्य व दायित्वों से समाज के उत्थान पर कार्य करने का है। अपने कर्तव्यों को निष्ठापूर्वक निभाएं। तभी स्वतंत्रता का वास्तविक अर्थ पूर्ण कर सकते हैं। इसके पूर्व राजकीय बालिका इंटर कॉलेज कर्वी की छात्राओं शिक्षिकाओं द्वारा राष्ट्रगान व देशभक्ति गीतों की प्रस्तुतियां दी। जिलाधिकारी तथा अपर जिलाधिकारी ने उन्हें पुरस्कृत भी किया। इसके बाद वृक्षारोपण कार्यक्रम हुआ। 

इसके पूर्व स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर प्रातः 7 बजे संपूर्ण निकाय क्षेत्र में मलिन बस्तियों पर विशेष सफाई अभियान, 9 बजे सरकारी एवं गैर सरकारी इमारतों पर ध्वजारोहण एवं राष्ट्रगान, 9ः30 बजे क्रास कंट्री दौड़ स्टेडियम से देवांगना घाटी तक एवं वापस देवांगना घाटी से स्टेडियम तक, वृक्षारोपण, 10 बजे समस्त विद्यालयों पर ध्वजारोहण तथा चिकित्सालय में मरीजों को फल वितरण, वृद्धा आश्रम शिवरामपुर में फल वितरण कार्यक्रम, 11 बजे दृष्टिहीन बालिका विद्यालय शंकर बाजार करबी में बच्चों को फल वितरण कार्यक्रम, अपराह्न 1 से 2 बजे तक नगर एवं ग्रामीण क्षेत्र की शिक्षण संस्थाओं के प्रधानाध्यापक एवं प्रधानाचार्य द्वारा छात्र-छात्राओं के मध्य ऑनलाइन स्वतंत्रता दिवस एवं स्वच्छता के प्रति जागरूकता के प्रयास तथा गंदगी मुक्त भारत अभियान विषयक प्रतियोगिताओं का आयोजन कराया गया।

ध्वजारोहण करते व छात्राओ को पुरस्कृत करते डीएम।
सीडीओ ने जन सूचना पट का किया अवलोकन

चित्रकूट। मुख्य विकास अधिकारी अमित आसेरी ने विकासखंड कर्वी की ग्राम पंचायत बनाडी के मजरे शेषन पुरवा में उत्तर प्रदेश राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन के अंतर्गत स्वयं सहायता समूहों द्वारा निर्मित जन सूचना पट का अवलोकन एवं समूह की महिलाओं के सशक्तिकरण को उत्साहवर्धन किया। 

डीआरआई प्रकल्पो में शान से लहराया तिरंगा

चित्रकूट। 74वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर दीनदयाल शोध संस्थान के प्रकल्प आरोग्यधाम, उद्यमिता विद्यापीठ, सुरेंद्रपाॅल ग्रामोदय विद्यालय, गुरुकुल संकुल, रामनाथ आश्रमशाला एवं सियाराम कुटीर सहित जन शिक्षण संस्थान, कृषि विज्ञान केन्द्रों में हर्षोल्लास के साथ ध्वजारोहण कर मिष्ठान का वितरण हुआ। हालांकि पिछले वर्ष की तुलना में कोरोना संक्रमण के चलते सीमित संख्या में ही कार्यकर्ता रहे। संगठन सचिव अभय महाजन सियाराम कुटीर के ध्वजारोहण कार्यक्रम में सम्मिलित हुए। इस दौरान उन्होंने कहा कि भारतरत्न नानाजी देशमुख ग्रामीण पुर्नरचना के काम को हमेशा स्वतंत्रता से जोड़कर देखते थे। कहते थे कि जब तक गांव का प्रत्येक व्यक्ति स्वावलंबी नहीं हो जाता तब तक भारत की स्वतंत्रता अधूरी है। आरोग्यधाम परिसर के ध्वजारोहण कार्यक्रम में कार्यकर्ता कोरोना काल के सुरक्षा मानकों का पालन करते हुए उपस्थित हुए। ध्वजारोहण के पश्चात तिरंगे को नमन करते हुए राष्ट्रगान हुआ। अमर शहीदों के बलिदान एवं राष्ट्रऋषि नानाजी व पंडित दीनदयाल के आदर्शों का स्मरण किया। तत्पश्चात वृक्षारोपण का कार्यक्रम हुआ। 


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages